HBE Ads
  1. हिन्दी समाचार
  2. दिल्ली
  3. ओडिशा के मुख्यमंत्री नवीन पटनायक ने दिया इस्तीफा, अब BJP बनेगी बीजेपी की सरकार

ओडिशा के मुख्यमंत्री नवीन पटनायक ने दिया इस्तीफा, अब BJP बनेगी बीजेपी की सरकार

लोकसभा चुनाव (Lok Sabha Elections) के नतीजों के साथ ओडिशा विधानसभा चुनाव (Odisha Assembly Elections) के नतीजे भी आ चुके हैं। विधानसभा चुनाव (Assembly Elections) में नवीन पटनायक (Naveen Patnaik) के नेतृत्व में बीजू जनता दल (BJD) को करारी हार का सामना करना पड़ा है।

By संतोष सिंह 
Updated Date

नई दिल्ली। लोकसभा चुनाव (Lok Sabha Elections) के नतीजों के साथ ओडिशा विधानसभा चुनाव (Odisha Assembly Elections) के नतीजे भी आ चुके हैं। विधानसभा चुनाव (Assembly Elections) में नवीन पटनायक (Naveen Patnaik) के नेतृत्व में बीजू जनता दल (BJD) को करारी हार का सामना करना पड़ा है। बीजद (BJD) के हार के बाद ओडिशा के मुख्यमंत्री नवीन पटनायक (Odisha Chief Minister Naveen Patnaik) ने बुधवार को पद से इस्तीफा दे दिया है।

पढ़ें :- EVM की विश्वसनीयता फिर सवालों के घेरे में, मुंबई पुलिस ने शिंदे गुट के सांसद रविंद्र वायकर के साले के खिलाफ FIR दर्ज

ओडिशा के मुख्यमंत्री नवीन पटनायक (Odisha Chief Minister Naveen Patnaik)  ने राज्यपाल रघुबर दास (Governor Raghubar Das) से मिलकर अपना इस्तीफा सौंप दिया है। बीजद को राज्य की कुल 147 सीटों में से उसे केवल 51 सीटें ही मिलीं है, जबकि बीजेपी ओडिशा की 147 सीटों में से 78 सीटें जीत कर प्रदेश में सत्ता में आ गई है। उसने पिछले 24 साल से शासन कर रहे बीजद को बेदखल कर सत्ता छीन ली है। मुख्यमंत्री और बीजद प्रमुख नवीन पटनायक (Naveen Patnaik) हिंजिली विधानसभा सीट से जीत गए, लेकिन कांटाबांजी से चुनाव हार गए हैं।

आयोग के आंकड़ों के मुताबिक कांग्रेस ने 14 सीटें जीतीं जबकि माकपा को एक सीट मिली। निर्दलीय उम्मीदवारों ने तीन सीटें जीतीं। आंकड़ों पर नजर डालें तो बीजद ने 2019 के विधानसभा चुनाव में 113 सीटें, भाजपा ने 23 सीटें और कांग्रेस ने नौ सीटें जीती थीं। भाजपा-बीजद गठबंधन 2000 में ओडिशा में सत्ता में आया था और नवीन पटनायक (Naveen Patnaik) मुख्यमंत्री बने थे। वर्ष 2009 में बीजद ने दोनों दलों के बीच सीट बंटवारे पर बातचीत विफल होने के बाद अपने 11 साल पुराने रिश्ते को तोड़ दिया था। पटनायक ने राज्य में इसके बाद हुए चुनावों में जीत हासिल की थी।

दिलचस्प यह है कि दोनों दलों के बीच सीट बंटवारे पर बातचीत इस साल के लोकसभा और विधानसभा चुनावों से पहले भी शुरू हुई थी, लेकिन यह विफल रही। हालांकि इस बार बीजद सुप्रीमो अपनी पार्टी को जीत नहीं दिला पाए। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने मंगलवार को ओडिशा के लोगों को धन्यवाद दिया और उन्हें आश्वासन दिया कि उनकी पार्टी उनके सपनों को पूरा करने में कोई कसर नहीं छोड़ेगी। ‘एक्स’ पर एक संदेश में प्रधानमंत्री ने कहा कि ‘धन्यवाद ओडिशा! यह सुशासन और ओडिशा की अनूठी संस्कृति का जश्न मनाने की शानदार जीत है। भाजपा लोगों के सपनों को पूरा करने और ओडिशा को प्रगति की नई ऊंचाइयों पर ले जाने में कोई कसर नहीं छोड़ेगी। मोदी ने कहा कि ओडिशा चुनावों में भाजपा के मेहनती कार्यकर्ताओं के प्रयासों पर बहुत गर्व है।

केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह (Union Home Minister Amit Shah) ने भी भगवान श्री जगन्नाथ की पवित्र भूमि की सेवा करने का अवसर भाजपा को देने के लिए ओडिशा की जनता के प्रति हार्दिक आभार व्यक्त किया। केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह (Union Home Minister Amit Shah) ने ‘एक्स’ पर एक पोस्ट में कहा कि ‘प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी (Prime Minister Narendra Modi) के नेतृत्व में प्राप्त यह जीत ‘विकसित भारत, विकसित ओडिशा’ के संकल्प को साकार करेगी।’

पढ़ें :- Maharashtra Politics: महाराष्ट्र की राजनीति में हो सकता है बड़ा उल्टफेर, अजित पवार से दूरी बना सकती है भाजपा

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:
Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक, यूट्यूब और ट्विटर पर फॉलो करे...