1. हिन्दी समाचार
  2. देश
  3. Maharashtra Politics: पहले एनसीपी नेताओं पर भ्रष्टाचार के आरोप लगाए, अब उन्हीं को सरकार में शामिल कराते हैं…शरद पवार का पीएम मोदी से सवाल

Maharashtra Politics: पहले एनसीपी नेताओं पर भ्रष्टाचार के आरोप लगाए, अब उन्हीं को सरकार में शामिल कराते हैं…शरद पवार का पीएम मोदी से सवाल

मेरे बिना उनका सिक्का न तो चलेगा, न खनकेगा। जो लोग और पार्टी कार्यकर्ता हमें सत्ता में लाए, वे हमारे साथ हैं। मैं सत्ता में जरूर नहीं हूं, लेकिन मैं अपने लोगों और राज्य की जनता के बीच हूं। शरद पवार ने कहा कि, प्रधानमंत्री ने हाल में कहा कि एनसीपी ने 70 हजार करोड़ का घोटाला किया। ये आरोप बेबुनियादी है। ऐसे में एक तरफ आप हमारी पार्टी के नेताओं पर आरोप लगाते हो और दूसरी तरफ उन्हें अपनी पार्टी में शामिल कराते हो।

By शिव मौर्या 
Updated Date

Maharashtra Politics: महाराष्ट्र की राजनीति का आज बेहद ही अहम दिन है। एनसीपी (NCP) में टूट के बाद शरद पवार (Sharad Pawar) और अजित पवार (Ajit Pawar) ने अपनी-अपनी ताकत दिखाई। अजित पवार (Ajit Pawar) ने अपने कार्यकर्ताओं को संबोधित करते हुए चाचा शरद पवार पर तंज कसा। वहीं, शरद पवार (Sharad Pawar) ने कार्यकर्ताओं को संबोधित करते हुए कहा कि, जिस विचारधारा का आपने विरोध किया, उनके साथ जाना योग्य नहीं है। हमारे चुनाव चिन्ह कहीं नहीं जाएगा और उसे न कहीं जाने देंगे। उनकी बैठक में आपने देखा ​होगा कि पीछे हमारी तस्वीर लगी थी।

पढ़ें :- अजित पवार की पत्नी के उनके खिलाफ चुनाव लड़ने की चर्चा पर सुप्रिया सुले बोलीं-लोकतंत्र में कोई भी लड़ सकता है चुनाव

उन्हें पता है कि मेरे बिना उनका सिक्का न तो चलेगा, न खनकेगा। जो लोग और पार्टी कार्यकर्ता हमें सत्ता में लाए, वे हमारे साथ हैं। मैं सत्ता में जरूर नहीं हूं, लेकिन मैं अपने लोगों और राज्य की जनता के बीच हूं। शरद पवार ने कहा कि, प्रधानमंत्री ने हाल में कहा कि एनसीपी ने 70 हजार करोड़ का घोटाला किया। ये आरोप बेबुनियादी है। ऐसे में एक तरफ आप हमारी पार्टी के नेताओं पर आरोप लगाते हो और दूसरी तरफ उन्हें अपनी पार्टी में शामिल कराते हो।

साथ ही उन्होंने कहा कि, प्रधानमंत्री ने कहा था कि देश कैसे चलाएं ये पवार से सीखा। मोदी ने बारामती में आकर मेरी तारीफ की थी। चुनाव आए तो मुझे प्रचंड अपशब्द कहे। जो भाजपा के साथ गए, भविष्य में वे खत्म हो गए। अजित पवार कहते थे कि इतिहास में ऐसा (शिंदे जैसा) मुख्यमंत्री नहीं देखा, आज उनके साथ सत्ता में जाकर बैठ गए। जब हम कांग्रेस में थे तो हमने नई पार्टी बनाने का फैसला लिया। हमने कांग्रेस भवन छोड़ दिया क्योंकि वह कांग्रेस की संपत्ति थी। हमें उसे हड़पने की जरूरत नहीं थी, जबकि वह हमारे हाथ में था।

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:
Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक, यूट्यूब और ट्विटर पर फॉलो करे...