1. हिन्दी समाचार
  2. देश
  3. न पंच बदले, न मंच बदला, किसानों-मजदूरों ने हकों के लिए संघर्ष किया : राकेश टिकैत

न पंच बदले, न मंच बदला, किसानों-मजदूरों ने हकों के लिए संघर्ष किया : राकेश टिकैत

तीनों कृषि कानूनों (all three agricultural laws) की वापसी के बाद भी किसान दिल्ली बॉर्डर पर जमे हुए हैं। किसान एमएसपी पर कानून (Law on MSP) बनाने की मांग को लेकर प्रदर्शन कर रहे हैं। उनका कहना है कि जब तक एमएसपी पर कानून (Law on MSP) नहीं बनेगा तब तक उनका आंदोलन जारी रहेगा।

By शिव मौर्या 
Updated Date

नई दिल्ली। तीनों कृषि कानूनों (all three agricultural laws) की वापसी के बाद भी किसान दिल्ली बॉर्डर पर जमे हुए हैं। किसान एमएसपी पर कानून (Law on MSP) बनाने की मांग को लेकर प्रदर्शन कर रहे हैं। उनका कहना है कि जब तक एमएसपी पर कानून (Law on MSP) नहीं बनेगा तब तक उनका आंदोलन जारी रहेगा।

पढ़ें :- पीएम मोदी ने नेताजी की होलोग्राम प्रतिमा का किया अनावरण, बोले-वर्तमान और आने वाली पीढ़ी को मिलेगी इससे प्रेरणा

पढ़ें :- पाकिस्तान के एक व्यक्ति ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से मदद की लगाई गुहार, वीडियो हो रहा वायरल

इस बीच किसान नेता राकेश टिकैत (Rakesh Tikait) ने सोशल मीडिया के जरिए स्पष्ट कर दिया कि जब तक उनकी मांग पूरी नहीं होगी लेकिन तब तक वो संघर्ष करते रहेंगे। उन्होंने ट्वीट कर लिखा है कि, ‘न पंच बदले, न मंच बदला। किसानों-मजदूरों ने हकों के लिए संघर्ष किया। हुक्मरानों ने सुना। स्वस्थ लोकतंत्र में ग्रामीण सर्वोदय का सपना ऐसे ही पूरा होगा। इसके लिए संघर्ष जारी रहेगा’।

पढ़ें :- Alert! आतंकी संगठन 'Republic Day celebrations' को बना सकते हैं निशाना, खुफिया एजेंसियां अलर्ट

गौरतलब है कि बीते दिनों प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (Prime Minister Narendra Modi) ने तीनों कृषि कानूनों को वापस लेने का ऐलान किया था। इसके बाद शीतकालीन सत्र में इस कानून को निरस्त कर दिया गया। वहीं, अब किसानों की मांग है कि सरकार जब तक एमएसपी पर कानून नहीं बनाती वो वापस नहीं जाएंगे।

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:
Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक, यूट्यूब और ट्विटर पर फॉलो करे...