1. हिन्दी समाचार
  2. दिल्ली
  3. ओरेवा कंपनी का मालिक अगर तेजस्वी-अखिलेश का करीबी होता तो अब तक बुल्डोजर पहुंच चुका होता: रवीश कुमार

ओरेवा कंपनी का मालिक अगर तेजस्वी-अखिलेश का करीबी होता तो अब तक बुल्डोजर पहुंच चुका होता: रवीश कुमार

मोरबी पुल हादसे (Morbi Bridge Accident) पर एक बड़ा खुलासा हुआ है। जिस ओरेवा कंपनी को मेंटेनेंस का ठेका दिया गया था उसने सिर्फ 6 फीसदी धनराशि खर्च किया था। यानी 94 फीसदी धनराशि का घोटाला कर लिया था। जांच में पता चला कि दो करोड़ की राशि मुहैया कराई गई थी मगर इस कंपनी ने मरम्मत पर सिर्फ 12 लाख रुपए खर्च किए थे।

By संतोष सिंह 
Updated Date

नई दिल्ली। मोरबी पुल हादसे (Morbi Bridge Accident) पर एक बड़ा खुलासा हुआ है। जिस ओरेवा कंपनी (Oreva Company) को मेंटेनेंस का ठेका दिया गया था उसने सिर्फ 6 फीसदी धनराशि खर्च किया था। यानी 94 फीसदी धनराशि का घोटाला कर लिया था। जांच में पता चला कि दो करोड़ की राशि मुहैया कराई गई थी मगर इस कंपनी ने मरम्मत पर सिर्फ 12 लाख रुपए खर्च किए थे।

पढ़ें :- यूपी देश के टॉप-4 राज्यों में शामिल, 75 लाख से अधिक नल कनेक्शन देने का आंकड़ा किया पार

मोरबी पुल हादसे पर बड़ा खुलासा : दो करोड़ की राशि मुहैया कराई , मगर  कंपनी ने मरम्मत पर सिर्फ 12 लाख रुपए खर्च किए 

इतने बड़े घोटाले पर खुलासा होने के बावजूद मीडिया की चुप्पी हैरान करने वाली है। साफ पता चल रहा है कि गुजरात की भाजपा सरकार और कंपनी के मालिक के बीच की सरकार को छुपाने की कोशिश की जा रही है। इस पर प्रतिक्रिया देते हुए पत्रकार रवीश कुमार ट्विटर पर लिखा कि मोरबी पुल के टूटने से 140 लोग मर गए। यह ख़बर घोटाले को भी उजागर करती है, फिर भी जयसुख पटेल के ख़िलाफ़ कार्रवाई नहीं होती है।

उन्होंने कहा कि अगर इसके दोषी तेजस्वी और अखिलेश यादव हैं, अगर दोनों ने जयसुख पटेल को अपना करीबी घोषित कर दिया होता तो गोदी मीडिया ED और बुलडोज़र लेकर तुरंत पहुंच चुका होता। बता दें कि मार्च 2022 में मोरबी नगर निगम और ओरेवा समूह की अजंता मैन्युफैक्चरिंग प्राइवेट लिमिटेड के बीच 15 साल का करार हुआ था यानी इस कंपनी के जिम्मे ये पुल 2037 तक था।

मगर पुल का उद्घाटन होने के हफ्ते भर के अंदर ही ये हादसा हो गया और 100 से ज्यादा लोगों को अपनी जान गंवानी पड़ी। अब सवाल उठ रहे हैं कि अंग्रेजों के जमाने के बने इस पुल की मेंटेनेंस के लिए सिर्फ 6 फीसदी राशि क्यों खर्च की गई?  मीडिया रिपोर्ट्स के जरिए यह बात सामने आ चुकी है कि पुराने जंग लगे केबल और नट बोल्ट के सहारे ही पुल का फिर से उदघाटन कर दिया गया था।

पढ़ें :- Shanti Bhushan Passes Away: पूर्व कानून मंत्री शांति भूषण नहीं रहे, 97 साल की उम्र में ली अंतिम सांस

Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक, यूट्यूब और ट्विटर पर फॉलो करे...