1. हिन्दी समाचार
  2. देश
  3. Good news : भारत में भी जल्द बच्चों को लग सकेगा कोरोना का टीका, भारत बायोटेक को ट्रायल की मिली मंजूरी

Good news : भारत में भी जल्द बच्चों को लग सकेगा कोरोना का टीका, भारत बायोटेक को ट्रायल की मिली मंजूरी

देश में कोरोना महामारी की तीसरी लहर को लेकर चेतावनी जारी की गई है, उसमें सबसे अधिक बच्चों के संक्रमित होने की आशंका जताई गई है। इसको देखते हुए सरकार ने बड़ा कदम उठाया है। एक विशेषज्ञ समिति ने मंगलवार को 2 से 18 आयुवर्ग के लिए भारत बायोटेक के कोविड वैक्सीन के दूसरे व तीसरे चरण के लिए परीक्षण की सिफारिश की थी, जिसे भारत सरकार ने मंजूरी दे दी है। यह जानकारी आधिकारिक सूत्रों ने दी।

By संतोष सिंह 
Updated Date

नई दिल्ली। देश में कोरोना महामारी की तीसरी लहर को लेकर चेतावनी जारी की गई है, उसमें सबसे अधिक बच्चों के संक्रमित होने की आशंका जताई गई है। इसको देखते हुए सरकार ने बड़ा कदम उठाया है। एक विशेषज्ञ समिति ने मंगलवार को 2 से 18 आयुवर्ग के लिए भारत बायोटेक के कोविड वैक्सीन के दूसरे व तीसरे चरण के लिए परीक्षण की सिफारिश की थी, जिसे भारत सरकार ने मंजूरी दे दी है। यह जानकारी आधिकारिक सूत्रों ने दी।

पढ़ें :- अनाथ बच्चों के लिए सीएम योगी ने दी बड़ी सौगात

बता दें कि कोरोना वैक्सीन से जुड़ी सब्जेक्ट एक्सपर्ट कमेटी (एसईसी) ने मंगलवार को सिफारिश की थी। कहा ​था कि भारत बायाटेक की कोवैक्सीन के दूससे और तीसरे चरण के क्लीनिकल ट्रायल को मंजूरी देनी चाहिए, जोकि 2 से 18 साल तक के बच्चों पर किया जाएगा। उन्होंने बताया कि यह परीक्षण दिल्ली व पटना के एम्स और नागपुर स्थित मेडिट्रिना चिकित्सा विज्ञान संस्थान समेत विभिन्न स्थानों पर किया जाएगा।

सीडीएससीओ से कंपनी ने मांगी थी अनुमति 

बता दें कि केंद्रीय औषधि मानक नियंत्रण संगठन (सीडीएससीओ) की कोविड-19 विषय विशेषज्ञ समिति ने मंगलवार को भारत बायोटेक द्वारा किए गए उस आवेदन पर विचार-विमर्श किया, जिसमें उसके कोवैक्सीन टीके की दो साल से 18 साल के बच्चों में सुरक्षा और रोग-प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने समेत अन्य चीजों का आकलन करने के लिए परीक्षण के दूसरे व तीसरे चरण की अनुमति देने का अनुरोध किया गया था। एक सूत्र ने कहा कि कंपनी के आवेदन पर विस्तृत विचार-विमर्श के बाद समिति ने प्रस्तावित दूसरे व तीसरे चरण के परीक्षण की अनुमति दिए जाने की सिफारिश की थी।

बता दें कि भारत में अभी तक जिन दो कोविड वैक्सीन का इस्तेमाल किया जा रहा है। दोनों का 18 साल से अधिक उम्र वाले लोगों को पर ही इनका क्लीनिकल ट्रायल किया गया है। भारत में सीरम इंस्टीट्यूट की कोविशील्ड, भारत बायोटेक की कोवैक्सीन को लोगों को लगाई जा रही हैं। ऐसे में तीसरी लहर की चेतावनी से पहले बच्चों पर ट्रायल को मंजूरी देना बड़ा फैसला माना जा रहा है।

पढ़ें :- भारत में कोरोना से प्रत्यक्ष-अप्रत्यक्ष तौर पर हुईं 47 लाख मौत, डब्ल्यूएचओ के दावे पर सरकार ने उठाया सवाल

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:
Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक, यूट्यूब और ट्विटर पर फॉलो करे...