1. हिन्दी समाचार
  2. राजनीति
  3. Delia Road Bridge Lane: उद्धव ठाकरे के बेटे आदित्य समेत शिवसेना UBT के तीन नेताओं के खिलाफ FIR दर्ज, जानें मामला

Delia Road Bridge Lane: उद्धव ठाकरे के बेटे आदित्य समेत शिवसेना UBT के तीन नेताओं के खिलाफ FIR दर्ज, जानें मामला

Delia Road Bridge Lane Inauguration: डिलाइल रोड ब्रिज लेन (Delia Road Bridge Lane) के उद्घाटन को लेकर पूर्व सीएम उद्धव ठाकरे के बेटे आदित्य ठाकरे (Aditya Thackeray) और उनके गुट के नेता सुनील शिंदे व सचिन अहीर मुश्किलों में पड़ते नजर आ रहे हैं। मुंबई के एनएम जोशी पुलिस स्टेशन में तीनों नेताओं के खिलाफ आईपीसी की धारा 143, 149, 326 और 447 के तहत केस दर्ज किया गया है। मुंबई नगर निगम (Mumbai Municipal Corporation) के अधिकारियों ने इस तरह से उद्घाटन करना गैरकानूनी बताया है। 

By Abhimanyu 
Updated Date

Delia Road Bridge Lane Inauguration: डिलाइल रोड ब्रिज लेन (Delia Road Bridge Lane) के उद्घाटन को लेकर पूर्व सीएम उद्धव ठाकरे के बेटे आदित्य ठाकरे (Aditya Thackeray) और उनके गुट के नेता सुनील शिंदे व सचिन अहीर मुश्किलों में पड़ते नजर आ रहे हैं। मुंबई के एनएम जोशी पुलिस स्टेशन में तीनों नेताओं के खिलाफ आईपीसी की धारा 143, 149, 326 और 447 के तहत केस दर्ज किया गया है। मुंबई नगर निगम (Mumbai Municipal Corporation) के अधिकारियों ने इस तरह से उद्घाटन करना गैरकानूनी बताया है।

पढ़ें :- कथावाचक जया किशोरी को मिली जान से मारने की धमकी, लखनऊ में हजरतगंज थाने FIR दर्ज

दरअसल, वरली से विधायक आदित्य ठाकरे, पूर्व विधायक सचिन अहीर, सुनील शिंदे, मुंबई के पूर्व मेयर किशोरी पेडनेकर और स्नेहल अंबेकर ने गुरुवार देर रात लोअर परेल के डिलाइल ब्रिज (Delia Bridge) को आधिकारिक तौर पर खोल दिया था। इन नेताओं का कहना है कि लोगों को दिक्कते हो रही इसलिए ब्रिज को लोगो के लिए खोल दिया गया। हालांकि, लगभग तैयार इस ब्रिज के उद्घाटन का NOC नहीं मिला है और उद्घाटन होना बाकी है। अब जबरन ब्रिज खोलने के मामले में आदित्य ठाकरे (Aditya Thackeray) सहित अन्य नेताओं के खिलाफ एफ़आईआर दर्ज की गयी है।

इस मामले में मुंबई नगर निगम (Mumbai Municipal Corporation) के अधिकारियों का कहना है कि इस तरह से उद्घाटन करना गैरकानूनी है। नगर निगम के प्रस्तावित उद्घाटन से पहले ही आदित्य ठाकरे ने इस पुल का उद्घाटन कर इस पर यातायात शुरू कर दिया। वहीं, शिवसेना (शिंदे गुट) प्रवक्ता किरण पावस्कर (Kiran Pawaskar) ने कहा कि शिवसेना (यूबीटी) केवल श्रेय लेने की कोशिश कर रही है और कहती है कि उन्होंने इन परियोजनाओं को पूरा करने के लिए प्रयास किए। जब वे सत्ता में थे, तो वे घर बैठे थे और घर बैठने से कोई काम नहीं हो सकता था।

पावस्कर ने कहा कि हमें बताया गया कि अंतिम चरण में कुछ काम बाकी है, इसलिए इसे नहीं खोला गया। ये राजनीतिक नहीं बल्कि तकनीकी और इंजीनियरिंग के फैसले हैं और इन्हें समय से पहले खोलने से लोगों की जान को खतरा हो सकता है।

पढ़ें :- भगवान राम पर NCP नेता जितेंद्र आव्हाड ने की विवादित टिप्पणी, फिर माफी मांगी, बोले- राम हमारे दिल में…
इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:
Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक, यूट्यूब और ट्विटर पर फॉलो करे...