1. हिन्दी समाचार
  2. उत्तर प्रदेश
  3. Viral Video : राम मंदिर को लेकर गाजीपुर के तहसीलदार हिम्मत बहादुर का विवादित बयान, संतों ने जेल भेजने की मांग

Viral Video : राम मंदिर को लेकर गाजीपुर के तहसीलदार हिम्मत बहादुर का विवादित बयान, संतों ने जेल भेजने की मांग

यूपी (UP) के गाजीपुर जिले (Ghazipur District) के सेवराई तहसील (Sewrai Tehsil)  में तैनात नायब तहसीलदार हिम्मत बहादुर (Tehsildar Himmat Bahadur) ने राम मंदिर (Ram Mandir) को लेकर दिए गए विवादित बयान के बाद अयोध्या के संतों ने अपनी प्रतिक्रिया दी है। संत समाज ने नाराजगी व्यक्त करते हुए तहसीलदार को आड़े हाथों लिया।

By संतोष सिंह 
Updated Date

अयोध्या। यूपी (UP) के गाजीपुर जिले (Ghazipur District) के सेवराई तहसील (Sewrai Tehsil)  में तैनात नायब तहसीलदार हिम्मत बहादुर (Tehsildar Himmat Bahadur) ने राम मंदिर (Ram Mandir) को लेकर दिए गए विवादित बयान के बाद अयोध्या के संतों ने अपनी प्रतिक्रिया दी है। संत समाज ने नाराजगी व्यक्त करते हुए तहसीलदार को आड़े हाथों लिया। रामलीला के प्रधान पुजारी आचार्य सत्येंद्र दास (Acharya Satyendra Das, the Head Priest of Ramlila)ने गाजीपुर के नायब तहसीलदार (Naib Tehsildar of Ghazipur) को महमूद करार देते हुए नास्तिक बताया। इतना ही नहीं रामलला के प्रधान पुजारी ने यह मांग की है कि उन्हें तत्काल प्रभाव से उनके पद से हटाते हुए मुकदमा पंजीकृत किया जाए और और जेल भेजा जाए।

पढ़ें :- स्वामी प्रसाद मौर्य बोले- महिलाओं व शूद्रवर्ण के सम्मान की बात क्या की? पाखंडी व छद्मभेशी बाबाओं पर मानो पहाड़ ही टूट गया

संत समाज ने कहा कि सवा सौ करोड़ हिंदुओं की आत्मा को ठेस पहुंचाने वाले व्यक्ति को उसके पद से हटाते हुए उनके खिलाफ कानूनी कार्रवाई करनी चाहिए। साथ ही उन्होंने कहा कि अब समय आ गया है कि भारत को हिंदू राष्ट्र घोषित (Hindu Nation Declared) किया जाए और सनातन धर्म पर उंगली उठाने वाले का सिर कलम कर दिया जाए।

नायब तहसीलदार को बताया महामूर्ख

दरअसल, उत्तर प्रदेश के गाजीपुर जिले (Ghazipur District)  के सेवराई तहसील (Sewrai Tehsil) में तैनात नायब तहसीलदार हिम्मत बहादुर (Himmat Bahadur) ने अयोध्या में बन रहे राम मंदिर को दुकानदारी बताते हुए कहा कि जो लोग मंदिर जाते हैं वह बेवकूफ है। रामलला के प्रधान पुजारी ने कहा कि गाजीपुर के नायब तहसीलदार का बयान निंदनीय है। जिन रामलला की लोग उपासना करते हैं और अपने आपको धन्य मानते हैं। उन रामलला का भव्य मंदिर बन रहा है। भगवान में आस्था रखने वाले को तहसीलदार बेवकूफ कह रहे हैं। गाजीपुर के तहसीलदार वर्णशंकर (Tehsildar Varshankar of Ghazipur) है। आचार्य सत्येंद्र दास (Acharya Satyendra Das) ने हिम्मत बहादुर को महामूर्ख करार देते हुए कहा कि न तो इनको मंदिर का ज्ञान है न ही पूजा-अर्चना का। रामलला के प्रधान पुजारी ने मांग करते हुए कहा कि ऐसे व्यक्ति को उनके पद से हटा दिया जाना चाहिए। इस तरह के बयान से हमारा सनातन धर्म, पुजारी और पूजा अर्चना करने वाले आहत होते हैं।

भारत को हिंदू राष्ट्र घोषित करने का समय आ गया

राष्ट्रवादी बाल संत दिवाकराचार्य (Nationalist child saint Divakaracharya) ने कहा कि अब भारत धर्मनिरपेक्ष नहीं रह गया, जिस प्रकार से भारतीय संस्कृत (Indian Sanskrit) और मूलभूत हिंदुओं की आस्था पर ठेस पहुंचाया जा रहा है, अब भारत को हिंदू राष्ट्र घोषित (Hindu Nation Declared) करने का समय आ गया है। नाराजगी व्यक्त करते हुए राष्ट्रवादी बाल संत दिवाकराचार्य (Nationalist child saint Divakaracharya) ने कहा कि अभी बिहार के शिक्षा मंत्री ने रामचरितमानस (Ramcharitmanas) और मनुस्मृति (Manusmriti) पर सवाल उठाए और एक पद पर प्रतिष्ठित व्यक्ति के द्वारा अब भगवान राम के मंदिर (Ram Mandir)  पर किए गए अपमानजनक बयान को लेकर नाराजगी व्यक्त की। यह स्थिति अत्यंत निंदनीय और चिंताजनक है। दिवाकराचार्य ने कहा कि राम मंदिर (Ram Mandir)   को दुकानदारी बताना सवा सौ करोड़ सनातन धर्मावलंबियों की आत्मा पर आरा चलाना हो गया है।

पढ़ें :- Viral Video : राजधानी में नहीं सुरक्षित हैं बेटियां, मनचले ने बीच सड़क पर छात्रा से की हाथापाई
इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:
Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक, यूट्यूब और ट्विटर पर फॉलो करे...