1. हिन्दी समाचार
  2. दुनिया
  3. Liz Truss : ब्रिटेन की नई प्रधानमंत्री लिज ट्रस ने पार्षद से शुरू किया था राजनीतिक सफर, जानें कैसी चढ़ती गई सफलता की सीढ़ियां

Liz Truss : ब्रिटेन की नई प्रधानमंत्री लिज ट्रस ने पार्षद से शुरू किया था राजनीतिक सफर, जानें कैसी चढ़ती गई सफलता की सीढ़ियां

Liz Truss : लिज ट्रस (Liz Truss) ब्रिटेन की नई प्रधानमंत्री (Britain's New Prime Minister) होंगी। लिज ट्रस की जिंदगी भी काफी रोचक है। लिज ट्रस (Liz Truss)  का पूरा नाम मैरी एलिजाबेथ ट्रस (Full Name Mary Elizabeth Truss) है। इनका जन्म 26 जुलाई 1975 को इंग्लैंड के ऑक्सफोर्ड में हुआ था।

By संतोष सिंह 
Updated Date

Liz Truss : लिज ट्रस (Liz Truss) ब्रिटेन की नई प्रधानमंत्री (Britain’s New Prime Minister) होंगी। लिज ट्रस की जिंदगी भी काफी रोचक है। लिज ट्रस (Liz Truss)  का पूरा नाम मैरी एलिजाबेथ ट्रस (Full Name Mary Elizabeth Truss) है। इनका जन्म 26 जुलाई 1975 को इंग्लैंड के ऑक्सफोर्ड में हुआ था। पिता जॉन केनेथ (Father John Kenneth) और मां प्रिसिला मैरी ट्रस (Mother of Priscilla Marie Truss) थीं। पिता लीड्स विश्वविद्यालय (University of Leeds) में गणित के प्रोफेसर, जबकि उनकी मां एक नर्स थीं।

पढ़ें :- लिज ट्रस होंगी ब्रिटेन की नई पीएम, भारतवंशी ऋषि सुनक चुनाव हारे

जब ट्रस चार साल की थीं, तब उनका परिवार स्कॉटलैंड शिफ्ट हो गया था। यहां उन्होंने शुरुआती पढ़ाई की। इसके कुछ साल बाद कनाडा शिफ्ट हो गईं। 1996 में ट्रस ने मेर्टन कॉलेज (Merton College), ऑक्सफोर्ड से दर्शन, राजनीति और अर्थशास्त्र की पढ़ाई की है। छात्रनेता के रूप में ट्रस ने लेबर पार्टी के लिए खूब प्रचार भी किया। हालांकि, स्नातक खत्म होते-होते यानी 1996 में उन्होंने डेमोक्रेट्स छोड़कर कंजरवेटिव पार्टी (Conservative Party) जॉइन कर ली। तभी से वह इस पार्टी में हैं।

ऐसे शुरु हुआ सियासी सफर
1996 से 2000 के बीच ट्रस ने शेल के लिए अकाउंटेंट के तौर पर काम किया। ब्रिटेन की टेलीकम्युनिकेशन कंपनी केबिल एंड वायरलेस में भी उन्होंने काम किया है। इस कंपनी में वह इकनॉमिक डायरेक्टर के पद तक पहुंची थीं। 2005 में उन्होंने कंपनी छोड़ दी। ट्रस ने 1998 और 2002 में ग्रीनविच लंदन बोरो काउंसिल इलेक्शन(2002 Greenwich London Borough Council election) भी लड़ा भी लड़ा, हालांकि दोनों में ही उन्हें हार मिली। चार मई 2006 को उन्होंने पहला चुनाव पार्षद के तौर पर जीता। इसके बाद 2010 में वह पहली बार सांसद चुनी गईं।

बताया जाता है कि जब वह सांसद का चुनाव लड़ रहीं थीं, तब उनके पिता ने इसलिए प्रचार करने से मना कर दिया क्योंकि ट्रस कंजरवेटिव पार्टी (Conservative Party) से थीं और वह लेबर पार्टी को पसंद करते थे। हालांकि मां ने जरूर ट्रस के लिए प्रचार किया। सांसद बनने के दो साल बाद वह शिक्षामंत्री भी बन गईं। बतौर शिक्षामंत्री उन्होंने कई बड़े काम किए। एक सर्वे करवाया, जिसमें मालूम चला कि 18 वर्ष तक केवल 20 प्रतिशत ब्रिटिश छात्र गणित पढ़ पाते हैं। ऐसे में उन्होंने पूर्णकालिक बच्चों के लिए गणित विषय अनिवार्य कर दिया। 2014 में उन्हें पर्यावरण मंत्री (Environment Minister) बनाया गया।

ये भी जानें

पढ़ें :- UK Prime Minister Race : ब्रिटेन में आज होगी PM की घोषणा, लिज़ ट्रस या ऋषि सुनक किसके सिर सजेगा ताज?  
  • यूरोपिय संघ (European Union) से यूके (UK) के बाहर निकलने का पहले ट्रस ने विरोध किया था। इस प्रक्रिया को ब्रेक्जिट कहा जाता है। हालांकि, बाद में वह इसका समर्थन करने लगीं। ब्रेक्जिट के लिए 2016 में एक जनमत संग्रह हुआ था। इसमें 51.89 प्रतिशत लोगों ने ब्रेक्जिट का समर्थन किया था।
  • 2016 में ट्रस को न्याय सचिव बनाया गया। 2017 में उन्हें ट्रेजरी प्रमुख का पद दे दिया। 2019 में जब जॉन बोरिसन प्रधानमंत्री (John Borison Prime Minister) बने तो लिज ट्रस (Liz Truss)  को विदेश सचिव बना दिया गया।
  • एक इंटरव्यू में लिज के भाई ने पुरानी बातों को याद किया है। इसमें उन्होंने बताया  उनका परिवार क्लूडो और मोनोपोली जैसे बोर्ड गेम्स खेलना पसंद करती है। इसमें ट्रस भी खेलती थीं। हालांकि ट्रस को हारना पसंद नहीं रहता था। इसलिए जब भी उन्हें एहसास होता था कि वह गेम हार रहीं हैं तो बीच में ही छोड़ देती थीं।

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:
Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक, यूट्यूब और ट्विटर पर फॉलो करे...