1. हिन्दी समाचार
  2. एस्ट्रोलोजी
  3. पंचांग • शुक्रवार, 10 सितंबर, 2021

पंचांग • शुक्रवार, 10 सितंबर, 2021

पंचांग 10/09/21, शुक्रवार यह पृष्ठ 10 सितंबर, 2021 को तिथि, नक्षत्र, अच्छा और बुरा समय आदि दिखाता है।

By प्रीति कुमारी 
Updated Date

पंचांग • शुक्रवार, 10 सितंबर, 2021
विक्रम संवत – 2078, आनंद
शक संवत – 1943, प्लावस
पूर्णिमांत – भाद्रपद
अमंत मास – भाद्रपद

पढ़ें :- Holi ke Upay : इस बार होली पर करें ये 5 उपाय , मनोकामना पूर्ण होगी

तिथि
शुक्ल पक्ष चतुर्थी – सितम्बर 10 12:18 पूर्वाह्न – 10 सितम्बर 09:58 अपराह्न
शुक्ल पक्ष पंचमी – 10 सितंबर 09:58 अपराह्न – 11 सितंबर 07:37 अपराह्न

नक्षत्र
चित्रा – सितम्बर 09 02:31 अपराह्न – 10 सितम्बर 12:58 अपराह्न
स्वाति – सितम्बर 10 12:58 अपराह्न – 11 सितम्बर 11:23 पूर्वाह्न

करण
वनिजा – सितंबर 10 12:18 पूर्वाह्न – 10 सितंबर 11:08 पूर्वाह्न
विष्टी – सितम्बर 10 11:08 पूर्वाह्न – 10 सितम्बर 09:58 अपराह्न
बावा – 10 सितंबर 09:58 अपराह्न – 11 सितंबर 08:47 पूर्वाह्न

योग
ब्रह्मा – सितंबर 09 08:42 अपराह्न – 10 सितंबर 05:42 अपराह्न
इंद्र – 10 सितंबर 05:42 अपराह्न – 11 सितंबर 02:41 अपराह्न

पढ़ें :- Maha Shivratri 2024 : महाशिवरात्रि के दिन करें दूध से भोलेनाथ का अभिषेक, मिलेगा  चमत्कारी फल

वारा
शुक्रवार (शुक्रवार)

त्यौहार और व्रत
गणेश चतुर्थी
चतुर्थी व्रत

सूर्य और चंद्रमा का समय
सूर्योदय – 6:15 AM
सूर्यास्त – 6:31 अपराह्न
चंद्रोदय – सितम्बर 10 9:14 AM
चंद्रास्त – सितम्बर १० ९:०४ अपराह्न

अशुभ काल
राहु – 10:51 पूर्वाह्न – 12:23 अपराह्न
यमगंडा – 3:27 अपराह्न – 4:59 अपराह्न
गुलिका – 7:47 पूर्वाह्न – 9:19 पूर्वाह्न
दुर मुहूर्त – 08:42 पूर्वाह्न – 09:32 पूर्वाह्न, 12:48 अपराह्न – 01:37 अपराह्न
वरज्यम – 06:11 अपराह्न – 07:41 अपराह्न

शुभ मुहूर्त
अभिजीत मुहूर्त – 11:59 पूर्वाह्न – 12:48 अपराह्न
अमृत ​​काल – 06:58 पूर्वाह्न – 08:28 पूर्वाह्न, 03:09 पूर्वाह्न – 04:39 पूर्वाह्न
ब्रह्म मुहूर्त – 04:39 पूर्वाह्न – 05:27 पूर्वाह्न

पढ़ें :- Bangles Astrology Tips : अलग-अलग रंगों की चूड़ियां पहनने से बढ़ता है सौभाग्य, पति की बदल सकती है किस्मत

आनंददी योग
मुसल (मुशाला) दोपहर 12:58 बजे तक
गडा (काडा)

सूर्या रसी
सिंह में सूर्य (सिंह)

चंद्र रासी
चंद्रमा तुला (तुला) के माध्यम से यात्रा करता है

चंद्र मास
अमंता – भाद्रपद
पूर्णिमांत – भाद्रपद
शक वर्ष (राष्ट्रीय कैलेंडर) – भाद्रपद 19, 1943
वैदिक ऋतु – वर्षा (मानसून)
ड्रिक रितु – शरद (शरद ऋतु)

चंद्राष्टम
1. पूर्व भाद्रपद अंतिम १ पदम, उत्तरा भाद्रपद, रेवती

पढ़ें :- Maha Shivratri 2024 : महाशिवरात्रि के दिन करें शिवलिंग पर जलाभिषेक, जीवन में चमत्कार हो जाएगा
Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक, यूट्यूब और ट्विटर पर फॉलो करे...