1. हिन्दी समाचार
  2. उत्तर प्रदेश
  3. बीजेपी-आरएसएस की गोपनीय बैठक में मिशन यूपी फतह करने लिए बनी ये रणनीति

बीजेपी-आरएसएस की गोपनीय बैठक में मिशन यूपी फतह करने लिए बनी ये रणनीति

यूपी विधानसभा चुनाव को लेकर भारतीय जनता पार्टी अभी से रणनीति बनाने में जुट गई है। बता दें कि अगले साल शुरुआत में विधानसभा चुनाव होने हैं। हाल ही पंचायत चुनाव में पार्टी के औसत प्रदर्शन और कोरोना की दूसरी लहर से उत्पन्न स्थिति से बीजेपी बेहद सतर्क हो गई है।

By संतोष सिंह 
Updated Date

नई दिल्ली। यूपी विधानसभा चुनाव को लेकर भारतीय जनता पार्टी अभी से रणनीति बनाने में जुट गई है। बता दें कि अगले साल शुरुआत में विधानसभा चुनाव होने हैं। हाल ही पंचायत चुनाव में पार्टी के औसत प्रदर्शन और कोरोना की दूसरी लहर से उत्पन्न स्थिति से बीजेपी बेहद सतर्क हो गई है। इसको लेकर उत्तर प्रदेश में संगठन के वरिष्ठ नेताओं का मंथन जारी है। ऐसे में सूबे की मौजूदा सियासी स्थिति और भविष्य की रणनीति की रूपरेखा तैयार करने के लिए बीते रविवार को पार्टी संगठन और संघ नेताओं के बीच शीर्ष स्तर पर दिल्ली में गोपनीय बैठक हुई है।

पढ़ें :- Akhilesh Yadav, बोले- 2022 में भाजपा की गेंद यूपी के स्टेडियम से पार भेजेंगे युवा

इस बैठक के महत्व का अंदाजा इसी से लगाया जा सकता है कि इसमें प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह, बीजेपी अध्यक्ष जेपी नड्डा, संघ के सरकार्यवाह दत्तात्रेय होसबोले और राज्य के संगठन मंत्री सुनील बंसल ने हिस्सा लिया है।

बीजेपी सूत्रों की मानें उत्तर प्रदेश में कोरोना को लेकर पार्टी की छवि पर जो प्रभाव पड़ा है और उसका आने वाले चुनावों पर क्या असर हो सकता है इस पर चर्चा हुई है। यह बैठक करीब डेढ़ घंटा चली, जिसमें कई राउंड अलग-अलग नेताओं के साथ मंथन किया गया। बैठक में पार्टी की छवि चुनाव से पहले कैसे बेहतर की जाए इस पर भी बात हुई है।

बता दें कि सुनील बंसल पिछले दो दिनों से दिल्ली में ही थे और लगातार संघ के सरकार्यवाह दत्तात्रेय होसबोले के संपर्क में थे। सूत्रों की मानें तो रविवार को सबसे पहले बंसल की होसबोले के साथ बैठक हुई। फिर बंसल बीजेपी अध्यक्ष जेपी नड्डा से मिले। इसके बाद होसबोले, शाह और नड्डा की पीएम से बातचीत हुई।

हाल ही में यूपी में हुए पंचायत चुनाव में बीजेपी का प्रदर्शन औसत रहा है। इसके अलावा कोरोना की दूसरी लहर से सूबे की बदली परिस्थितियों के कारण केंद्रीय नेतृत्व बेहद चिंतित है। चिंता मुख्य कारण यह है कि सूबे में अगले ही साल शुरुआत में विधानसभा चुनाव होने हैं। ऐसे में बीजेपी के शीर्ष नेतृत्व की बैठक में पंचायत चुनाव और कोरोना की दूसरी लहर से उपजी नाराजगी पर चर्चा हुई है।

पढ़ें :- Amit Shah’s visit to UP : शाह, बोले- बीजेपी ने जो 2017 में वादा किया था, वह योगी ने 2021 में कर दिखाया

बता दें कि कोरोना की दूसरी लहर के दौरान गंगा नदी में शवों को बहाने और गंगा तट पर बड़ी संख्या में शवों का दफनाने के मामले ने अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर सुर्खियां बटोरी है। पार्टी वरिष्ठ नेताओं के बंगाल सहित पांच राज्यों के विधानसभा चुनावों में व्यस्त होने के कारण समुचित तैयारी नहीं होने और अतिआत्मविश्वास का शिकार होना बताया गया है।

सूत्रों की मानें तो इस दौरान संघ सरकार्यवाह दत्तात्रेय होसबोले ने आरएसएस के प्रचारकों द्वारा उत्तर प्रदेश के सियासी हालात पर दिए गए फीडबैक से पार्टी के शीर्ष नेताओं को अवगत कराया है। साथ ही उन्होंने बीजेपी नेताओं के साथ भविष्य की रणनीति पर भी चर्चा की।

बता दें कि पार्टी अध्यक्ष जेपी नड्डा लगातार बीजेपी कार्यकर्ताओं से बोलते आए हैं कि कोरोना काल में पीड़ितों की हरसंभव मदद करें। इतना ही नहीं उन्होंने बीजेपी कार्यकर्ताओं से लोगों के बीच रहने और सरकार के द्वारा उठाए जा रहे कदमों को अवगत करने की बात बार-बार कहते रहे हैं, लेकिन पार्टी के बड़े नेताओं से लेकर कार्यकर्ता तक घर से बाहर नहीं निकल सके।

बता दें कि करीब एक हफ्ता पहले यूपी में पंचायत चुनाव में मिली हार को लेकर बीजेपी में मंथन हुआ था। वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए पंचायत चुनाव की समीक्षा बैठक में बीजेपी प्रदेश अध्यक्ष स्वतंत्र देव सिंह, महामंत्री संगठन सुनील बंसल, क्षेत्रीय अध्यक्ष और पंचायत चुनाव से जुड़े पदाधिकारी मौजूद रहे थे। इस दौरान पंचायत चुनाव में पार्टी को मिली हार को लेकर मंथन किया गया था।

सूत्रों के मुताबिक़, पंचायत चुनाव में जनता का बीजेपी से उठता भरोसा साफ नजर आया है और यह भी इस बैठक का अहम मुद्दा रहा है। सूत्रों की मानें तो राजनीतिक रूप से सबसे अहम माने जा रहे उत्तर प्रदेश में पार्टी कोरोना की दूसरी लहर के न्यूनतम स्तर पर उतरते ही व्यापक स्तर पर डैमेज कंट्रोल अभियान छेड़ेगी। इसके तहत यूपी के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ खुद मंडल और जिला स्तर पर जमीनी हकीकत को जानने के लिए लगातार दौरे कर रहे हैं। ऐसे ही महामारी में जान गंवाने वाले लोगों के परिवारों के लिए अहम घोषणा की जाएगी। इसके अलावा संगठन के साथ-साथ पूरी सरकार को मैदान में उतर कर लोगों से संपर्क कर उनकी नाराजगी को दूर करने के लिए लगाया जा सकता है।

पढ़ें :- आज लखनऊ में रहेंगे गृहमंत्री अमित शाह, प्रदेश को देंगे कई योजनाओ का तोहफा

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:
Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक, यूट्यूब और ट्विटर पर फॉलो करे...