HBE Ads
  1. हिन्दी समाचार
  2. उत्तर प्रदेश
  3. ‘अपना दल’ पिछड़ों के आरक्षण का विरोधी क्यों है…अखिलेश यादव ने साधा निशाना

‘अपना दल’ पिछड़ों के आरक्षण का विरोधी क्यों है…अखिलेश यादव ने साधा निशाना

अखिलेश यादव ने एक्स पर लिखा कि, मिर्ज़ापुर की जनता आरक्षण विरोधी भाजपा और उनके स्वार्थी साथियों को सबक़ सिखाने के लिए, उनके पैरों तले से क़ालीन खींचने को तैयार बैठी है। मिर्ज़ापुर की जनता दुखदाई भाजपा सरकार की सहयोगी पार्टी ‘अपना दल’ के शीर्ष नेतृत्व से पूछ रही है: ‘अपना दल’ पिछड़ों के आरक्षण का विरोधी क्यों है? डबल इंजन के अलावा घर में दो-दो मंत्री होते हुए भी मिर्ज़ापुर के विकास का इंजन स्टार्ट क्यों नहीं हुआ?

By शिव मौर्या 
Updated Date

Lok Sabha Elections 2024: समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव ने अपना दल की नेता अनुप्रिया पटेल पर निशाना साधा है। उन्होंने कहा कि, मिर्ज़ापुर ने बदलाव के तानेबाने पर जनता की सरकार के स्वागत के लिए नयी उम्मीदों का नया क़ालीन बना लिया है। डबल इंजन के अलावा घर में दो-दो मंत्री होते हुए भी मिर्ज़ापुर के विकास का इंजन स्टार्ट क्यों नहीं हुआ?

पढ़ें :- अधीर रंजन चौधरी ने बंगाल कांग्रेस अध्यक्ष पद से दिया इस्तीफा, खरगे पर कसा तंज

अखिलेश यादव ने एक्स पर लिखा कि, मिर्ज़ापुर की जनता आरक्षण विरोधी भाजपा और उनके स्वार्थी साथियों को सबक़ सिखाने के लिए, उनके पैरों तले से क़ालीन खींचने को तैयार बैठी है। मिर्ज़ापुर की जनता दुखदाई भाजपा सरकार की सहयोगी पार्टी ‘अपना दल’ के शीर्ष नेतृत्व से पूछ रही है: ‘अपना दल’ पिछड़ों के आरक्षण का विरोधी क्यों है? डबल इंजन के अलावा घर में दो-दो मंत्री होते हुए भी मिर्ज़ापुर के विकास का इंजन स्टार्ट क्यों नहीं हुआ?

उन्होंने आगे लिखा कि, मिर्ज़ापुर के किसानों के खेत अच्छी पैदावार की आस में सूखे-सूने क्यों रह गए? किसानों के लिए उन्होंने कुछ किया क्यों नहीं? युवाओं के लिए नौकरी के नए अवसर स्थानीय स्तर पर पैदा क्यों नहीं किए और जो कारख़ाने थे उनमें रोज़गार क्यों नहीं दिलवाया? मंत्री रहते हुए भी मिर्ज़ापुर में नए उद्योग-कारख़ाने क्यों नहीं लगाए? मिर्ज़ापुर के कारोबार को GST के भ्रष्टाचार की मार से बचाने के लिए कोई क़दम क्यों नहीं उठाया?

इसके साथ ही कहा, मिर्ज़ापुर के क़ालीन उद्योग को पूंजीपतियों के फ़ायदे के लिए बंद होने के कगार तक क्यों ले गये? ⁠महंगाई के मारे मिर्ज़ापुर के लोगों की कमाई बढ़ाने के लिए या कालीन बनाने की बढ़ती लागत घटाने के लिए, कोई भी कोशिश क्यों नहीं करी? महिला होते हुए भी महिलाओं के अपमान और तिरस्कार पर चुप क्यों रहीं? ⁠आदिवासियों को उत्पीड़न, अत्याचार, शोषण और अपमान से बचाने के लिए कोई प्रयास क्यों नहीं किया?

अखिलेश यादव ने आगे लिखा कि, मिर्ज़ापुर ने बदलाव के तानेबाने पर जनता की सरकार के स्वागत के लिए नयी उम्मीदों का नया क़ालीन बना लिया है। मिर्ज़ापुर की जनता ‘इंडिया गठबंधन’ के सपा प्रत्याशी श्री राजेन्द्र एस. बिंद जी के चुनाव चिन्ह ‘साइकिल’ का बटन दबाकर और उन्हें ऐतिहासिक वोटों से जिताकर इतिहास बनाने जा रही है।

पढ़ें :- भाजपा राज में पेपर लीक बना राष्ट्रीय समस्या, देश में बीते 5 सालों में 43 भर्ती परीक्षाओं के पेपर हुए लीक : प्रियंका गांधी

 

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:
Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक, यूट्यूब और ट्विटर पर फॉलो करे...