HBE Ads
  1. हिन्दी समाचार
  2. क्रिकेट
  3. श्रीलंकाई खिलाड़ियों ने केंद्रीय अनुबंध साइन करने से इनकार, पारदर्शिता की कमी होने का दिया हवाला

श्रीलंकाई खिलाड़ियों ने केंद्रीय अनुबंध साइन करने से इनकार, पारदर्शिता की कमी होने का दिया हवाला

श्रीलंका के मौजूदा सभी 24 खिलाड़ियों ने अनुबंध श्रेणियों को आवंटित करने के तरीके में पारदर्शिता की कमी होने का हवाला देते हुए श्रीलंका क्रिकेट (एसएलसी) की ओर से उनके सामने पेश किया है। केंद्रीय अनुबंध को साइन करने से इनकार कर दिया है। खिलाड़ियों ने अपने कानूनी प्रतिनिधि की ओर से जारी बयान में उनके प्रस्तावित वेतन का विवरण सार्वजनिक किए जाने पर भी हैरानी और निराशा जताई है।

By संतोष सिंह 
Updated Date

कोलंबो। श्रीलंका के मौजूदा सभी 24 खिलाड़ियों ने अनुबंध श्रेणियों को आवंटित करने के तरीके में पारदर्शिता की कमी होने का हवाला देते हुए श्रीलंका क्रिकेट (एसएलसी) की ओर से उनके सामने पेश किया है। केंद्रीय अनुबंध को साइन करने से इनकार कर दिया है। खिलाड़ियों ने अपने कानूनी प्रतिनिधि की ओर से जारी बयान में उनके प्रस्तावित वेतन का विवरण सार्वजनिक किए जाने पर भी हैरानी और निराशा जताई है।

पढ़ें :- कपिल सिब्बल ने सपा अध्यक्ष का लिया इंटरव्यू...अखिलेश यादव ने PDA से लेकर लोकसभा चुनाव परिणाम को लेकर दिए ये जवाब

प्रस्तावित अनुबंध योजना से जिन सीनियर खिलाड़ियों के मूल वेतन पर सबसे ज्यादा असर पड़ा था, उनसे नए वेतनमान के खिलाफ विरोध से पीछे हटने की उम्मीद की गई थी, लेकिन अब यहां सभी 24 खिलाड़ियों, जिन्हें नए अनुबंध की पेशकश की गई है, ने अनुबंध का विरोध किया है।

खिलाड़ियों की तरफ से जारी बयान में अटॉर्नी निशान सिडनी प्रेमथिरत्ने ने कहा कि खिलाड़ी अनुचित और गैर-पारदर्शी अनुबंधों पर हस्ताक्षर करने के लिए सहमत नहीं हैं और वह श्रीलंका क्रिकेट से खिलाड़ियों को बंदूक की नोक पर न रखने या खिलाड़ियों को अल्टीमेटम न देने का आग्रह करते हैं।

समझा जाता है कि नए अनुबंध साइन करने के लिए खिलाड़ियों को तीन जून तक का समय दिया गया है, जबकि खिलाड़ी एसएलसी की तरफ से लागू की गई नई प्रणाली में पारदर्शिता की मांग कर रहे हैं, जो कथित तौर पर 2019 के बाद से प्रदर्शन को 50 प्रतिशत, खिलाड़ी फिटनेस को 20 प्रतिशत और नेतृत्व, पेशेवर रवैये और भविष्य में खेलने और अनुकूलन क्षमता के लिए प्रत्येक खिलाड़ी को 10 प्रतिशत महत्व देती है। खिलाड़ियों का कहना है कि उन्हें पता ही नहीं है कि उन्होंने इस मानदंड पर कितना स्कोर किया है। उनके स्कोर को उनके सामने पेश किया जाना चाहिए।

पढ़ें :- राष्ट्रपति भवन का 'दरबार हॉल' अब 'गणतंत्र मंडप' और 'अशोक हॉल' अब 'अशोक मंडप', बदले नाम
Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक, यूट्यूब और ट्विटर पर फॉलो करे...