1. हिन्दी समाचार
  2. उत्तर प्रदेश
  3. UP MLC Election : हार के बाद सपा ने योगी पर उठाया था सवाल ,जानें अखिलेश ने खुद उतारे थे कितने यादव

UP MLC Election : हार के बाद सपा ने योगी पर उठाया था सवाल ,जानें अखिलेश ने खुद उतारे थे कितने यादव

यूपी विधान परिषद चुनाव में बीजेपी 36 में से 33 सीटों पर कमल ने कमाल दिखा दिया है तो समाजवादी पार्टी की साइकिल की हवा निकाल दी है। सपा को इस चुनाव में एक भी सीट पर जीत नहीं मिली है। चुनावी नतीजों के जब पार्टी ने पहली प्रतिक्रिया दी तो अपनी हार पर कुछ कहे बिना जीतने वालों की जाति पर सवाल उठाए दिए।

By संतोष सिंह 
Updated Date

लखनऊ। यूपी विधान परिषद चुनाव में बीजेपी 36 में से 33 सीटों पर कमल ने कमाल दिखा दिया है तो समाजवादी पार्टी की साइकिल की हवा निकाल दी है। सपा को इस चुनाव में एक भी सीट पर जीत नहीं मिली है। चुनावी नतीजों के जब पार्टी ने पहली प्रतिक्रिया दी तो अपनी हार पर कुछ कहे बिना जीतने वालों की जाति पर सवाल उठाए दिए।

पढ़ें :- यूपी में गड्डा मुक्त करने की दूसरी मियाद खत्म, पूरनपुर विधानसभा के ट्रांस शारदा क्षेत्र की जर्जर सड़कों का वीडियो में देखें हाल

समाजवादी पार्टी ने एससी, एसटी और ओबीसी समुदाय को दरकिनार करने का आरोप लगाते हुए कहा कि जीतने वाले 36 उम्मीदवारों में से 18 मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के स्वजातीय (ठाकुर) हैं। सपा ने ट्वीट किया, ”दूसरों को जातिवादी बताने वाली भाजपा की ये है सच्चाई! एमएलसी चुनाव की 36 सीटों में से कुल 18 पर मुख्यमंत्री के स्वजातीय जीतकर बने एमएलसी। एससी, एसटी, ओबीसी को दरकिनार कर ये कैसा “सबका साथ, सबका विकास”? सामाजिक न्याय को लोकतंत्र के जरिए मजबूत करने की लड़ाई लड़ते रहेंगे समाजवादी।

हालांकि, सपा के इस ट्वीट के बाद लोगों ने पार्टी को उसकी ओर से अधिकांश यादव उम्मीदवार उतारे जाने की भी याद दिलाई। विधानसभा चुनाव में यादव-मुस्लिम समीकरण से परहेज करते हुए बड़ी संख्या में ओबीसी उम्मीदवारों को टिकट देने वाले अखिलेश यादव ने एमएलसी चुनाव में एक बार फिर पुराना ही दांव आजमाया था। सपा ने 35 में 21 पर यादव बिरादरी के उम्मीदवार उतार दिए। हालांकि, सवालों से बचने के लिए पार्टी ने प्रत्याशियों के सरनेम सार्वजनिक नहीं किए।

21 यादवों के अलावा सपा ने चार मुस्लिमों, चार ब्राह्मण को मैदान में उतारा था। इसके अलावा कुर्मी, प्रजापति, जाट, शाक्य व क्षत्रिय वर्ग के एक-एक उम्मीदवार को टिकट दिया था। पर सपा के अधिकांश प्रत्याशियों की हार भारी अंतर से हुई है। पार्टी, इटावा, आजमगढ़ जैसे मजबूत सीटों पर भी हार गई।

पढ़ें :- Rat Massacre: पहली बार हुआ चूहे का पोस्टमार्टम, खुला मौत का राज
इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:
Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक, यूट्यूब और ट्विटर पर फॉलो करे...