पतंजलि करेगा एक लाख करोड़ के खाद्य पदार्थो का उत्पादन: रामदेव

लखनऊ। योगगुरु स्वामी रामदेव ने यहां लोकभवन में बुधवार को कहा कि देश में हर वर्ष चीन सहित दुनिया के दूसरे देशों से 50 लाख करोड़ के खाद्य पदार्थो का आयात होता है, लेकिन अब पतंजलि अपने देश में ही एक लाख करोड़ के खाद्य पदार्थो का प्रोडक्शन करेगा, इसमें 20-25 हजार करोड़ की कीमत के उत्पादों का निर्माण नोएडा की यूनिट से होगा। योगगुरु यहां पतंजलि फूड एण्ड हर्बल पार्क के शिलान्यास समारोह को सम्बोधित कर रहे थे। उन्होंने कहा कि योग मूलक उद्योग का अभियान लाभ कमाने के लिए नहीं बल्कि देश-प्रदेश को बनाने के लिए है। वह सामंतवाद व पूंजीवाद के खिलाफ हमेशा लड़ते रहे हैं।




उन्होंने कहा कि उनका सिद्धांत बिजनेस फार गेन का नहीं बल्कि सबके विकास पर आधारित है, यह व्यापार की नयी दृष्टि है। उन्होंने मुख्यमंत्री अखिलेश यादव की जमकर तारीफ की और कहा कि सीएम ने चुनौतियों के बीच बड़े कायरें को अंजाम दिया है। राजनीति में विरोधियों पर कभी भी ओछी भाषा का इस्तेमाल नहीं करने वाले मुख्यमंत्री अखिलेश यादव के संस्कार सभी को प्रभावित करते हैं। योगगुरु ने इस मौके पर विदेशी कम्पनियों पर यह कह कर प्रहार किया कि हमारें संस्कारों का फायदा उन्होंने खूब उठाया। कुछेक उत्पादों का जिक्र करके उन्होंने कहा कि नाम तो देशी रखा, लेकिन लाभ विदेशों को भेजा। उन्होंने कहा कि पतंजलि जल्द ही दूध के क्षेत्र में भी यूपी में काम शुरू करेगा। इसके पहले आचार्य बालकृष्ण ने कहा कि वह नोएडा के बाद बुंदेलखण्ड व पूर्वाचल में भी फूड पार्क को लेकर काम करेंगे।




प्रतापगढ़ के किसानों के आंवला का सबसे बड़ा खरीददार पतंजलि है। उन्होंने बताया कि पश्चिमी यूपी में गुड़ के उत्पादन से भी जुड़े हैं और बिजनौर में पशु आहार की भी यूनिट डाली है। उन्होंने मशविरा दिया कि यूपी में बेहतर चीनी का उत्पादन हो, तो पतंजलि महाराष्ट्र के बजाय यूपी से चीनी की भी खरीद करने को तैयार है। केन्द्र की पिछली सरकार में 40 मेगा फूडपार्क स्वीकृत हुए, लेकिन योजना कामयाब नहीं हो पायी, इसकी वजह है कि पार्क स्थापित करने में अनुदान की धनराशि का बंटवारा करने में लोग लग गये। उन्होंने मुख्यमंत्री अखिलेश यादव के प्रति आभार जताया कि नोएडा के यमुना एक्सप्रेस वे पर 400 एकड़ जमीन उपलब्ध करायी।