HBE Ads
  1. हिन्दी समाचार
  2. दिल्ली
  3. Land For Job Scam : ईडी ने फाइल की पहली चार्जशीट, पूर्व सीएम राबड़ी देवी और सांसद मीसा का नाम शामिल

Land For Job Scam : ईडी ने फाइल की पहली चार्जशीट, पूर्व सीएम राबड़ी देवी और सांसद मीसा का नाम शामिल

Land For Job Scam: प्रवर्तन निदेशालय (ED) ने रेलवे की नौकरियों के बदले जमीन से जुड़े धनशोधन मामले में मंगलवार को अपना पहला आरोपपत्र दायर किया जिसमें बिहार की पूर्व मुख्यमंत्री राबड़ी देवी (Former Chief Minister of Bihar Rabri Devi) और सांसद बेटी मीसा भारती (Misa Bharti) का नाम है।

By संतोष सिंह 
Updated Date

Land For Job Scam: प्रवर्तन निदेशालय (ED) ने रेलवे की नौकरियों के बदले जमीन से जुड़े धनशोधन मामले में मंगलवार को अपना पहला आरोपपत्र दायर किया जिसमें बिहार की पूर्व मुख्यमंत्री राबड़ी देवी (Former Chief Minister of Bihar Rabri Devi) और सांसद बेटी मीसा भारती (Misa Bharti) का नाम है। एजेंसी के अनुसार अभियोजन शिकायत (आरोपपत्र) में राजद प्रमुख लालू प्रसाद यादव (RJD chief Lalu Prasad Yadav) के परिवार के कथित ‘करीबी सहयोगी’ अमित कत्याल, कुछ अन्य व्यक्तियों और कंपनियों के नाम भी शामिल हैं।

पढ़ें :- Saran District Firing: बिहार के सारण में वोटिंग के बाद 2 पक्षों में फायरिंग; तीन को लगी गोली, एक की मौत

सूत्रों ने बताया कि दिल्ली में धन शोधन रोकथाम अधिनियम (PMLA) की विशेष अदालत के समक्ष आरोपपत्र दायर किया गया और अदालत ने मामले की सुनवाई के लिए 16 जनवरी की तारीख तय की है। ईडी (ED) ने कत्याल को पिछले साल नवंबर में इस मामले में गिरफ्तार किया था, जबकि लालू प्रसाद यादव (Lalu Prasad Yadav) और उनके बेटे और बिहार के उपमुख्यमंत्री तेजस्वी यादव (Bihar Deputy Chief Minister Tejashwi Yadav) को एजेंसी ने तलब किया था, लेकिन वे अभी तक पेश नहीं हुए हैं। यह कथित घोटाला उस समय का है जब प्रसाद संप्रग-1 सरकार में रेल मंत्री थे।

आरोप है कि 2004 से 2009 तक भारतीय रेलवे (Indian Railways) के विभिन्न जोनों में ग्रुप ‘डी’ के पदों पर कई लोगों को नियुक्त किया गया और बदले में इन लोगों ने अपनी जमीन तत्कालीन रेल मंत्री लालू प्रसाद यादव (Railway Minister Lalu Prasad Yadav) के परिवार के सदस्यों और एके इन्फोसिस्टम्स प्राइवेट लिमिटेड (AK Infosystems Private Limited) नाम की एक कंपनी को हस्तांतरित कर दी थी। पीएमएलए (PMLA)  की आपराधिक धाराओं के तहत दर्ज धनशोधन का मामला केंद्रीय जांच ब्यूरो (CBI) की ओर से दर्ज शिकायत से उपजा है। सीबीआई (CBI)  इस मामले में पहले भी आरोपपत्र दाखिल कर चुकी है।

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:
Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक, यूट्यूब और ट्विटर पर फॉलो करे...