1. हिन्दी समाचार
  2. देश
  3. केंद्रीय मंत्री पारस की दो टूक : पहले चिराग पासवान माफी मांगें फिर होगा गठबंधन, कहा-जंगल में शेर और भालू दोनों रहते हैं

केंद्रीय मंत्री पारस की दो टूक : पहले चिराग पासवान माफी मांगें फिर होगा गठबंधन, कहा-जंगल में शेर और भालू दोनों रहते हैं

केंद्रीय मंत्री और राष्ट्रीय लोजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष (Union Minister and National President of National LJP) पशुपति कुमार पारस (Pashupati Kumar Paras) ने साफ कहा कि उनकी और भतीजे चिराग पासवान (Chirag Paswan) की पार्टी एक नहीं हो सकती। उन्होंने कहा कि आगे भी दोनों पार्टियां अलग-अलग ही काम करेगी। पहले की तरह चाचा-भतीजा एक प्लेटफॉर्म पर नहीं हो सकते हैं। पहले की तरह सब कुछ सामान्य नहीं हो सकता है।

By संतोष सिंह 
Updated Date

पटना। केंद्रीय मंत्री और राष्ट्रीय लोजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष (Union Minister and National President of National LJP) पशुपति कुमार पारस (Pashupati Kumar Paras) ने साफ कहा कि उनकी और भतीजे चिराग पासवान (Chirag Paswan) की पार्टी एक नहीं हो सकती। उन्होंने कहा कि आगे भी दोनों पार्टियां अलग-अलग ही काम करेगी। पहले की तरह चाचा-भतीजा एक प्लेटफॉर्म पर नहीं हो सकते हैं। पहले की तरह सब कुछ सामान्य नहीं हो सकता है।

पढ़ें :- BBC Documentary Controversy: दिल्ली से लेकर मुंबई तक बीबीसी डॉक्यूमेंट्री पर हंगामा

इस मुद्दे पर केंद्रीय मंत्री पशुपति पारस (Union Minister Pashupati Paras) ने सोमवार को खुलकर बात की है। उन्होंने कहा है कि जंगल में शेर और भालू दोनों रहते हैं। भविष्य कोई नहीं जानता।संवाददातओं ने जब पूछा कि इस स्थिति में 2024 के लोकसभा चुनाव के दौरा क्या दोनों दलों के वोटों का बंटवारा नहीं होगा? इस पर केंद्रीय मंत्री ने कहा कि जंगल में शेर और भालू दोनों रहते हैं। पर्यावरण को संतुलित रखने के लिए सभी का रहना जरूरी है।

चाचा-भतीजे की जोड़ी को एक साथ देखने के सवाल पर पशुपति पारस (Pashupati Paras)ने कहा कि व्यक्ति नहीं समय बलवान होता है। समय आने पर इसके बारे में सोचा जाएगा। केंद्रीय मंत्री ने यह भी किया कि पहले वो लोग प्रायश्चित तो करें फिर आगे सोचा जाएगा।

सिर्फ NDA गठबंधन में चिराग पासवान (Chirag Paswan) आएं हैं। मैं भी NDA गठबंधन में हूं। वो गठबंधन में आए हैं, अच्छे से काम करें। बस बात खत्म है। जब केंद्रीय मंत्री से सवाल किया गया कि क्या चिराग पासवान (Chirag Paswan) केंद्र में मंत्री बनने वाले हैं? इसके जवाब में उन्होंने कहा कि चर्चा आपके नजर में होगी। उन्होंने कहा कि मैं समझता हूं कि कम से कम अगले 1 साल तक केंद्र सरकार में मंत्रिमंडल का विस्तार नहीं होने वाला है।

भविष्य का इंतजार करने को कहा

पढ़ें :- Hindenburg Research Report से शेयर बाजार में मचा तहलका, अडानी ग्रुप में जानें कितना लगा है सरकारी पैसा, सकते में LIC और बड़े बैंक

केंद्रीय मंत्री से पूछा गया कि अलगाव के बाद चाचा-भतीजे की पार्टी के बीच जो कमेंट बाजी होती थी वो बंद हो गई है? इसका क्या कारण है? जवाब में उन्होंने कहा कि अच्छी बात है। यह अच्छी शुरुआत है। भविष्य का इंतजार करिए। व्यक्ति बलवान नहीं है। समय बलवान है। यह बात मैं बार-बार कहता हूं। जो फैसला होगा वो देखा जाएगा।कुढ़नी में भाजपा को समर्थन दिसंबर महीने में कुढ़नी में विधानसभा का उपचुनाव होना है। इस पर केंद्रीय मंत्री ने ऐलान किया उपचुनाव में वो और उनकी पार्टी NDA की तरफ से भाजपा को अपना समर्थन देंगे। भाजपा का जो भी उम्मीदवार होगा हमारी पार्टी उसका समर्थन करेगी।

कुढ़नी सीट को लेकर क्या बोले केंद्रीय मंत्री

सवाल पूछा गया कि अगर कहीं कुढ़नी सीट NDA ने चिराग पासवान (Chirag Paswan) की पार्टी अगर दिया तो क्या उसका समर्थन करेंगे? जवाब देते हुए केंद्रीय मंत्री ने कहा कि अगर-मगर आपलोग कहां से ले आते हैं? ऐसा कुछ नहीं है। भाजपा की सीट है। वो अपना उम्मीदवार देगी।बिहार में ध्वस्त लॉ एंड ऑर्डर के लिए मुख्यमंत्री दोषीआरा के DM ने DGP को एक पत्र लिखा है। जिला में आपराधिक वारदातें बढ़ रही है। लेटर के जरिए आवश्यक कार्रवाई करने की मांग की गई है। इस लेटर को आधार बनाते हुए केंद्रीय मंत्री ने बिहार सरकार पर शब्दों के जरिए कड़ा प्रहार किया। कहा कि ये बिहार का बहुत बड़ा दुर्भाग्य है।

बिहार के लॉ एंड ऑर्डर पर सवाल

एक जिले के DM के लेटर ने बता दिया कि बिहार में लॉ एंड ऑर्डर कितना खराब हो चुका है। सीधे तौर पर ये 2000 और उसके पहले के बिहार की याद दिलाता है। उस वक्त राजद की सरकार थी। राज्य में जंगल राज था। अब फिर से बिहार में वही पहले वाला माहौल बन गया है। इसके लिए सीधे तौर पर मुख्यमंत्री नीतीश कुमार और उनकी सरकार जिम्मेदार है।जातीय आधार पर होती है ट्रांसफर-पोस्टिंगराज्य सरकार की मंशा पर संदेह जताते हुए पशुपति कुमार पारस ने एक गंभीर आरोप लगाया है।

पढ़ें :- India and New Zealand T20 match: भारत ने टॉस जीतकर चुनी गेंदबाजी, इन खिलाड़ियों को मिला मौका

उन्होंने कहा कि बिहार में पुलिस और प्रशासन के अधिकारियों का ट्रांसफर जातीय आधार पर होता है। इस कारण पुलिस और प्रशासनिक व्यवस्था यहां चरमरा गई है। एक सवाल के जवाब में केंद्रीय मंत्री ने कहा कि बिहार सरकार की छवि क्या है? वो देख ही रहे हैं। इधर शराब बंदी भी सफल नहीं हो रहा है। दूसरी तरफ लॉ एंड ऑर्डर भी ध्वस्त है।

Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक, यूट्यूब और ट्विटर पर फॉलो करे...