1. हिन्दी समाचार
  2. एस्ट्रोलोजी
  3. बुध कंगन: इसे पहनने से तनाव और बीमारियों से मिलता है छुटकारा

बुध कंगन: इसे पहनने से तनाव और बीमारियों से मिलता है छुटकारा

वैदिक शास्त्रों में पारद कड़ा या बुध कंगन भगवान शिव के साथ जुड़ा हुआ है। ज्योतिष शास्त्र के अनुसार पारद एक जीवित धातु है, जिसका उपयोग कई बीमारियों को रोकने के लिए किया जा सकता है।

By प्रीति कुमारी 
Updated Date

अक्सर लोग हाथ में कड़ा आभूषण या कड़ा पहनना पसंद करते हैं। यह प्रथा कई साल पहले की है। कुछ लोग इसे फैशन के लिए पहनते हैं तो कुछ लोग इसे धार्मिक दृष्टि से भी पहनते हैं। आमतौर पर कई प्रकार के कड़ा होते हैं। बहुत से लोग लोहा पहनते हैं। और कई लोग सोना-चांदी पहनते हैं। लेकिन क्या आप पारद के कड़े के बारे में जानते हैं। अगर नहीं तो आज हम आपको पारद की डोरी के बारे में बताएंगे और यह भी बताएंगे कि पारद का कड़ा कैसे फायदेमंद होता है।

पढ़ें :- Shakun Shastra: सावन मास में असहाय वंचितों को दान देने का अनंत गुना फल प्राप्त होता है, जानिए इस मास में करने वाले शुभ कार्य

वैदिक शास्त्रों में, पारद कड़ा भगवान शिव के साथ जुड़ा हुआ है। ज्योतिष शास्त्र के अनुसार पारद एक जीवित धातु है, जिसे हाथ में धारण करने से कई रोगों से बचा जा सकता है। साथ ही जीवन में चल रही परेशानियों से भी छुटकारा मिलता है।

शास्त्रों में पारद धातु को भगवान शिव से जोड़ा गया है। इस तरह इस धातु का कंगन पहनने से नकारात्मक शक्तियों से मुक्ति मिलती है। इसके अलावा यदि किसी व्यक्ति पर नकारात्मक शक्तियां हावी हों तो उन्हें भी इस धातु का कड़ा पहनना चाहिए।

हाथ पैर और कमर दर्द में दें आराम

अगर किसी व्यक्ति को हाथ, पैर और पीठ में दर्द की शिकायत हो तो ऐसे में पारद का कड़ा उनके लिए फायदेमंद हो सकता है। क्योंकि पारद धातु रक्त संचार को नियंत्रित करने में मदद करता है। इसलिए इसे पहनने से दर्द से राहत मिलती है।

पढ़ें :- Vastu Tips : घर में दर्पण को लेकर ये बात जानना जरूरी है, जानिए वास्तु नियम

दूर होते हैं मौसम संबंधी रोग

कई लोग ऐसे होते हैं। जो मौसम संबंधी बीमारियों की चपेट में जल्दी आ जाते हैं। ऐसे में इन बीमारियों से बचने के लिए पारद धातु कड़ा फायदेमंद हो सकता है।मानसिक पीड़ा और तनाव को दूर करता है। बुध को कसकर पकड़ने से मानसिक पीड़ा भी दूर होती है। इतना ही नहीं इसे पहनने से आलस्य भी दूर हो जाता है।

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:
Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक, यूट्यूब और ट्विटर पर फॉलो करे...