1. हिन्दी समाचार
  2. क्षेत्रीय
  3. प्रतिबंध के बाद जमकर हुई आतिशबाजी, वायु गुणवत्ता सूचकांक ‘गंभीर’ श्रेणी में पहुंचा, आंखों में जलन की समस्या बढ़ी

प्रतिबंध के बाद जमकर हुई आतिशबाजी, वायु गुणवत्ता सूचकांक ‘गंभीर’ श्रेणी में पहुंचा, आंखों में जलन की समस्या बढ़ी

दिल्ली एनसीआर (Delhi NCR) में पटाखों के पर लगे प्रतिबंध के बाद भी दिवाली (Diwali) के मौके पर जमकर आतिशबाजी हुई। आतिशबाजी के कारण आज सुबह से वहां की हवा में प्रदूषण बढ़ गया है। लोगों को प्रदूषण (Pollution) के कारण परेशानी भी बढ़ गयी है। पराली जलाने के कारण पहले से ही प्रदूषण (Pollution) बढ़ा हुआ था। ऐसे में अब पटाखों से वहां का प्रदूषण बढ़ गया है।

By शिव मौर्या 
Updated Date

नई दिल्ली। दिल्ली एनसीआर (Delhi NCR) में पटाखों के पर लगे प्रतिबंध के बाद भी दिवाली (Diwali) के मौके पर जमकर आतिशबाजी हुई। आतिशबाजी के कारण आज सुबह से वहां की हवा में प्रदूषण बढ़ गया है। लोगों को प्रदूषण (Pollution) के कारण परेशानी भी बढ़ गयी है। पराली जलाने के कारण पहले से ही प्रदूषण (Pollution) बढ़ा हुआ था। ऐसे में अब पटाखों से वहां का प्रदूषण बढ़ गया है।

पढ़ें :- दिल्ली में प्रदूषण पर तत्काल सुनवाई करने से Supreme Court का इनकार, CJI बोले-हर चीज में नहीं घुस सकती अदालत

दिल्ली (Delhi NCR) के आस—पास के क्षेत्रों में भी प्रदूषण का असर देखने को मिला है। बता दें कि, दिल्ली एनसीआर (Delhi NCR) में दिवाली के मौके पर पटाखों पर प्रतिबंध लगाया गया था। सीएम केजरीवाल ने भी पटाखे नहीं जलाने की अपील की थी। बावजूद इसके लोग अपने घरों, छत और अन्य जगहों से जमकर आतिशबाजी किए। इसके कारण आज सुबह से वहां प्रदूषण काफी ज्यादा बढ़ गया।

शुक्रवार सुबह ही​ दिल्ली एनसीआर (Delhi NCR) के पास क्षेत्रों में धुंध सा छायी हुई है। साथ ही कई क्षेत्रों के लोगों के आंखों में जलन और आंखों से पानी निकलने की परेशानी बढ़ गयी है। प्राधिकारियों ने बताया कि शुक्रवार को पराली जलाए जाने से उठने वाले धुएं के कारण हालात और बिगड़ सकते हैं।

केंद्रीय प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड (सीपीसीबी) के मुताबिक, फेफड़ों को नुकसान पहुंचाने वाले महीन कण यानी पीएम2.5 की 24 घंटे की औसत सांद्रता बढ़कर शुक्रवार को सुबह नौ बजे 410 माइक्रोग्राम प्रति घन मीटर हो गयी जो 60 माइकोग्राम प्रति घन मीटर की सुरक्षित दर से करीब सात गुना अधिक है। बृहस्पतिवार शाम छह बजे इसकी औसत सांद्रता 243 माइक्रोग्राम प्रति घन मीटर थी।

देश मे दूसरे स्थान पर गाजियाबाद
दीपावली की रात वायु प्रदूषण के मामले में गाजियाबाद देश मे दूसरे नंबर पर रहा। यहां एक्यूआई 441 रहा। पहले नंबर पर जींद रहा।

पढ़ें :- Delhi Pollution 2022 : दिल्ली में स्कूल बंद, ऑड-ईवन फार्मूला हो सकता है लागू

शहर                          एक्यूआई
जींद                             494
गाजियाबाद                   441
नोएडा                           461
गुरुग्राम                         438
बहादुरगढ़                     426
फरीदाबाद                     423
दिल्ली                            422

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:
Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक, यूट्यूब और ट्विटर पर फॉलो करे...