1. हिन्दी समाचार
  2. उत्तर प्रदेश
  3. जिन लोगों के हाथ राम भक्तों के खून से सने हैं, वह सलाह न दें : केशव प्रसाद मौर्य

जिन लोगों के हाथ राम भक्तों के खून से सने हैं, वह सलाह न दें : केशव प्रसाद मौर्य

उत्तर प्रदेश में आगामी विधानसभा चुनाव से पहले अयोध्या में बन रहा राम मंदिर विवादों के घेरे में आ गया है। विपक्ष के आरोपों के मुताबिक, 2 करोड़ की जमीन को ट्रस्ट ने साढ़े 18 करोड़ में खरीदा है। पहले जमीन की कीमत 2 करोड़ थी, लेकिन महज 10 मिनट में ही डील पक्की हुई।

By संतोष सिंह 
Updated Date

लखनऊ। उत्तर प्रदेश में आगामी विधानसभा चुनाव से पहले अयोध्या में बन रहा राम मंदिर विवादों के घेरे में आ गया है। विपक्ष के आरोपों के मुताबिक, 2 करोड़ की जमीन को ट्रस्ट ने साढ़े 18 करोड़ में खरीदा है। विपक्ष का आरोप है कि पहले इस जमीन की कीमत 2 करोड़ थी ,लेकिन महज 10 मिनट में ही डील पक्की हुई। इसकी कीमत हो साढ़े 18 करोड़ गई । विपक्ष ने श्री राम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट पर भ्रष्टाचार के गंभीर आरोप लगाते हुए इस मामले की जांच सीबीआई और प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) से कराने की मांग की है।

पढ़ें :- शारदीय नवरात्रों को लेकर सीएम योगी ने जारी किया सख्त निर्देश

अब इस विवाद पर उत्तर प्रदेश के डिप्टी सीएम केशव प्रसाद मौर्य ने कहा कि जिन लोगों के हाथ राम भक्तों के खून से सने हैं, वह सलाह न दें। उन्होंने कहा कि अगर इस मामले में कोई गड़बड़ी है जांच होगी।

कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा ने सोमवार को श्री राम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट पर जमीन के सौदे में कथित भ्रष्टाचार के दावे का पर बड़ा हमला बोला है। उन्होंने आरोप लगाया कि राम मंदिर के लिए मिले चंदे का दुरुपयोग करोड़ों लोगों की आस्था का अपमान और अधर्म है। प्रियंका ने ट्वीट कहा कि करोड़ों लोगों ने आस्था और भक्ति के चलते भगवान के चरणों में चढ़ावा चढ़ाया है। उस चंदे का दुरुपयोग अधर्म है, पाप है, उनकी आस्था का अपमान है। बता दें कि आम आदमी पार्टी (आप) के राज्यसभा सदस्य संजय सिंह ने रविवार को श्री राम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट पर भ्रष्टाचार के गंभीर आरोप लगाते हुए। इस मामले की जांच सीबीआई और प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) से कराने की मांग की थी।

संजय सिंह ने लखनऊ में दावा किया था कि ट्रस्ट के महासचिव चंपत राय ने संस्था के सदस्य अनिल मिश्रा की मदद से दो करोड़ रुपए कीमत की जमीन 18 करोड़ रुपए में खरीदी है। उन्होंने कहा था कि यह सीधे-सीधे मनी लॉन्ड्रिंग का मामला है और सरकार इसकी सीबीआई और प्रवर्तन निदेशालय से जांच कराये।

वहीं, सपा सरकार में मंत्री रहे और अयोध्या के पूर्व विधायक पवन पांडे ने भी अयोध्या में राय पर भ्रष्टाचार के ऐसे ही आरोप लगाए है। उन्होंने इस मामले की जांच सीबीआई से कराने की मांग की है। चंपत राय ने इस पर प्रतिक्रिया व्यक्त करते हुए कहा कि वह इस तरह के आरोपों से नहीं डरते और इन आरोपों का अध्ययन करेंगे।

पढ़ें :- IILM 17th Academy Convocation 2022 : प्रो. मनोज दीक्षित ने मेधावियों को दिया मंत्र 'पढ़ें, कमाएं और लौटाऐं'

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:
Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक, यूट्यूब और ट्विटर पर फॉलो करे...