1. हिन्दी समाचार
  2. दिल्ली
  3. Chhattisgarh News : फर्जी सर्टिफिकेट पर नौकरी पाने वालों को हटाने के एससी एसटी युवाओं ने किया नग्न प्रदर्शन

Chhattisgarh News : फर्जी सर्टिफिकेट पर नौकरी पाने वालों को हटाने के एससी एसटी युवाओं ने किया नग्न प्रदर्शन

छत्तीसगढ़ (Chhattisgarh) की राजधानी रायपुर (Rajdhani Raipur) में मंगलवार को एससी/एसटी वर्ग (SC/ST Category) के युवाओं नें फर्जी जाति प्रमाणपत्र पर नौकरी करने वालों के विरुद्ध कार्रवाई की मांग को लेकर नग्न होकर प्रदर्शन किया। मंगलवार से ही छत्तीसगढ़ विधानसभा सत्र (Chhattisgarh Assembly Session) शुरु हुआ है।

By संतोष सिंह 
Updated Date

Chhattisgarh News: छत्तीसगढ़ (Chhattisgarh) की राजधानी रायपुर (Rajdhani Raipur) में मंगलवार को एससी/एसटी वर्ग (SC/ST Category) के युवाओं नें फर्जी जाति प्रमाणपत्र पर नौकरी करने वालों के विरुद्ध कार्रवाई की मांग को लेकर नग्न होकर प्रदर्शन किया। मंगलवार से ही छत्तीसगढ़ विधानसभा सत्र (Chhattisgarh Assembly Session) शुरु हुआ है। मिली जानकारी के अनुसार युवा लंबे समय से कार्रवाई की मांग कर रहे हैं। लेकिन कार्रवाई न होने पर मंगलवार को पूरी तरह नग्न होकर अपनी तरह का अनोखा विरोध प्रदर्शन किया।

पढ़ें :- Chhattisgarh: झोपड़ी में आग लगने से तीन बच्चों की जिंदा जलकर दर्दनाक मौत

विरोध प्रदर्शन कर रहे युवा सत्र में शामिल होने के लिए आए मंत्रियों के काफिले के आगे-आगे चल रहे थे। पुलिस नें विरोध कर रहे युवाओं को रोकने के लिए गिरफ्तार कर लिया है। इसके बाद मामले में सियासत तेज हो गई है। भाजपा ने राज्य सरकार पर निशाना साधते हुए कहा कि यह घटना छत्तीशगढ़ को शर्मसार करने वाली है।

हाई लेवल कमेटी गठित

रायपुर में एससी, एसटी (SC-ST) युवाओं के नग्न प्रदर्शन के बाद सियासत गर्माता देख सरकार नें हाई लेवल कमेटी गठित की है। कमेटी पूरे मामले की गहराई से जांच करेगी। मामले में देषी पाए जाने पर उस सरकारील अधिकारी और कर्मचारी को नौकरी से हटाया जाएगा। बता दें कि लंबे समय से युवाओं का आरोप है कि फर्जी जाति प्रमाणपत्र (Fake Caste Certificate)   के आधार पर कुछ लोग अधिकारी और कर्मचारी के पद पर कार्य कर रहे हैं।

बीजेपी ने साधा निशाना

पढ़ें :- Bus accident: छत्तीसगढ़ के दुर्ग में दर्दनाक हादसा, यात्रियों से भरी बस खाई में गिरी, 12 लोगो की मौत, पीएम मोदी ने जताया दुख

