1. हिन्दी समाचार
  2. दुनिया
  3. AfghanistanHeavy snowfall : अफगानिस्तान में भारी बर्फबारी से 15 लोगों की मौत, सरकार ने उठाए जरूरी कदम

AfghanistanHeavy snowfall : अफगानिस्तान में भारी बर्फबारी से 15 लोगों की मौत, सरकार ने उठाए जरूरी कदम

अफगानिस्तान में बिगड़ मौसम के विनाशकारी प्रभाव देखने को मिल रहे है। पिछले तीन दिनों में अफगानिस्तान में बड़े पैमाने पर भारी बर्फबारी के कारण कम से कम 15 लोगों की दुखद मौत हो गई और लगभग 30 लोग घायल हो गए।

By अनूप कुमार 
Updated Date

AfghanistanHeavy snowfall : अफगानिस्तान में बिगड़ मौसम के विनाशकारी प्रभाव देखने को मिल रहे है। पिछले तीन दिनों में अफगानिस्तान में बड़े पैमाने पर भारी बर्फबारी के कारण कम से कम 15 लोगों की दुखद मौत हो गई और लगभग 30 लोग घायल हो गए।
इसके अतिरिक्त, बल्ख और फरयाब प्रांतों से प्राप्त आँकड़े पशुधन पर बड़े नुकसान का संकेत देते हैं, हाल की बर्फबारी के कारण लगभग दस हजार जानवर मारे गए हैं।  अफगानिस्तान ने अवाम को होने वाले नुकसान का समाधान करने के लिए विभिन्न मंत्रालयों की एक समिति के गठन की घोषणा की है।

पढ़ें :- Italy Digital Nomad Visa : इटली ने लॉन्च किया डिजिटल नोमैड वीज़ा,जानें इसके बारे में सब कुछ

अफगानिस्तान में भीषण बर्फबारी के कारण सर्वजनिक यातायात पर व्यापक प्रभाव पड़ा है। प्रमुख परिवहन मार्ग बंद हो गए हैं, जिनमें सालांग दर्रा और घोर, बदघिस, गजनी, हेरात और बामियान जैसे विभिन्न प्रांतों तक पहुंच शामिल है। खबरों के अनुसार, लोक निर्माण मंत्रालय के प्रवक्ता मोहम्मद अशरफ हकशेनस ने पिछले दो दिनों में भारी बर्फबारी के कारण इन मार्गों के अस्थायी रूप से बंद होने की पुष्टि की। फरयाब के प्रांतीय गवर्नर के प्रवक्ता एस्मातुल्लाह मुरादी ने बताया कि प्रांत में भारी बर्फबारी के कारण अधिकांश जिलों में सड़कें बंद हो गईं, जिससे दूरदराज के इलाकों के निवासी फंस गए।

अफगानिस्तान के अलग-अलग मंत्रालयों के अधिकारियों ने बल्ख, जवजान, बदघिस, फरयाब और हेरात प्रांतों में पशुधन मालिकों का समर्थन करने के लिए पचास मिलियन अफगानी रुपये आवंटित किया है।

ये समितियां बंद सड़कों को खोलने, प्रभावित समुदायों को भोजन और चारा वितरित करने और भारी बर्फबारी के बाद फंसे हुए लोगों को बचाने के लिए सक्रिय रूप से काम कर रही हैं। अफगान रेड क्रिसेंट सोसाइटी के प्रवक्ता इरफान उल्लाह शराफ़ज़ोई ने कहा कि शीतकालीन सेवा कार्यकर्ताओं ने पहले से ही बदगीस, घोर, फराह, कंधार, हेलमंद, जज्जन और नूरिस्तान जैसे प्रांतों में हाल की बर्फबारी से प्रभावित व्यक्तियों तक सहायता प्रदान की है।

 

पढ़ें :- olympic opening ceremony : सीन नदी के बजाय स्टेडियम में हो सकता है ओलंपिक उद्घाटन समारोह : इमैनुएल मैक्रों

Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक, यूट्यूब और ट्विटर पर फॉलो करे...