1. हिन्दी समाचार
  2. उत्तर प्रदेश
  3. गोरखपुर : फरियादियों को अब दर-दर नहीं पड़ेगा भटकना, एसएसपी सुनाएंगे ‘ऑन द स्पॉट’ फैसला

गोरखपुर : फरियादियों को अब दर-दर नहीं पड़ेगा भटकना, एसएसपी सुनाएंगे ‘ऑन द स्पॉट’ फैसला

गोरखपुर जिले के फरियादियों की समस्याओं के निस्तारण और फरियादियों को त्वरित न्याय दिलाने के लिए लोकल स्तर पर कैंप कार्यालय में कंट्रोल रूम स्थापित किया जाएगा। अब बेवजह फरियादियों को इधर-उधर चक्कर लगाने की आवश्यकता नहीं पड़ेगी ।

By संतोष सिंह 
Updated Date

गोरखपुर। गोरखपुर जिले के फरियादियों की समस्याओं के निस्तारण और फरियादियों को त्वरित न्याय दिलाने के लिए लोकल स्तर पर कैंप कार्यालय में कंट्रोल रूम स्थापित किया जाएगा। अब बेवजह फरियादियों को इधर-उधर चक्कर लगाने की आवश्यकता नहीं पड़ेगी ।

पढ़ें :- Yogi Cabinet : जैव ऊर्जा और एमएसएमई की नई नीति समेत 20 प्रस्तावों पर लगी मुहर

अगर आप अपनी समस्या के फरियाद लिए ​गोरखपुर के किसी भी थाने का चक्कर काट रहे हैं या फिर आपके पास अपराध व अपराधियों के बारे में कोई सटीक जानकारी है। तो इसके लिए अब आपको पुलिस थानों के चक्कर नहीं काटने होंगे। बल्कि अब आपकी हर समस्या पर जिले के पुलिस कप्तान की सीधी नजर होगी। आप बिना उनके पास गए घर बैठे ही अपनी फरियाद पुलिस अधिकारियों तक पहुंचा सकेंगे। खास बात यह होगी कि अगर आपकी फरियाद सही है, तो आपके मामले में फैसला भी ऑन द स्पॉट होगा। यानी कि आपको तत्काल मदद दी जाएगी। साथ ही आपके काम में लापरवाही करने वाले थानेदारों पर भी कार्रवाई की जाएगी। इसके लिए गोरखपुर एसएसपी दिनेश कुमार प्रभु ने एक अच्छी पहल की है।

इसके लिए एसएसपी कैंप कार्यालय पर एक कंट्रोल रूम की स्थापना की जा रही है। जिसकी मॉनी​टरिंग सीधा जिले के पुलिस कप्तान खुद करेंगे। इस कंट्रोल रूम पर आने वाली शिकायातों को तत्काल निस्तारित भी किया जाएगा। सबसे अहम बात यह है कि इसके लिए आपको जिले के दुर दराज इलाकों से पुलिस दफ्तर आकर एसएसपी से मिलने की भी जरूरत नहीं होगी, बल्कि घर बैठे अब कोई भी अपनी समस्या ऑनलाइन पुलिस कप्तान तक पहुंचा सकेगा। इतना ही नहीं अगर आपके आसपास कोई गलत काम हो रहा है या फिर आपको किसी अपराध या अपराधी के बारे में कोई ठोस जानकारी है तो, आप वह भी एसएसपी के कंट्रोल रूम से शेयर कर सकेंगे।

एसएसपी दिनेश कुमार प्रभु ने बताया कि दफ्तर में बैठने के साथ ही छोटी-छोटी समस्याओं को लेकर दूर-दराज इलाकों से फरियाद लेकर आने वाले लोगों की लाइन लग जाती है। ऐसे में इस बात से कतई इंकार नहीं किया जा सकता कि पुलिस थानों पर आम पब्लिक के समस्या की ठीक से सुनवाई नहीं होती। ऐसे में अगर सभी समस्याएं पुलिस अधिकारियों या फिर मुख्यमंत्री के जनता दरबार तक आए तो फिर थानों पर तैनात थानेदारों का क्या काम? एसएसपी ने बताया कि इसे देखते हुए एक कंट्रोल रूम स्थापित किया जा रहा है। जो मेरे कैंप कार्यालय से संचालित होगा। साथ ही उसकी मॉनीटरिंग भी मैं स्वयं करूंगा। इस कंट्रोल रूम पर किसी भी तरह की शिकायत या सूचना ऑनलाइन शेयर की जा सकती है। जिसका तत्काल निस्तारण भी होगा।

वहीं पुलिस थानों पर रिश्वत मांगने से लेकर आम पब्लिक के साथ ठीक व्यवहार करने की भी शिकायत अक्सर मिलती है। इसे देखते हुए कंट्रोल रूम बनाने का फैसला लिया गया है। जिसका प्लान भी लगभग पूरी तरह तैयार किया जा चुका है। उम्मीद है इसी हफ्ते कंट्रोल रूम का संचालन भी शुरू हो जाएगा। इस कंट्रोल रूम में खास बात यह होगी कि यहां आने वाली शिकायतों व सूचनाओं को पूरी तहर से गोपनीय भी रखा जाएगा। ताकि अधिक से अधिक लोग इससे जुड़ सकें। इससे लोगों को मदद तो मिलेगी ही साथ ही आम पब्लिक का पुलिस से जुड़ाव भी होगा।

पढ़ें :-  लखनऊ की मण्डलायुक्त ने आवासीय व व्यवसायिक योजनाओं में 2 प्रतिशत ब्याज की कटौती का लिया बड़ा फैसला

पुलिस कप्तान ने कहा कि आज यह देखने को मिलता है कि पुलिस से अधिक जानकारी किसी भी मामले में आम पब्लिक को होती है लेकिन वह पुलिस के व्यवहार व भय से अपनी बात उन तक पहुंचाने में कतराते हैं। इसके लिए सोशल मीडिया का भी सहारा लिया जाएगा। जिसमें शिकायत करने के लिए बकायदा मोबाइल नंबर जारी होंगे। साथ ही व्हाट्सअप ग्रुप, फेसबुक पेज व ट्वीटर हैंडल के जरिए भी लोगों को कंट्रोल रूम् से जोड़ा जाएगा। इसके लिए एसएसपी का मोबाइल नंबर 9454400273, एसएसपी पीआरओ 9454403528 के अलावा भी जल्द ही कुछ अन्य नंबर भी जारी किए जाएंगे।

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:
Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक, यूट्यूब और ट्विटर पर फॉलो करे...