1. हिन्दी समाचार
  2. उत्तर प्रदेश
  3. लखनऊ विश्वविद्यालय में कुलानुशासक कार्यालय के सामने अराजकतत्वों ने किया तांडव, घायल दो अंत:वासी छात्र बलरामपुर हॉस्पिटल में भर्ती

लखनऊ विश्वविद्यालय में कुलानुशासक कार्यालय के सामने अराजकतत्वों ने किया तांडव, घायल दो अंत:वासी छात्र बलरामपुर हॉस्पिटल में भर्ती

लखनऊ विश्वविद्यालय (Lucknow University) में कुलानुशासक कार्यालय (Proctor Office) के सामने शुक्रवार को अराजकतत्वों ने सुभाष छात्रावास (Subhash Hostel) के दो अंत:वासी छात्र अक्षय वर्मा और आशीष पांडेय की दौड़ा-दौड़ा कर पिटाई कर दी। मौके पर मौजूद भारी पुलिस बल भीड़ के सामने असहाय नजर आया।

By संतोष सिंह 
Updated Date

लखनऊ। लखनऊ विश्वविद्यालय (Lucknow University) में कुलानुशासक कार्यालय (Proctor Office) के सामने शुक्रवार को अराजकतत्वों ने सुभाष छात्रावास (Subhash Hostel) के दो अंत:वासी छात्र अक्षय वर्मा और आशीष पांडेय की दौड़ा-दौड़ा कर पिटाई कर दी। मौके पर मौजूद भारी पुलिस बल भीड़ के सामने असहाय नजर आया। हालांकि किसी तरह से पिट रहे छात्रों को पुलिस की गाड़ी बैठकार जान बचाई। मिली जानकारी के अनुसार घायल छात्रों को प्राथमिक उपचार के लिए बलरामपुर हॉस्पिटल (Balrampur Hospital) ले जाया गया है।

पढ़ें :- यंग इंडिया तय करेगा लोकसभा 2024 चुनाव का एजेंडा, देश के विश्वविद्यालयों में मोदी सरकार की शिक्षा-रोज़गार नीतियों पर  जनमत संग्रह

यह पहली घटना नहीं है इससे पहले भी विवि परिसर में गहमागहमी हो चुकी है। इस मामले में पुलिस की लापरवाही का ही नतीजा है कि छात्र शुक्रवार को एक बार फिर आमने-सामने आए। छात्र नेता आर्यन मिश्रा ने इस मारपीट पर सवाल उठाया कि पूरे कैंपस में पुलिस रहती है, लेकिन अपने छात्रों की रक्षा करने में नाकाम रहती है। उन्होंने कहा कि पिछले कुछ महीनों से बाहरी छात्र विवि के छात्र को मारते है और चले जाते हैं कब तक ऐसा चलेगा ?

पढ़ें :- लखनऊ विश्वविद्यालय के तिलक महिला छात्रावास में छात्रा के आत्महत्या की मामले निष्पक्ष जांच हो, छात्रों ने किया प्रदर्शन

लखनऊ विश्वविद्यालय (Lucknow University)  के प्रॉक्टर राकेश द्विवेदी ने बताया कि यह मारपीट विश्विद्यालय के छात्रों के बीच हुई है। वहीं मारपीट करने वाले छात्र का निलंबन किया जा रहा है। उन्होंने कहा कि सभी छात्र लखनऊ विश्वविद्यालय के हैं। बाहरी छात्रों की एंट्री विश्विद्यालय परिसर में पहले से ही बंद है। प्रॉक्टर राकेश द्विवेदी ने बताया कि धरना दे रहे छात्रों को शान्त करवा दिया गया है छात्रों की जो मांग थी उसे मान लिया गया है। इस मामले में आरोपी छात्रों के ऊपर एफआईआर करवा दिया गया है।

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:
Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक, यूट्यूब और ट्विटर पर फॉलो करे...