1. हिन्दी समाचार
  2. बिज़नेस
  3. आम आदमी को राहत: सस्ता हुआ खाद्य तेल, जानिए आज का बाजार भाव

आम आदमी को राहत: सस्ता हुआ खाद्य तेल, जानिए आज का बाजार भाव

एक तरफ कोविड ने देश में तबाही मचा रही है वहीं दूसरी तरफ महंगाई ने आम आदमी की कमर तोड़ रखी है। दरअसल, आयात शुल्क कम किए जाने संबंधी अफवाहों के झूठा साबित होने से विदेशों में खाद्य तेलों के भाव गिरावट के साथ बंद हुए।

By आराधना शर्मा 
Updated Date

Relief To The Common Man Edible Oil Became Cheaper Know Todays Market Price

 नई दिल्ली: एक तरफ कोविड ने देश में तबाही मचा रही है वहीं दूसरी तरफ महंगाई ने आम आदमी की कमर तोड़ रखी है। दरअसल, आयात शुल्क कम किए जाने संबंधी अफवाहों के झूठा साबित होने से विदेशों में खाद्य तेलों के भाव गिरावट के साथ बंद हुए। इसका असर दिल्ली तेल तिलहन बाजार पर भी पड़ा। यहां शुक्रवार को घरेलू तेल तिलहनों के दाम में भी नरमी रही। परिणामस्वरूप सरसों, मूंगफली, सोयाबीन, बिनौला तथा पाम एवं पामोलीन तेल की कीमत गिरावट दर्ज हुई।

पढ़ें :- यूके से लौटे सीरम इंस्टीट्यूट के सीईओ अदार पूनावाला

आयातित तेलों के दाम घटने का असर सरसों, मूंगफली, सोयाबीन, बिनौला, पाम और पामोलीन पर भी दिखा जिनके भाव गिरावट के साथ बंद हुए। आपको बता दें, सरसो तेल में मिलावट पर रोक : 8 जून से सरसों तेल की मिलावट पर रोक लगाने के फैसले के बाद सोयाबीन डीगम और पामोलीन की मांग कमजोर हुई है। इसकी वजह से इन आयातित तेलों के भाव भी काफी नरम पड़े हैं। इस रोक की वजह से घरेलू उपभोक्ताओं को बिना मिलावट वाला तेल उपलब्ध होगा वहीं देश में सरसों का आगामी उत्पादन बढ़ना तय है क्योंकि मौजूदा ऊपज के लिए किसानों को बेहतर दाम मिले हैं।

महाराष्ट्र, मध्य प्रदेश और राजस्थान में सोयाबीन के बीज के लिए अच्छे दाने की किल्लत है। सरकार को इन जगहों पर बीज के लिए सोयाबीन के बेहतर दाने का इंतजाम जल्द से जल्द करना चाहिए। सूत्रों की माने तो कि तेल- तिलहन बाजार में झूठी अफवाहों के कारण किसानों, उत्पादकों और उद्योग सभी को नुकसान होता है। ऐसे में सरकार को अफवाह फैलाने वाले शरारती तत्वों से कड़ाई से निपटना चाहिए। देश को यदि विदेशी खाद्य तेल कंपनियों की मनमानी से बचाना है तो तेल तिलहन उत्पादन में आत्मनिर्भरता हासिल करना जरूरी है।

बाजार में थोक भाव इस प्रकार रहे- (भाव- रुपए प्रति क्विंटल)

  • सरसों तिलहन – 7,350 – 7,400 (42 प्रतिशत कंडीशन का भाव) रुपए।
  • सरसों तेल दादरी- 14,500 रुपए प्रति क्विंटल।
  • सरसों पक्की घानी- 2,315 -2,365 रुपए प्रति टिन।
  • सरसों कच्ची घानी- 2,415 – 2,515 रुपए प्रति टिन।
  • तिल तेल मिल डिलिवरी – 15,000 – 17,500 रुपए।
  • मूंगफली दाना – 5,820 – 5,865 रुपए।
  • मूंगफली तेल मिल डिलिवरी (गुजरात)- 14,250 रुपए।
  • मूंगफली साल्वेंट रिफाइंड तेल 2,305 – 2,335 रुपए प्रति टिन।
  • सोयाबीन तेल मिल डिलिवरी दिल्ली- 15,000 रुपए।
  • सोयाबीन मिल डिलिवरी इंदौर- 14,900 रुपए।
  • सोयाबीन तेल डीगम, कांडला- 13,750 रुपए।
  • सीपीओ एक्स-कांडला- 11,750 रुपए।
  • बिनौला मिल डिलिवरी (हरियाणा)- 13,650 रुपए।
  • पामोलिन आरबीडी, दिल्ली- 13,600 रुपये।
  • पामोलिन एक्स- कांडला- 12,450 (बिना जीएसटी के)
  • सोयाबीन दाना 7,750 – 7,850, सोयाबीन लूज 7,650 – 7,700 रुपए
  • मक्का खल 3,800 रुपए

पढ़ें :- भाजपा नेताओं और ट्रस्‍ट के सदस्‍यों ने चंदा चोरी किया , हिंदुओं से मांगें माफी : संजय सिंह

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:
Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक, यूट्यूब और ट्विटर पर फॉलो करे...
X