1. हिन्दी समाचार
  2. उत्तर प्रदेश
  3. मायावती बोलीं-अंतिम चरण में मतदाता यूपी की तस्वीर बदलने का करेंगे काम

मायावती बोलीं-अंतिम चरण में मतदाता यूपी की तस्वीर बदलने का करेंगे काम

यूपी  विधानसभा चुनाव 2022 (UP Assembly Election 2022) के नौ जिलों में अंतिम चरण की 54 सीटों पर मतदान आगामी सात मार्च होना बाकी है। इससे एक दिन पहले रविवार को बहुजन समाज पार्टी (Bahujan samaj party)  की राष्ट्रीय अध्यक्ष मायावती (Mayawati)  ने कहा कि उनको भरोसा है कि यूपी विधानसभा चुनाव 2022 (UP Assembly Election 2022)  में सातवें चरण के मतदान के दौरान भी मतदाता बेहद सजग तथा सक्रिय रहेंगे।

By संतोष सिंह 
Updated Date

लखनऊ। यूपी  विधानसभा चुनाव 2022 (UP Assembly Election 2022) के नौ जिलों में अंतिम चरण की 54 सीटों पर मतदान आगामी सात मार्च होना बाकी है। इससे एक दिन पहले रविवार को बहुजन समाज पार्टी (Bahujan samaj party)  की राष्ट्रीय अध्यक्ष मायावती (Mayawati)  ने कहा कि उनको भरोसा है कि यूपी विधानसभा चुनाव 2022 (UP Assembly Election 2022)  में सातवें चरण के मतदान के दौरान भी मतदाता बेहद सजग तथा सक्रिय रहेंगे।

पढ़ें :- Mulayam Singh Yadav Net Worth : सत्ता के माहिर खिलाड़ी मुलायम सिंह यादव जानें कितनी संपत्ति के हैं मालिक?

उत्तर प्रदेश की पूर्व मुख्यमंत्री मायावती (Mayawati)   ने भरोसा जताते हुए कहा कि सोमवार को सातवें चरण के मतदान के दौरान मतदाता उत्तर प्रदेश की तस्वीर बदलने का काम करेंगे। मायावती (Mayawati)   ने रविवार को तीन ट्वीट से मतदाताओं को संदेश दिया है। मायावती (Mayawati)   ने कहा कि नौ जिलों के 54 विधानसभा सीटों पर कल सातवें व अन्तिम चरण के मतदान में यहां गरीबी व बेरोजगारी के सताए हुए उपेक्षित लोग अपने वोट की ताकत से अपनी तकदीर व प्रदेश की तस्वीर बदलने का काम कर सकते हैं। जिसके लिए बीएसपी की सर्वजन हिताय व सर्वजन सुखाय की सरकार बनानी जरूरी।

पढ़ें :- क्या लोकसभा चुनाव से पहले बीजेपी के साथ आएगी सुभासपा? डिप्टी सीएम के साथ मंच पर दिखे ओमप्रकाश राजभर

मायावती ने कहा कि जग-जाहिर है कि विरोधी पार्टियों के किस्म-किस्म के लुभावने वादे व आश्वासन सभी घोर वादाखिलाफी साबित हुई है। इनकी सरकारों में यूपी के लोगों के हालात संभलने व वादे के मुताबिक अच्छे दिन लाने के बजाय लगातार बिगड़ती गई है। इसीलिए अब इनके बहकावे में नहीं आना ही होशियारी।

उन्होंने कहा कि विरोधी पार्टियों ने धनबल सहित साम, दाम, दण्ड, भेद आदि सभी प्रकार के हथकण्डों को अपनाकर यूपी के चुनाव को अपने पक्ष में करने का खूब जतन किया, लेकिन जानलेवा महंगाई, गरीबी, बेरोजगारी, सरकार की निरंकुशता व आवारा पशु आदि से पीड़ित जनता अपने बुनियादी मुद्दों पर डटी रही है।

पढ़ें :- Maharashtra: दशहरा रैली में भाजपा और शिंदे पर जमकर बरसे उद्धव ठाकरे, कहा-गद्दार को गद्दार ही कहेंगे

2017 के विधानसभा चुनाव में इन 54 सीटों में से भाजपा ने 29, सपा ने 11, बसपा ने छह, अपना दल (एस) ने चार, सुभासपा ने तीन और निषाद पार्टी ने एक सीट जीती थी। सातवें चरण के रण में उतरे योगी सरकार के आठ वर्तमान मंत्रियों में एक कैबिनेट, दो राज्य मंत्री (स्वतंत्र प्रभार) और पांच राज्य मंत्री स्तर के हैं। पिछड़ा वर्ग कल्याण मंत्री अनिल राजभर वाराणसी की शिवपुर सीट से फिर किस्मत आजमा रहे हैं। स्टांप एवं निबंधन राज्य मंत्री (स्वतंत्र प्रभार) रवींद्र जायसवाल वाराणसी उत्तर, पर्यटन एवं संस्कृति राज्य मंत्री (स्वतंत्र प्रभार) नीलकंठ तिवारी वाराणसी दक्षिण, आवास एवं शहरी नियोजन राज्य मंत्री गिरीश यादव जौनपुर, ऊर्जा राज्य मंत्री रमाशंकर सिंह पटेल मिरजापुर की मडि़हान सीट से चुनाव लड़ रहे हैं। राज्य मंत्री संगीता बलवंत गाजीपुर में सदर व संजीव गोंड सोनभद्र के ओबरा से मैदान में हैं। वन एवं पर्यावरण मंत्री रहे दारा सिंह चौहान विधान सभा चुनाव की घोषणा के बाद मंत्री पद से त्यागपत्र देकर भाजपा छोड़ समाजवादी पार्टी में शामिल हो चुके हैं। वह मऊ की घोसी सीट से सपा प्रत्याशी हैं।

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:
Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक, यूट्यूब और ट्विटर पर फॉलो करे...