कांग्रेस के खिलाफ युवाओं के नग्न प्रदर्शन के बाद राज्य के पूर्व मुख्यमंत्री डॉक्टर रमन सिंह (Former Chief Minister Dr. Raman Singh) ने वर्तमान सरकार पर जमकर निशाना साधा। उन्होंने कहा कि यह घटना छत्तीसगढ़ (Chhattisgarh)  को शर्मसार करने वाली है। युवाओं के सब्र का बांध टूट चुका है। सरकार के खिलाफ आक्रोश चरम पर है। भाजपा सरकार पर आरोप लगाने वाली कांग्रेस को ध्यान रखना चाहिए कि भाजपा की सत्ता गए पांच साल हो गए हैं। अगर उस समय गड़बड़ी थी तो जांच क्यों नहीं करवाए? कांग्रेस कब तक पुराने राग अलापती रहेगी। आज का यह दृश्य बेहद दुखद है। ये सरकार की असफलता का प्रमाण है।

आदेश के बाद भी नहीं हुई कार्रवाई

जांच के बाद कई लोगों के फर्जी जाति प्रमाण पत्र (Fake Caste Certificate)  के आधार पर नौकरी करने का पता चला, लेकिन किसी भी व्यक्ति के खिलाफ कोई कार्रवाई नहीं हुई। प्रदर्शनकारियों के मुताबिक मई 2022 में एससीएसटी वर्ग के युवाओं ने इस मामले को लेकर 10 दिनों का आमरण अनशन भी किया था। सरकार ने अब तक फर्जी जाति मामले (Fake Caste Case )में नौकरी कर रहे लोगों के खिलाफ कोई कार्रवाई नहीं की है, जिसको लेकर एससी और एसटी वर्ग (SC/ST Category) के युवाओं में खासी नाराजगी और गुस्सा देखने को मिल रहा है।

जानें किस विभाग में कितने कर्मचारी हैं फर्जी ?

उच्चस्तरीय जाति छानबीन समिति का गठन साल 2000 में किया गया था। जिसमें कुल 758 प्रकरण मिले थे। 659 प्रकरणों में जांच की गई। जिसमें 267 मामलों में जाति प्रमाण पत्र (Fake Caste Certificate)  फर्जी पाए गए। फर्जी जाति प्रमाण पत्र (Fake Caste Certificate) के आधार पर लोग भारतीय प्रशासनिक सेवा (Indian Administrative Service) के अधिकारी बनने के साथ ही चपरासी के पदों पर कार्यरत हैं। जिसमें सबसे अधिक नौकरी पाने वालों में 44 लोग खेल एवं युवा कल्याण विभाग (Sports and Youth Welfare Department) में पदस्थ हैं। वहीं भिलाई इस्पात संयंत्र में 18 अधिकारी और कर्मचारी कार्यरत हैं। सामान्य प्रशासन विभाग (Department of General Administration)  में 14 कर्मचारी और अधिकारी कार्यरत है। कृषि विभाग (Agriculture Department) में 14 अधिकारी और कर्मचारी कार्यरत हैं।

पढ़ें :- 2014 के बाद कांग्रेस की लूट का लाइसेंस कैंसिल कर दिया...पीएम मोदी ने साधा निशाना
सरकार कों नींद से जगाने का काम करेंगे
आंदोलन के नेतृत्वकर्ता विनय कौशल ने बताया उन्होंने इससे पूर्व जिम्मेदार अधिकारियों से बात की थी, उन्‍होंने ऊपर से दबाव होने की बात कही, हमने कार्रवाई न करने पर आंदोनल की चेतावनी दी और हमने 16 मई कों आमरण अनशन किया था, 10 दिनों तक भूखे रहकर आंदोलन किया हमारे आंदोलनकारी युवा साथी एक-एक कर गंभीर हालातों में अस्पताल भर्ती कराये गए लेकिन सरकार और प्रशासन की ओर से इस मामले में उदासीन रवैया रहा। हमने आमरण अनशन को स्थगित कर दिया लेकिन हम अपने हक और अधिकार के लिए किसी भी हद तक जा सकते है। हम अपने स्वाभिमान से समझौता नहीं कर सकते इसलिए हम अपनी इज्जत खोकर पूर्ण रूप से निर्वस्त्र होकर सरकार कों नींद से जगाने का काम करेंगे।

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:
Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक, यूट्यूब और ट्विटर पर फॉलो करे...