1. हिन्दी समाचार
  2. देश
  3. चक्रवाती तूफान तौकते: रेड अलर्ट पर केरल के 5 जिले, भारी बारिश के आसार

चक्रवाती तूफान तौकते: रेड अलर्ट पर केरल के 5 जिले, भारी बारिश के आसार

मानसून के समय के पहले पहुंचने की संभावना के बीच भारत मौसम विज्ञान विभाग (आईएमडी) ने शुक्रवार को सूचना जारी करते हुए तौकते चक्रवात की चेतावनी दी थी। भारत मौसम विज्ञान विभाग (IMD) ने शुक्रवार को चक्रवात तौकते को लेकर बड़ी चेतावनी जारी करते हुए कहा कि 17 मई को 'बहुत गंभीर चक्रवाती तूफान' में बदल सकता है।

By अनूप कुमार 
Updated Date

नई दिल्ली: मानसून के समय के पहले पहुंचने की संभावना के बीच भारत मौसम विज्ञान विभाग (आईएमडी) ने शुक्रवार को सूचना जारी करते हुए तौकते चक्रवात की चेतावनी दी थी। भारत मौसम विज्ञान विभाग (IMD) ने शुक्रवार को चक्रवात तौकते को लेकर बड़ी चेतावनी जारी करते हुए कहा कि 17 मई को ‘बहुत गंभीर चक्रवाती तूफान’ में बदल सकता है। मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक लक्षद्वीप द्वीप समूह और अरब सागर के ऊपर एक कम दबाव का क्षेत्र बन रहा है। रविवार तक एक शक्तिशाली चक्रवाती तूफान के आने की संभावना है और अगले चार दिनों में गुजरात, महाराष्ट्र और केरल के तटों से टकराने की संभावना है। भारत मौसम विज्ञान विभाग (आईएमडी) ने यह जानकारी दी। आईएमडी ने पहले ही मुंबई और ठाणे को येलो अलर्ट जारी कर दिया है, जो तेज हवाओं के साथ अलग-अलग भारी बारिश का संकेत देता है, जबकि गुजरात और केरल के कई जिलों के लिए ऑरेंज और रेड अलर्ट जारी किए गए हैं।

पढ़ें :- प्रो. पीके मिश्रा का इस्तीफा, तो विनय पाठक पर गंभीर आरोपों के बाद राजभवन की 'मेहरबानी' का क्या है 'राज'?

शनिवार को मलप्पुरम, कोझीकोड, वायनाड, कन्नूर, कासरगोड और केंद्र शासित प्रदेश लक्षद्वीप में रेड अलर्ट (20 सेमी से अधिक भारी बारिश) जारी किया गया है। जबकि कोल्लम, पठानमथिट्टा, अलाप्पुझा, कोट्टायम, एर्नाकुलम, इडुक्की और त्रिशूर के सात जिलों में ऑरेंज अलर्ट (11-20 सेंटीमीटर से अधिक बारिश) जारी किया गया है। तटीय क्षेत्र पिछले तीन दिनों से खराब मौसम का खामियाजा भुगत रहे थे, क्योंकि कम दबाव का क्षेत्र पश्चिमी तट के साथ एक गहरे अवसाद में तब्दील हो गया था।

केरल के कई हिस्सों में तौकते चक्रवात की वजह से तेज बारिश और तूफान की स्थिति बनी हुई है। मछुआरों को क्षेत्र में पानी से दूर रहने की चेतावनी दी गई है और वे सभी जो गहरे समुद्र में थे, अब वापस आ गए हैं। जिला प्रशासन ने कोल्लम, अलाप्पुझा, एर्नाकुलम, मलप्पुरम और कोझिकोड में घरों में पानी भर जाने के चलते तटीय क्षेत्रों से कमजोर परिवारों को निकालना शुरू कर दिया है। केरल राज्य आपदा प्रबंधन प्राधिकरण ने पहाड़ी क्षेत्रों में भूस्खलन की चेतावनी जारी की है।

अरब सागर में पहले से मौजूद मछुआरों को वापस लौटने की सलाह दी गई है जबकि अन्य को 14-18 मई तक समुद्र में ना उतरने की चेतावनी दी गई है। राष्ट्रीय आपदा प्रतिक्रिया बल, राज्य आपदा प्रतिक्रिया बल, भारतीय नौसेना और अन्य एजेंसियों को अगले कुछ दिनों में किसी भी घटना से निपटने के लिए हाई अलर्ट पर रखा गया है।

पढ़ें :- Parliament Live : पीएम मोदी, बोले- '2004 से 14 तक घोटालों का दशक, UPA ने मौकों को मुसीबत में पलटा'
Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक, यूट्यूब और ट्विटर पर फॉलो करे...