1. हिन्दी समाचार
  2. दिल्ली
  3. पीएम मोदी के 30 मिनट इंतजार पर महुआ का तंज, हम भी तो 15 लाख के लिए 7 साल से कर रहे हैं वेट

पीएम मोदी के 30 मिनट इंतजार पर महुआ का तंज, हम भी तो 15 लाख के लिए 7 साल से कर रहे हैं वेट

पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के बीच तनातनी बढ़ती जा रही है। बता दें कि चक्रवात यास से हुई तबाही का जायजा लेने के लिए बीते शुक्रवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को बंगाल पहुंचे थे। जहां ममता बनर्जी पीएम की रिव्यू मीटिंग में आधा घंटे की देरी से पहुंची थी।

By संतोष सिंह 
Updated Date

नई दिल्ली। पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के बीच तनातनी बढ़ती जा रही है। बता दें कि चक्रवात यास से हुई तबाही का जायजा लेने के लिए बीते शुक्रवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को बंगाल पहुंचे थे। जहां ममता बनर्जी पीएम की रिव्यू मीटिंग में आधा घंटे की देरी से पहुंची थी। इसके बाद बंगाल के मुख्य सचिव अलपन बंदोपाध्याय को केंद्र ने दिल्ली बुला लिया गया है। इसके मामले को लेकर भाजपा और तृणमूल नेताओं के बीच जुबानी जंग तेज हो गई। टीएमसी नेता महुआ मोइत्रा ने पीएम पर तंज कसते हुए कहा कि 15 लाख के लिए 7 साल से वेट कर रहे हैं, थोड़ा आप भी करें। वहीं अब इस मामले में कांग्रेस पार्टी भी कूद गई है।

पढ़ें :- Azamgarh में दहाड़े अमित शाह बोले- योगी सरकार ने यूपी को माफिया राज से मुक्ति दिलाने का किया काम

बैठक में ममता बनर्जी के देरी से पहुंचने की वजह से मच रहे हंगामे को लेकर टीएमसी सांसद महुआ मोइत्रा ने तंज कसा है। महुआ मोइत्रा ने ट्वीट कर लिखा कि “30 मिनट की कथित देरी पर इतना हंगामा? 15 लाख रुपये के लिए भारतीय 7 साल से इंतजार कर रहे। एटीएम के बाहर घंटों इंतजार कर रहे। वैक्सीन के लिए महीनों से इंतजार कर रहे। थोड़ा आप भी इंतजार कर लीजिए कभी-कभी…।

पश्चिम बंगाल के मुख्य सचिव अलपन बंदोपाध्याय को केंद्र ने दिल्ली बुला लिया गया है। बतौर मुख्य सचिव उनका कार्यकाल खत्म हो गया था, लेकिन चार दिन पहले ही ममता सरकार ने तीन महीने के लिए उनका कार्यकाल बढ़ा दिया था। अलपन बंदोपाध्याय को ममता बनर्जी का करीबी माना जाता है। इस पर कांग्रेस नेता अभिषेक सिंघवी ने निशाना साधा है।

गृहमंत्री अमित शाह ने शुक्रवार को ही ट्वीट किया कि ममता दीदी का आज का आचरण दुर्भाग्यपूर्ण रहा है। चक्रवात यास से प्रभावित लोगों की मदद करना समय की मांग है, लेकिन दुख की बात है कि दीदी ने अहंकार को जनकल्याण से ऊपर रखा। उनका आज का तुच्छ व्यवहार यही दर्शाता है।

20 करोड़ रुपये लिस्ट थमाकर निकल गईं ममता

चक्रवाती तूफान की से हुए नुकसान का जायजा लेने के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने पश्चिमी मेदिनीपुर जिले के कलाईकोंडा में बैठक की थी। इस बैठक में ममता बनर्जी से देरी से पहुंचीं। यही नहीं, उन्होंने 20 हजार करोड़ रुपये के नुकसान की रिपोर्ट दी और ये कहते हुए वापस चली गईं कि उन्हें दूसरी मीटिंग्स में भी शामिल होना है। वहीं, मीटिंग में देरी से पहुंचने पर ममता बनर्जी के ऑफिस की तरफ से कहा गया कि पीएम मोदी को कलाईकोंडा पहुंचने में 20 मिनट से ज्यादा का वक्त लगने वाला था। इसलिए उनसे भी 20 मिनट देरी से आने को कहा गया।

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:
Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक, यूट्यूब और ट्विटर पर फॉलो करे...