1. हिन्दी समाचार
  2. उत्तर प्रदेश
  3. UP Board Exam 2024 : यूपी बोर्ड परीक्षा कल से, 55 लाख से अधिक परीक्षार्थी होंगे शामिल

UP Board Exam 2024 : यूपी बोर्ड परीक्षा कल से, 55 लाख से अधिक परीक्षार्थी होंगे शामिल

उत्तर प्रदेश माध्यमिक शिक्षा परिषद (UP Board) हाईस्कूल और इंटरमीडिएट की परीक्षा 75 जिलों में कल यानी 22 फरवरी शुरू से हो रही है। राज्य सरकार और यूपी बोर्ड (UP Board)  की ओर से परीक्षाओं के लिए तैयारियों को पूरा कर लिया गया है। कक्षा 10वीं व 12वीं की बोर्ड परीक्षाएं 9 मार्च 2024 तक संपन्न करवाई जाएंगी।

By संतोष सिंह 
Updated Date

लखनऊ। उत्तर प्रदेश माध्यमिक शिक्षा परिषद (UP Board) हाईस्कूल और इंटरमीडिएट की परीक्षा 75 जिलों में कल यानी 22 फरवरी शुरू से हो रही है। राज्य सरकार और यूपी बोर्ड (UP Board)  की ओर से परीक्षाओं के लिए तैयारियों को पूरा कर लिया गया है। कक्षा 10वीं व 12वीं की बोर्ड परीक्षाएं 9 मार्च 2024 तक संपन्न करवाई जाएंगी। एग्जाम दो शिफ्ट में संपन्न करवाया जाएगा। पहली शिफ्ट की परीक्षा सुबह 8:30 से 11:45 तक व दूसरी शिफ्ट की परीक्षा दोपहर 2 बजे से शाम 5:15 तक आयोजित की जाएंगी।

पढ़ें :- UP Board Exam 2024 : जीव विज्ञान का पेपर व्हाट्सएप पर वायरल, परीक्षा शुरू होने के कुछ देर बाद आया

यूपी बोर्ड परीक्षाएं (UP Board Exam ) कल से शुरू हो रही हैं जिनको लेकर आज यानी 21 फरवरी 2024 को लखनऊ में प्रेस कॉन्फ्रेंस का आयोजन किया गया। ACS माध्यमिक शिक्षा दीपक कुमार (ACS Secondary Education Deepak Kumar) के नेतृत्व में उत्तर प्रदेश माध्यमिक शिक्षा परिषद (UPUMS) की ओर से क्लास 10th एवं 12th की बोर्ड परीक्षाओं की शुरुआत कल यानी 22 फरवरी 2024 से होने जा रही है। कल पहली पाली में 10वीं कक्षा के लिए हिंदी/ एलिमेंट्री हिंदी और 12वीं कक्षा के लिए मिलिट्री साइंस का पेपर सपन्न होगा।

उत्तर प्रदेश माध्यमिक शिक्षा मंडल ने यूपी बोर्ड (UP Board) कक्षा 10वीं और 12वीं परीक्षा का पूरा शेड्यूल ऑफिशियल वेबसाइट upmsp.edu.in पर जारी कर दिया है। यूपी बोर्ड पेपर लीक जैसी घटनाओं को लेकर इस बार काफी सख्त है। इसलिए इस बार यूपी बोर्ड परीक्षा (UP Board Exam ) शुरू होने से पहले ही एंटी चीटिंग प्लान तैयार कर लिया गया है।

यूपी बोर्ड परीक्षा (UP Board Exam ) को देश की सबसे बड़ी बोर्ड परीक्षा माना जाता है । परीक्षा केंद्र के अंदर चालाकी दिखाने या नकल करने वालों पर सख्त एक्शन लिया जा सकता है। तो ऐसी कोई भी गलती न करें, जिससे आपको इस साल परीक्षा देने से रोक दिया जाए और आपका एक साल बर्बाद हो जाए।

नकलविहीन परीक्षा को लेकर सख्त  सरकार

पढ़ें :- माध्यमिक शिक्षा राज्य मंत्री गुलाब देवी ने यूपी बोर्ड परीक्षार्थियों को तिलक लगाकर दी शुभकामनाएं, बोलीं- नकल माफियाओं को दिया सख्त संदेश

