1. हिन्दी समाचार
  2. दिल्ली
  3. मुकुल रॉय के घर वापसी पर टीएमसी सांसद सौगत रॉय का बड़ा बयान, दिए ये संकेत

मुकुल रॉय के घर वापसी पर टीएमसी सांसद सौगत रॉय का बड़ा बयान, दिए ये संकेत

पश्चिम बंगाल की राजनीति में भारतीय जनता पार्टी के वरिष्ठ नेता मुकुल रॉय क्या पार्टी छोड़कर फिर घर वापसी करेंगे? फिलहाल इसी सवाल का जवाब पश्चिम बंगाल की राजनीति में तलाशा जा रहा है। बीते कुछ दिनों के घटनाक्रम से जहां इस बात के कयास लगाए जा रहे हैं। तो वहीं टीएमसी के सांसद सौगत ने राय इसे लेकर एक तरह से बड़ा संकेत दिया है।

By संतोष सिंह 
Updated Date

नई दिल्ली। पश्चिम बंगाल की राजनीति में भारतीय जनता पार्टी के वरिष्ठ नेता मुकुल रॉय क्या पार्टी छोड़कर फिर घर वापसी करेंगे? फिलहाल इसी सवाल का जवाब पश्चिम बंगाल की राजनीति में तलाशा जा रहा है। बीते कुछ दिनों के घटनाक्रम से जहां इस बात के कयास लगाए जा रहे हैं। तो वहीं टीएमसी के सांसद सौगत ने राय इसे लेकर एक तरह से बड़ा संकेत दिया है। हालांकि इसी बीच पीएम नरेंद्र मोदी ने फोनकर भारतीय जनता पार्टी के वरिष्ठ नेता मुकुल रॉय का कुशलक्षेम पूछा था।

पढ़ें :- सावरकर ने द्वि-राष्ट्र का सिद्धांत दिया और जिन्ना ने इसे आगे बढ़ाया : Jairam Ramesh

सौगत रॉय ने एक न्यूज चैनल से बातचीत करते हुए कहा है कि ऐसे बहुत से लोग हैं, जो अभिषेक बनर्जी के संपर्क में हैं और वापस आना चाहते हैं। मुझे लगता है कि ऐसे लोगों ने पार्टी के साथ जरूरत के वक्त पर विश्वासघात किया था। रॉय ने कहा कि इस बारे में आखिरी फैसला ममता दीदी को ही लेना है, लेकिन मुझे लगता है कि पार्टी छोड़कर लौटने वालों को दो कैटिगरीज में बांटा जा सकता है। ये हैं- सॉफ्टलाइनर और हार्डलाइनर।

हालांकि सौगत रॉय ने मुकुल रॉय को लेकर स्पष्ट संकेत दिया। उन्होंने कहा कि सॉफ्लाइनर वे हैं, जिन्होंने पार्टी तो छोड़ी, लेकिन कभी ममता बनर्जी का अपमान नहीं किया। हार्डलाइनर वे हैं, जिन्होंने ममता बनर्जी के बारे में सार्वजनिक रूप से बयान दिए। उन्होंने कहा कि इस बारे में हम देखें तो शुभेंदु अधिकारी ने बीजेपी में जाने के बाद ममता बनर्जी के बारे में काफी कुछ कहा। वहीं मुकुल रॉय ने कभी ममता दीदी के बारे में खुलकर कोई गलत बात नहीं की। उनके इस बयान से साफ संकेत मिलता है कि आने वाले दिनों में मुकुल रॉय टीएमसी का रुख कर सकते हैं और पार्टी इसके लिए तैयार भी है।

मुकुल रॉय पिछले दिनों कोलकाता में हुई बीजेपी की मीटिंग में नहीं पहुंचे थे। इसके अलावा ममता बनर्जी के भतीजे अभिषेक बनर्जी मुकुल रॉय की पत्नी को देखने के लिए अस्पताल पहुंचे थे। इन दो घटनाओं के बाद से इस बात के कयास लग रहे हैं कि मुकुल रॉय पार्टी छोड़ सकते हैं।

इन कयासों को तब और हवा मिली, जब मुकुल रॉय के बेटे ने कहा कि राजनीति पर बाद में बात करेंगे और कुछ भी हो सकता है। मुकुल रॉय टीएमसी छोड़ने वाले सबसे पहले नेता थे। इसके बाद उन्होंने बड़ी संख्या में टीएमसी के नेताओं को तोड़ा था और उन्हें बीजेपी जॉइन कराई थी। टीएमसी का कहना है कि फिलहाल 35 बीजेपी के नेता हैं, उनके संपर्क में हैं और जो वापसी चाहते हैं।

पढ़ें :- सपा सांसद का बीजेपी पर बड़ा हमला कहा- 'हर घर तिरंगा अभियान' बीजेपी की 2024 लोकसभा चुनाव की तैयारी का है हिस्सा

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:
Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक, यूट्यूब और ट्विटर पर फॉलो करे...