1. हिन्दी समाचार
  2. उत्तर प्रदेश
  3. जब तक दिल्ली में हैं केजरीवाल किसानों का कुछ नहीं बिगाड़ सकती मोदी सरकार

जब तक दिल्ली में हैं केजरीवाल किसानों का कुछ नहीं बिगाड़ सकती मोदी सरकार

दिल्ली के बॉर्डर पर केंद्रीय कृषि कानूनों के खिलाफ किसान करीब 8 माह से धरने पर बैठे हैं। एक बार फिर आम आदमी पार्टी ने किसानों के समर्थन में दम भरा है। आम आदमी पार्टी ने स्पष्ट कहा है कि जब तक दिल्ली में केजरीवाल सरकार है। तब तक किसानों का कोई कुछ नहीं बिगाड़ सकता।

By संतोष सिंह 
Updated Date

As Long As Kejriwal Is In Delhi Modi Government Cannot Harm The Farmers

नई दिल्ली। दिल्ली के बॉर्डर पर केंद्रीय कृषि कानूनों के खिलाफ किसान करीब 8 माह से धरने पर बैठे हैं। एक बार फिर आम आदमी पार्टी ने किसानों के समर्थन में दम भरा है। आम आदमी पार्टी ने स्पष्ट कहा है कि जब तक दिल्ली में केजरीवाल सरकार है। तब तक किसानों का कोई कुछ नहीं बिगाड़ सकता।

पढ़ें :- अहंकारी रवैया छोड़ मानसून सत्र में कृषि कानूनों को रद्द करे मोदी सरकार : मायावती

पार्टी प्रवक्ता और विधायक राघव चड्ढा ने कहा कि पिछले 8 महीने से देश का किसान, चाहे 2 डिग्री तापमान हो या 45 डिग्री की तड़पाती धूप हो। वह अपने हकों की लड़ाई लड़ने के लिए दिल्ली की दहलीज पर बैठे हैं। यह मोदी सरकार अभी तक इन किसानों का मुद्दा नहीं सुलझा पाई है।

चड्डा ने कहा कि किसानों की मांग बिल्कुल स्पष्ट थी कि तीनों काले कानून खारिज किए जाएं। किसानों को एमएसपी की गारंटी कानून में लिख कर दी जाए और किसानों को उनके हक से वंचित न किया जाए। लेकिन मानो ऐसा लगता है कि केंद्र में बैठी भाजपा की मोदी सरकार ने कसम खा ली है कि किसानों के खिलाफ लड़ाई लड़नी है।

राघव चड्ढा ने आगे कहा कि आप पार्टी भाजपा को यह कहना चाहती है कि जब तक दिल्ली में अरविंद केजरीवाल की सरकार है, तब तक किसी भी किसान का बाल भी बांका नहीं किया जा सकता है। हम लोग इंसाफ के हक में हैं। आम आदमी पार्टी न्याय चाहती है, बदला नहीं चाहती है। आप बदले की भावना से केजरीवाल सरकार के पब्लिक प्रॉसिक्यूटर को हटाकर के बीजेपी के पब्लिक प्रॉसिक्यूटर को लाना चाहते हैं।

देश के किसानों ने बड़े-बड़े घमंडी नेताओं को नीचे उतारा है। बड़ी-बड़ी सरकारों को हटाया है। इसलिए देश के किसान को कम न आंकें। देश का किसान जब एकजुट होकर अपने मत की ताकत से जवाब देगा, तब आपको पता लगेगा। इसका थोड़ा सा नजारा आप अभी पश्चिम बंगाल में देख कर आए हैं।

पढ़ें :- किसान आंदोलन पर मीनाक्षी लेखी का निशाना, कहा-प्रदर्शन कर रहे किसान नहीं, मवाली हैं

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:
Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक, यूट्यूब और ट्विटर पर फॉलो करे...
X