HBE Ads
  1. हिन्दी समाचार
  2. उत्तर प्रदेश
  3. Shocking News: BJP कार्यालय में नौकरी करेगा लंगूर, पंखे के बिना नहीं आती इसे नींद, सैलरी है तीस हजार रुपये

Shocking News: BJP कार्यालय में नौकरी करेगा लंगूर, पंखे के बिना नहीं आती इसे नींद, सैलरी है तीस हजार रुपये

एक ऐसा लंगूर जिसे तीस हजार रुपए महिना सैलरी मिलती है ये बात आपको जरुर हैरान करने वाली लगेगी। पर ये बिल्कुल सच है। दरअसल उत्तर प्रदेश के बस्ती जिले में भाजपा कार्य़ालय में लाल मुंह वाले बंदरों के आतंक से परेशान होकर वहां एक लंगूर को तैनात किया गया है।

By प्रिन्सी साहू 
Updated Date

एक ऐसा लंगूर जिसे तीस हजार रुपए महिना सैलरी मिलती है ये बात आपको जरुर हैरान करने वाली लगेगी। पर ये बिल्कुल सच है। दरअसल उत्तर प्रदेश के बस्ती जिले में भाजपा कार्य़ालय में लाल मुंह वाले बंदरों के आतंक से परेशान होकर वहां एक लंगूर को तैनात किया गया है।
यह लंगूर हरियाणा का है और इसका नाम मंगल है। इसकी खासियत है कि यह अपने मालिक के इशारे में काम करता है। तेज तर्रार होने की वजह से इसे लाल मुंह वाले बंदरों को भगाने के लिए रखा गया है।

पढ़ें :- मोदी जी ने देश से आतंकवाद को समाप्त करने का काम किया...कांग्रेस-सपा पर भी जमकर बरसे अमित शाह

मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार बस्ती में लोकसभा चुनाव के चलते भाजपा के सासंद और उम्मीदवार हरीश द्विवेदी ने मालवीय रोड पर अरविंद पाल के कैंपस में चुनाव कार्य़ालय खोला है।इस कार्यालय पर भाजपा नेताओं का आना जाना लगा रहता है।

कार्यालय में आने वाले लोगो के लिए नाश्ता पानी और भोजन आदि की व्यवस्था भी रहती है। जिसकी वजह से यहां लाल मुंह वाले बंदर भी आने लगे। जिसकी वजह से लोग यहां आने से डरने लगे। लोगो का आना जाना भी कम हो गया। तंग आकर भाजपा नेता ने बंदरों को भगाने के लिए लंगूर को रख लिया। जिसका काम यहां आने वाले बंदरों को भगाना है।

इतना ही नहीं लंगूर को इसकी सैलरी भी मिलती है वो भी तीस हजार रुपया महिना। यानि एक हजार रुपए डेली। लंगूर के आने के बाद भाजपा कार्य़ालय में बंदरों का आना बहुत कम हो गया है। चुनाव तक भाजपा नेताओं ने लंगूर की इस जिम्मेदारी के लिए अनुबंध किया है। चुनाव खत्म होने के बाद लंगूर वापस हरियाणा लौट जाएगा।

मंगल नाम का यह लंगूर कोई आम लंगूर नहीं है ये बेहद तेज तर्रार है और कुछ दिन पहले इसकी ड्यूटी अयोध्या राम मंदिर के आस पास लगाई गई थी। इसके बदले इसे दस हजार रुपए मिले थे।

पढ़ें :- आजम खान की पत्नी डॉ. तजीन फात्मा सात माह बाद जेल से रिहा,बेटे अब्दुल्ला के दो जन्म प्रमाणपत्र मामले में सुनाई थी सजा

बिना पंखे के इस लंगूर को नहीं आती नींद

मंगल नाम के लंगूर के मालिक के अनुसार इसे बिना पंखे के इसे नींद नहीं आती है। इसलिए इसके सोने के लिए एक पंखे का इंतजाम किया गया है।

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:
Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक, यूट्यूब और ट्विटर पर फॉलो करे...