1. हिन्दी समाचार
  2. उत्तर प्रदेश
  3. Tikuniya violence : आशीष मिश्रा समेत 13 आरोपियों पर चलेगा किसानों की हत्या का केस

Tikuniya violence : आशीष मिश्रा समेत 13 आरोपियों पर चलेगा किसानों की हत्या का केस

Tikuniya violence : लखीमपुर खीरी के तिकुनिया इलाके (Tikuniya area of Lakhimpur Khiri) में हुई हिंसा के मामले में मुख्य आरोपी और केन्द्रीय गृहराज्य मंत्री अजय मिश्रा ‘टेनी’ (Union Home Minister Ajay Mishra 'Tenny') के बेटे आशीष मिश्रा (Ashish Mishra ) की मुश्किलें बढ़ गई हैं। आशीष मिश्रा (Ashish Mishra ) समेत 13 आरोपियों पर किसानों की हत्या का केस चलेगा। 16 दिसंबर से मामले का ट्रायल शुरू होगा।

By संतोष सिंह 
Updated Date

Tikuniya violence : लखीमपुर खीरी के तिकुनिया इलाके (Tikuniya area of Lakhimpur Khiri) में हुई हिंसा के मामले में मुख्य आरोपी और केन्द्रीय गृहराज्य मंत्री अजय मिश्रा ‘टेनी’ (Union Home Minister Ajay Mishra ‘Tenny’) के बेटे आशीष मिश्रा (Ashish Mishra ) की मुश्किलें बढ़ गई हैं। आशीष मिश्रा (Ashish Mishra ) समेत 13 आरोपियों पर किसानों की हत्या का केस चलेगा। 16 दिसंबर से मामले का ट्रायल शुरू होगा।

पढ़ें :- Breaking-संसद में आर्थिक सर्वेक्षण पेश होने से पहले सेंसेक्स धड़ाम

बता दें कि यूपी के उपमुख्यमंत्री केशव प्रसाद मौर्य (UP Deputy Chief Minister Keshav Prasad Maurya) के दौरे के विरोध में किसानों के प्रदर्शन के दौरान अक्टूबर, 2021 को हुई इस हिंसा में आठ लोगों की मौत हुई थी। पुलिस द्वारा दर्ज की गई प्राथमिकी के अनुसार, घटना में चार किसानों की एक एसयूवी से कुचल कर मौत हो गई थी, जिसमें आशीष मिश्रा बैठे हुए थे।

दुर्घटना के बाद गुस्से से भरे किसानों ने वाहन चालक और भाजपा के दो कार्यकर्ताओं की कथित रूप से पीट-पीट कर हत्या कर दी थी। कृषि कानूनों के खिलाफ किसानों और विपक्षी दलों के प्रदर्शनों के बाद हुई हिंसा में एक पत्रकार की भी मौत हुई थी। हिंसा में मारे गए प्रदर्शनकारी केंद्र के उन तीन कृषि कानूनों के खिलाफ प्रदर्शन कर रहे थे, जिन्हें बाद में सरकार ने वापस ले लिया था।

यूपी चुनाव (UP Elections) के बाद आशीष मिश्रा (Ashish Mishra ) जमानत पर बाहर आया था । जमानत पर आशीष मिश्रा की रिहाई का मामला सुप्रीम कोर्ट (Supreme Court) पहुंचा और न्यायालय ने जमानत रद्द करते हुए ये केस इलाहाबाद हाईकोर्ट (Allahabad High Court) में नए सिरे से विचार के लिए भेज दिया था। इसके बाद इलाहाबाद हाईकोर्ट (Allahabad High Court)  ने जमानत याचिका रद्द कर दी थी।

पढ़ें :- Parliament Budget Session Live : पीएम मोदी बोले-भारत के बजट पर पूरी दुनिया की नजर
Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक, यूट्यूब और ट्विटर पर फॉलो करे...