1. हिन्दी समाचार
  2. एस्ट्रोलोजी
  3. Sakat Chauth 2022: इस दिन चंद्रमा के उदय का रहता है इंतजार, इन मंत्रों का करें जाप

Sakat Chauth 2022: इस दिन चंद्रमा के उदय का रहता है इंतजार, इन मंत्रों का करें जाप

सनातन धर्म में माता और पुत्र के रिश्ते  बहुत महत्व है। माता और पुत्र के संबंधों को लेकर बहुत सी कथाएं प्रचलित है। माघ मास में माता पुत्र की रक्षा के लिए एक व्रत रखती है। इस मास की चतुर्थी तिथि को संकष्टी चतुर्थी व्रत रखा जाता है।

By अनूप कुमार 
Updated Date

Sakat Chauth 2022 : सनातन धर्म में माता और पुत्र के रिश्ते  बहुत महत्व है। माता और पुत्र के संबंधों को लेकर बहुत सी कथाएं प्रचलित है। माघ मास में माता पुत्र की रक्षा के लिए एक व्रत रखती है। इस मास की चतुर्थी तिथि को संकष्टी चतुर्थी व्रत रखा जाता है।
इस दिन माताएं अपने पुत्र की सलामती के लिए व्रत रखती हैं। इस बार संकष्टी चतुर्थी (सकट चौथ) 21 जनवरी को होगी। सकट चौथ सभी संकटों का नाश करने वाला होता है, इसलिए इसे संकटा चौथ  भी कहते हैं। इस  व्रत में  गणेश जी की पूजा का विधान है।  रात्रि के समय में चंद्रमा को जल अर्पित करने के बाद ही यह व्रत पूरा होता है। सकट चौथ को चंद्रोदय रात 09 बजे होना है। इस व्रत में इन मंत्रों के साथ भगवान गणेश की आराधना करनी चाहिए।

पढ़ें :- मूनस्टोन की जीवन में सकारात्मकता: जानिए इसके फायदे और इसे कैसे पहनना है

गणेश स्तुति का मंत्र

गजाननं भूतगणादिसेवितं कपित्थजम्बूफलचारु भक्षणम्ं.

उमासुतं शोकविनाशकारकं नमामि विघ्नेश्वरपादपङ्कजम्॥

पढ़ें :- Mauni Amavasya 2022: सर्वार्थ सिद्धि योग में मनाई जा रही है मौनी अमावस्या, जानिए इससे जुड़ी खास बातें
इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:
Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक, यूट्यूब और ट्विटर पर फॉलो करे...