1. हिन्दी समाचार
  2. दिल्ली
  3. Cash For Query : महुआ मोइत्रा मामले में अधीर रंजन ने ओम बिरला को लिखा पत्र , बोले-‘निष्कासन बेहद गंभीर सजा’

Cash For Query : महुआ मोइत्रा मामले में अधीर रंजन ने ओम बिरला को लिखा पत्र , बोले-‘निष्कासन बेहद गंभीर सजा’

कांग्रेस नेता अधीर रंजन चौधरी (Congress leader Adhir Ranjan Chaudhary) ने शनिवार को लोकसभा आचार समिति की रिपोर्ट पर स्पीकर ओम बिरला को एक पत्र लिखा है। कांग्रेस नेता ने पत्र में ‘कैश-फॉर-क्वेरी मामले’ में तृणमूल कांग्रेस सांसद महुआ मोइत्रा (Trinamool Congress MP Mahua Moitra) को निष्कासित करने की सिफारिश पर कहा कि यह बेहद गंभीर सज़ा है और इसके बहुत व्यापक प्रभाव होंगे।

By संतोष सिंह 
Updated Date

नई दिल्ली। कांग्रेस नेता अधीर रंजन चौधरी (Congress leader Adhir Ranjan Chaudhary) ने शनिवार को लोकसभा आचार समिति की रिपोर्ट पर स्पीकर ओम बिरला को एक पत्र लिखा है। कांग्रेस नेता ने पत्र में ‘कैश-फॉर-क्वेरी मामले’ में तृणमूल कांग्रेस सांसद महुआ मोइत्रा (Trinamool Congress MP Mahua Moitra) को निष्कासित करने की सिफारिश पर कहा कि यह बेहद गंभीर सज़ा है और इसके बहुत व्यापक प्रभाव होंगे। तृणमूल कांग्रेस सांसद महुआ मोइत्रा (MP Mahua Moitra) के खिलाफ ‘कैश-फॉर-क्वेरी’ (Cash For Query) आरोपों की जांच करने वाली आचार समिति 4 दिसंबर को संसद के शीतकालीन सत्र (Winter Session) के पहले दिन लोकसभा में अपनी रिपोर्ट रखेगी।

पढ़ें :- मोदी सरकार लोकसभा चुनाव ने पहले चल सकती है बड़ा मास्टर स्ट्रोक, CAA 1 मार्च से लागू करने की तैयारी

अधीर रंजन चौधरी (Adhir Ranjan Chaudhary) ने चार पृष्ठों वाले अपने पत्र में कहा कि विशेषाधिकार समिति और आचार समिति के लिए उल्लेखित भूमिकाओं में कोई स्पष्ट सीमांकन नहीं है। विशेष रूप से दंडात्मक शक्तियों के प्रयोग के मामलों में। कांग्रेस नेता ने कहा कि इसके अलावा ‘अनैतिक आचरण’ की कोई स्पष्ट परिभाषा नहीं है और ‘आचार संहिता’ (Code of Conduct) तैयार की जानी बाकी है।

उन्होंने कहा कि इन मुद्दों पर अधिक ध्यान देने की जरूरत है और यह काम अध्यक्ष के मार्गदर्शन में किया जाना चाहिए। चौधरी लोक लेखा समिति के अध्यक्ष भी हैं। उन्होंने कहा कि उनके द्वारा व्यक्त किए गए विचार उनके अपने हैं। ‘कैश-फॉर-क्वेरी’ (Cash For Query) के मामले में आचार समिति की रिपोर्ट सोमवार को निचले सदन में पेश की जाएगी। इस रिपोर्ट में मोइत्रा को निष्कासित करने की सिफारिश की गई है।

9 नवंबर को पेश की रिपोर्ट

लोकसभा सचिवालय (Lok Sabha Secretariat) द्वारा प्रसारित एजेंडा पत्रों के मुताबिक, आचार समिति के अध्यक्ष विनोद कुमार सोनकर पैनल की पहली रिपोर्ट सदन के पटल पर रखेंगे। समिति ने 9 नवंबर को एक बैठक में ‘कैश-फॉर-क्वेरी’ (Cash For Query) आरोप पर मोइत्रा को लोकसभा से निष्कासित करने की सिफारिश करते हुए अपनी रिपोर्ट अपनाई।

पढ़ें :- टूटा 'INDIA' गठबंधन? पश्चिम बंगाल में ममता बनर्जी ने अकेले चुनाव लड़ने का किया ऐलान

 

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:
Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक, यूट्यूब और ट्विटर पर फॉलो करे...