1. हिन्दी समाचार
  2. दिल्ली
  3. Republic Day Terror Conspiracy: ISIS और अल-कायदा के साथ मिलकर पाकिस्तान रच रहा है भारत को दहलाने की साजिश

Republic Day Terror Conspiracy: ISIS और अल-कायदा के साथ मिलकर पाकिस्तान रच रहा है भारत को दहलाने की साजिश

पाकिस्तानी खुफिया एजेंसी (ISI)  ने गणतंत्र दिवस (Republic Day) के मौके पर आतंकवादी संगठनों अल-कायदा (Al-Qaeda) और इस्लामिक स्टेट (Al-Qaeda and Islamic State) के साथ मिलकर राजधानी दिल्ली, पंजाब समेत देश के अन्य कई शहरों में बड़े हमले करने की साजिश रच रही है।

By संतोष सिंह 
Updated Date

नई दिल्ली। पाकिस्तानी खुफिया एजेंसी (ISI)  ने गणतंत्र दिवस (Republic Day) के मौके पर आतंकवादी संगठनों अल-कायदा (Al-Qaeda) और इस्लामिक स्टेट (Al-Qaeda and Islamic State) के साथ मिलकर राजधानी दिल्ली, पंजाब समेत देश के अन्य कई शहरों में बड़े हमले करने की साजिश रच रही है। भारतीय खुफिया एजेंसियों (Indian Intelligence Agencies) ने इस संबंध में अलर्ट जारी किया है। खुफिया एजेंसियों की गोपनीय रिपोर्ट में पता चला है कि पाकिस्तान (Pakistan) की ISI ने भारत (India) में आतंकी हमले करवाने के लिए अंडरवर्ल्ड डॉन दाऊद इरबाहिम (Underworld Don Dawood Irbahim)के गुर्गों की मदद ली है। भारत (India)  में होने वाले G-20 समिट (G-20 Summit) पर भी इस्लामिक स्टेट (Islamic State) और अल-कायदा (Al-Qaeda) की नजर है।

पढ़ें :- BBC Documentary Controversy: दिल्ली से लेकर मुंबई तक बीबीसी डॉक्यूमेंट्री पर हंगामा

पाकिस्तान (Pakistan)  की मदद से इन आतंकी संगठनों की साइबर विंग (Cyber Wing), साइबरस्पेस (Cyberspace) पर काफी एक्टिव हो चुकी है और G-20 समिट के दौरान बड़े साइबर हमले करने की फिराक में है। खुफिया रिपोर्ट में कहा गया है कि पाकिस्तान (Pakistan)  अपने स्लीपर सेल और अवैध रोहिंग्यों का इस्तेमाल कर 26 जनवरी के मौके पर दिल्ली और पंजाब में IED ब्लास्ट करवा सकता है। इस रिपोर्ट के मुताबिक अल-कायदा के आतंकी ‘लोन वुल्फ अटैक’ के फिराक में हैं। अगर 26 जनवरी पर आतंकी हमले का प्लान फेल हुआ, तो G-20 समिट के दौरान ​ भारत के विभिन्न शहरों में आतंकी हमले करवाने की साजिश ISI ने रची है।

खुफिया रिपोर्ट (Intelligence Report)के मुताबिक पाकिस्तान (Pakistan)  की ISI ने इस बार दिल्ली और पंजाब को टारगेट करने के लिए अवैध रोहिंग्या, दो बांग्लादेशी आतंकी संगठनों अंसार-उल-बांग्ला (Ansar-ul-Bangla) और जमात-उल-मुजाहिदीन (Jamaat-ul-Mujahideen) बांग्लादेश का सहारा लिया है।   सुरक्षा एजेंसियों (Intelligence Agencies)के इस बेहद संवेदनशील रिपोर्ट में खुलासा हुआ है कि PFI पर प्रतिबंध लगने के बाद के, इसकी एक लो प्रोफाइल विंग (Low Profile Wing)फिर से एक्टिव हो सकती है और स्लीपर सेल (Sleeper Cell) की तरह गोरिल्ला अटैक (Gorilla Attack) को अंजाम दे सकती है। इस गोपनीय अलर्ट में यह भी खुलासा हुआ है कि प्रो-खालिस्तानी टेरर (Pro-Khalistani Terror) ग्रुप दिल्ली और पंजाब में किसी बड़ी वारदात को अंजाम दे सकते हैं। सुरक्षा एजेंसियों (Intelligence Agencies) ने ‘दल खालसा’ (Dal Khalsa) और ‘वारिस पंजाब दे’ (Give Waris Punjab)पर कड़ी नजर रखने की सलाह देते हुए कहा है कि ये दोनों संगठन देश का माहौल खराब की पुरजोर कोशिश में जुटे हैं।

 

पढ़ें :- Hindenburg Research Report से शेयर बाजार में मचा तहलका, अडानी ग्रुप में जानें कितना लगा है सरकारी पैसा, सकते में LIC और बड़े बैंक
Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक, यूट्यूब और ट्विटर पर फॉलो करे...