1. हिन्दी समाचार
  2. उत्तर प्रदेश
  3. CSIR-CIMAP व NMPB मिलकर किसानों की आय में बढ़ोत्तरी का करेंगे प्रयास : डॉ. प्रबोध कुमार त्रिवेदी

CSIR-CIMAP व NMPB मिलकर किसानों की आय में बढ़ोत्तरी का करेंगे प्रयास : डॉ. प्रबोध कुमार त्रिवेदी

आज़ादी के 75वें अमृत महोत्सव (75th Amrit Mahotsav of Independence) के अंतर्गत वैज्ञानिक और औद्योगिक अनुसंधान परिषद-केंद्रीय औषधीय एवं सगंध पौधा संस्थान (CSIR-CIMAP), लखनऊ व राष्ट्रीय औषधीय पादप बोर्ड (NMPB), आयुष मंत्रालय भारत सरकार ने गुणवत्तापूर्ण पौध सामग्री के उत्पादन को बढ़ावा देने के लिए संयुक्त सहयोगात्मक प्रयासों के विस्तार के लिए सोमावर को एक समझौते पर हस्ताक्षर किए।

By संतोष सिंह 
Updated Date

लखनऊ। आज़ादी के 75वें अमृत महोत्सव (75th Amrit Mahotsav of Independence) के अंतर्गत वैज्ञानिक और औद्योगिक अनुसंधान परिषद-केंद्रीय औषधीय एवं सगंध पौधा संस्थान (CSIR-CIMAP), लखनऊ व राष्ट्रीय औषधीय पादप बोर्ड (NMPB), आयुष मंत्रालय भारत सरकार ने गुणवत्तापूर्ण पौध सामग्री के उत्पादन को बढ़ावा देने के लिए संयुक्त सहयोगात्मक प्रयासों के विस्तार के लिए सोमावर को एक समझौते पर हस्ताक्षर किए।

पढ़ें :- CSIR-CIMAP : 10 दिवसीय किसान मेला शुरू, स्मारिका "औस ज्ञान्या" का हुआ विमोचन

यह समझौता एनएमपीबी (NMPB) द्वारा चुने गए औषधीय पौधों और जड़ी-बूटियों एवं सीएसआईआर-सीमैप द्वारा उच्च गुणवत्तावाली उन्नत किस्मों की पौध सामग्री के विकास और विभिन्न कृषि-जलवायु क्षेत्रों में उपयुक्त औषधीय पौधों के गुणवत्तापूर्ण पौध सामग्री के विकास, संवर्धन, संरक्षण और खेती के लिए उनकी नर्सरी की स्थापना में मदद एवं सुविधा प्रदान करेगा। सीएसआईआर-सीमैप, लखनऊ चयनित औषधीय पौधों और जड़ी-बूटियों को बड़े पैमाने पर बढ़ाने, कृषि-प्रौद्योगिकी विकास, की गुणवत्ता रोपण सामग्री उत्पादन पर भी शोध करेगा।

समझौते के कार्यकाल के दौरान, एनएमपीबी (NMPB) अपनी कार्यान्वयन एजेंसियों अर्थात राज्य औषधीय पादप बोर्डों, राज्य बागवानी विभागों, भारत भर के क्षेत्रीय-सह-सुविधा केंद्रों के माध्यम एवं सीएसआईआर-सीमैप, लखनऊ एवं अपने शोध प्रक्षेत्रों के संयोजन और सहयोग से काम करेगा और गुणवत्तापूर्ण औषधीय पौधों की प्रजातियों के विकास से संबंधित परियोजनाओं का समर्थन करेगा।

आयुष मंत्रालय के अन्तर्गत काम करते हुए, एनएमपीबी (NMPB) औषधीय पौधों से संबंधित सभी मामलों का समन्वय करने और औषधीय पौधों के व्यापार, निर्यात, संरक्षण और खेती के विकास की नीतियों और कार्यक्रमों का समर्थन करने के लिए अधिकृत है।

इस अवसर पर सीएसआईआर-सीमैप (CSIR-CIMAP) के निदेशक, डॉ. प्रबोध कुमार त्रिवेदी (Dr. Prabodh Kumar Trivedi) ने बताया कि सीएसआईआर-सीमैप व एनएमपीबी (NMPB) दोनों मिलकर औषधीय पौधों के आयात को कम करके किसानों की आय में बढ़ोतरी करने का प्रयास करेगें ।

पढ़ें :- CSIR-CIMAP ने फूलों से अगरबत्ती बनाने की तकनीकी को किया हस्तांतरित

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:
Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक, यूट्यूब और ट्विटर पर फॉलो करे...