HBE Ads
  1. हिन्दी समाचार
  2. उत्तर प्रदेश
  3. Keshav Prasad Maurya Jeevan Parichay: विरासत में नहीं मिली राजनीति फिर भी ‘न्याय प्रिय’ हो गए केशव

Keshav Prasad Maurya Jeevan Parichay: विरासत में नहीं मिली राजनीति फिर भी ‘न्याय प्रिय’ हो गए केशव

Keshav Prasad Maurya Jeevan Parichay: उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव 2017 (UP assembly elections ) से पहले केशव प्रसाद मौर्य (Keshav Prasad Maurya) के नाम को बहुत ही कम लोग जानते थे। हालांकि, इससे पहले वह फूलपुर के सांसद जरूर थे लेकिन प्रदेश की राजनीति में उनका हस्तक्षेप ज्यादा नहीं था। इस कारण लोगों का जुड़ाव उनसे बहुत ज्यादा नहीं था।

By शिव मौर्या 
Updated Date

Keshav Prasad Maurya Jeevan Parichay: उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव 2017 (UP assembly elections ) से पहले केशव प्रसाद मौर्य (Keshav Prasad Maurya) के नाम को बहुत ही कम लोग जानते थे। हालांकि, इससे पहले वह फूलपुर के सांसद जरूर थे लेकिन प्रदेश की राजनीति में उनका हस्तक्षेप ज्यादा नहीं था। इस कारण लोगों का जुड़ाव उनसे बहुत ज्यादा नहीं था।

पढ़ें :- इंडी गठबंधन की मानसिकता ही महिला विरोधी है...पीएम मोदी का विपक्षी दलों पर निशाना

इन सबके बीच भाजपा ने जैसे ही उन्हें यूपी अध्यक्ष की कमान दी उन्होंने अपनी का​बिलियत के बल पर प्रदेश की राजनीति में एक नया अयाम लिखना शुरू कर दिया। देखते ही देखते वह पिछड़ों के बड़े नेता बन गए। भाजपा की प्रदेश में सरकार बनते ही उन्हें लोक निर्माण विभाग (पीडब्ल्यूडी) जैसे बड़े विभाग का मंत्री बनाया गया। यही नहीं पिछड़ों को साधने के लिए उन्हें डिप्टी सीएम की कमान भी सौंपी गयी।

जीवन शैली
डिप्टी सीएम केशव मौर्य (Keshav Prasad Maurya) का जन्म उत्तर प्रदेश के कौशाम्बी (kaushambi) जिले के सिराथू के कसिया गांव में हुआ था। इनके पिता श्याम लाल चाय की दुकान के साथ खेती करते थे। बताया जाता है कि केशव मौर्य भी बचपन में पिता की दुकान पर बैठते थे और अखबार बांटने का काम करते थे। इस दौरान राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के सम्पर्क में आए। इसके साथ ही वह बजरंग दल और भाजपा में करीब 18 साल तक प्रचारक की भूमिका अदा किए। वहीं, इस दौरान उन्होंने गौ रक्षा समेत कई मुद्दे को लेकर आंदोलन किए और जेल भी गए।

राजनीति जीवन
केशव प्रसाद मौर्य (Keshav Prasad Maurya)  पहली बार 2002 में भाजपा के टिकट पर इलाहाबाद के पश्चिमी विधानसभा सीट से चुनाव लड़े थे लेकिन उन्हें हार का सामना करना पड़ा था। इसके बाद उन्हें 2007 में के चुनाव भी हार मिली थी। हालांकि, तीसरी बार वह 2012 में सिरथू विधानसभा सीट से विधानसभा पहुंचे थे। वहीं, इसके बाद लोकसभा चुनाव 2014 में भाजपा ने फूलपुर से उन्हें लोकसभा उम्मीदवार बनाया और वह भारी मतों से जीत हासिल की। वहीं, अप्रैल 2016 में भाजपा ने उन्हें यूपी प्रदेश अध्यक्ष की जिम्मेदारी सौंपी। यूपी विधानसभा चुनाव में भाजपा की जीत के बाद उन्हें डिप्टी सीएम बना दिया गया।

ये है पूरा सफरनामा
नाम — केशव प्रसाद मौर्य
जन्मतिथि — 07-05- 1968
पिता — श्यामलाल मौर्य
माता — धनपती देवी मौर्या
पत्नी — राजकुमारी देवी मौर्या
बच्चे — दो पुत्र
मूल निवास — ग्राम कसिया, तहसील सिराथू, जनपद कौशांबी

पढ़ें :- नरेंद्र मोदी आदिवासी समाज से करते हैं नफ़रत , ये बीजेपी वाले अब ख़ुद को भगवान से भी बड़ा समझने लग गये हैं : अरविंद केजरीवाल

Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक, यूट्यूब और ट्विटर पर फॉलो करे...