यूपी सरकार ने बोर्ड परीक्षा (Board Exam )को नकलविहीन तरीके से आयोजित करवाने के लिए 5 स्तरीय एंटी चीटिंग प्लान (UP Board Anti Cheating Plan) बनाया गया है। पूरे राज्य में 8265 परीक्षा केंद्र बनाए गए हैं।

यूपी बोर्ड एंटी चीटिंग प्लान

यूपी बोर्ड परीक्षकों को बारकोड वाला आईडी कार्ड दिया जाएगा। इससे परीक्षा केंद्र के अंदर इनविजिलेटर को बदला नहीं जा सकेगा।

उत्तर प्रदेश बोर्ड परीक्षा (UP Board Exam ) के सभी केंद्रों की निगरानी के लिए एक प्रमुख कंट्रोल रूम लखनऊ में बनाया जाएगा। साथ ही हर जिले में यूपी बोर्ड एग्जाम कंट्रोल रूम और 5 रीजनल सेंटर्स भी तैयार किए जाएंगे।

यूपी बोर्ड परीक्षा (UP Board Exam )  के प्रश्न पत्रों की निगरानी कैमरा से की जाएगी। सभी प्रश्न पत्रों की मॉनिटरिंग के लिए अलग से टीमें भी बनाई जाएंगी। इससे सुनिश्चित होगा कि पेपर के साथ कोई छेड़छाड़ नहीं हो पाएगी।

पढ़ें :- यूपी बोर्ड परीक्षा में गड़बड़ी करने वालों के खिलाफ FIR दर्ज कर भेजा जाएगा जेल : दीपक कुमार

स्पेशल टास्क फोर्स (STF) और लोकल इंटेलिजेंस यूनिट (LIU) गठित की जाएगी। एलआईयू (LIU)  यूपी बोर्ड परीक्षा केंद्रों (UP Board Exam Centers )  की कड़ी निगरानी करेगा। वहीं, एसटीएफ (STF)  का काम नकल और उससे जुड़ी गतिविधियों पर नजर रखने का होगा।

उत्तर प्रदेश शिक्षा विभाग (Uttar Pradesh Education Department) , एलआईयू (LIU) और यूपी पुलिस (UP Police) के साथ मिलकर काम करेगा। इससे यूपी बोर्ड पेपर लीक (UP Board Paper Leak) जैसी घटनाओं को रोकने में मदद मिलेगी।

दिशा-निर्देशों में क्या कहा गया ?

उत्तर प्रदेश सरकार के बयान के मुताबिक, परीक्षा केंद्रों पर 50 फीसदी पर्यवेक्षक बाहरी होंगे और जिस विषय की परीक्षा हो रही है उसके शिक्षक को ड्यूटी पर नहीं लगाया जाएगा।

दिशा-निर्देशों में यह भी कहा गया है कि किसी भी लड़की परीक्षार्थी की पुरुष निरीक्षक द्वारा तलाशी नहीं ली जाएगी। इसके अलावा, जिन केंद्रों पर लड़कियां परीक्षा दे रही हैं, वहां महिला पर्यवेक्षकों को तैनात किया जाएगा। बयान में कहा गया है कि किसी भी शिक्षक को उसके अनुरोध पर निहित स्वार्थ के लिए किसी विशेष परीक्षा केंद्र पर नियुक्त नहीं किया जाएगा।

माध्यमिक शिक्षा मंडल के सचिव (Board of Secondary Education) दिव्यकांत शुक्ला (Divyakant Shukla, Secretary) के अनुसार, प्रत्येक परीक्षा कक्ष में दो पर्यवेक्षक होंगे, जबकि 40 से अधिक छात्रों वाले परीक्षा कक्ष में तीन पर्यवेक्षक होंगे।

पढ़ें :- यूपी बोर्ड छात्रों की हर समस्या का निस्तारण "समाधान पोर्टल" पर, एक माह में 1694 समस्याओं का निराकरण

पर्यवेक्षकों को प्रश्नपत्रों की गोपनीयता और सुरक्षा भी सुनिश्चित करनी होगी। कोई भी अभ्यर्थी नकल की सामग्री, मोबाइल फोन, कैलकुलेटर या ऐसे किसी भी इलेक्ट्रॉनिक उपकरण के साथ परीक्षा हॉल में प्रवेश नहीं कर सकता है।

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:
Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक, यूट्यूब और ट्विटर पर फॉलो करे...