1. हिन्दी समाचार
  2. दिल्ली
  3. CDS जनरल बिपिन रावत के चॉपर क्रैश में बड़ा खुलासा, सूत्र की रिपोर्ट में जानें क्या किया गया है दावा

CDS जनरल बिपिन रावत के चॉपर क्रैश में बड़ा खुलासा, सूत्र की रिपोर्ट में जानें क्या किया गया है दावा

तमिलनाडु में पिछले साल आठ दिसंबर 2021 को हुए हेलीकॉप्टर हादसे में CDS बिपिन रावत और उनकी पत्नी मधुलिका रावत समेत 14 लोगों की मौत हुई थी। इसके करीब एक महीने बाद इससे जुड़ी बड़ी खबर सामने आई है। इस घटना की जांच के लिए गठित की गई समिति के हवाले से सूत्रों ने बताया है कि ऐसा हो सकता है कि खराब मौसम के चलते ही यह हेलीकॉप्टर हादसा हुआ है। जांच समिति जल्द ही अपनी रिपोर्ट सौंपेगी और हाल ही में यह संभावना भी जताई गई थी कि जल्द ही इसका कारण सामने आएगा।

By संतोष सिंह 
Updated Date

नई दिल्ली। तमिलनाडु में पिछले साल आठ दिसंबर 2021 को हुए हेलीकॉप्टर हादसे में CDS बिपिन रावत (Bipin Rawat) और उनकी पत्नी मधुलिका रावत (Madhulika Rawat) समेत 14 लोगों की मौत हुई थी। इसके करीब एक महीने बाद इससे जुड़ी बड़ी खबर सामने आई है। इस घटना की जांच के लिए गठित की गई समिति के हवाले से सूत्रों ने बताया है कि ऐसा हो सकता है कि खराब मौसम के चलते ही यह हेलीकॉप्टर हादसा हुआ है। जांच समिति जल्द ही अपनी रिपोर्ट सौंपेगी और हाल ही में यह संभावना भी जताई गई थी कि जल्द ही इसका कारण सामने आएगा।

पढ़ें :- फिल्म डायरेक्टर Ali Akbar इस्लाम छोड़ पत्नी संग अपनाएंगे हिंदू धर्म, सोशल मीडिया पर किया बड़ा ऐलान

एक न्यूज चैनल ने अपनी एक रिपोर्ट में ने सूत्रों के हवाले से बताया है कि जनरल बिपिन रावत, उनकी पत्नी और 11 अन्य अधिकारियों की दुर्घटना की जांच लगभग पूरी हो चुकी है। और यह जल्द ही प्रस्तुत की जाएगी। हालांकि जांच या उसकी रिपोर्ट पर न तो वायु सेना और न ही सरकार ने अभी तक कोई बयान दिया है, लेकिन सूत्रों का कहना है कि दुर्घटना का कारण खराब मौसम हो सकता है। हालांकि इस पर भी अब तक कोई बयान या स्पष्टीकरण नहीं आया है।

सूत्रों ने यह भी बताया कि एयर मार्शल मानवेंद्र सिंह (Air Marshal Manvendra Singh) के नेतृत्व वाली जांच टीम ने हादसे के लिए जिम्मेदार संभावित मानवीय त्रुटि सहित सभी संभावित पहलुओं की छानबीन की है। विशेषज्ञों ने यह भी जांच की है कि जब हेलीकॉप्टर उतरने की तैयारी कर रहा था, तब चालक दल के दिशाभ्रमित होने का कहीं यह मामला तो नहीं है। इस बारे में जल्द ही आधिकारिक खुलासा हो सकता है।

फिलहाल ‘कोर्ट ऑफ इनक्वायरी’ (Court of Inquiry) के निष्कर्ष और उसके द्वारा अपनाई गई प्रकिया की कानूनी पड़ताल की जा रही है। कानूनी पड़ताल यह सुनिश्चित करने के लिए की जा रही है कि जांच टीम ने सभी निर्धारित नियमों एवं प्रक्रिया का पालन किया हो। उधर हादसे के संभावित कारणों के बारे में पूछे जाने पर कई विमानन विशेषज्ञों ने कहा है कि पायलट के परिस्थितिजन्य जागरूकता खोने से दृश्य भ्रम होने पर कई हवाई दुर्घटनाएं होने के उदाहरण हैं।

बता दें कि दिसंबर को देश के पहले चीफ ऑफ डिफेंस स्टाफ जनरल बिपिन रावत (CDS General Bipin Rawat) , उनकी पत्नी मधुलिका रावत (Madhulika Rawat) और 11 अन्य अफसरों और सहयोगियों के साथ मौत हो गई। तमिलनाडु के सुलूर एयर बेस से वायुसेना के मी-17वी5 हेलिकॉप्टर से ऊंटी के करीब वेलिंग्टन में डिफेंस सर्विस स्टाफ कॉलेज (Defense Service Staff College in Wellington) जाते समय उनका हेलिकॉप्टर दुर्घटनाग्रस्त हो गया था।

पढ़ें :- अंतिम यात्रा: पंचतत्व में विलीन हुए सीडीएस जनरल बिपिन रावत, बेटियों ने दी मुखाग्नि

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:
Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक, यूट्यूब और ट्विटर पर फॉलो करे...