1. हिन्दी समाचार
  2. देश
  3. भारत में कोरोना से प्रत्यक्ष-अप्रत्यक्ष तौर पर हुईं 47 लाख मौत, डब्ल्यूएचओ के दावे पर सरकार ने उठाया सवाल

भारत में कोरोना से प्रत्यक्ष-अप्रत्यक्ष तौर पर हुईं 47 लाख मौत, डब्ल्यूएचओ के दावे पर सरकार ने उठाया सवाल

कोरोना संक्रमण के दौरान दुनिया में हुई मौतों का विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) ने एक अनुमानित डाटा शेयर किया है। इसमें पिछले दो वर्षों के दौरान 1.5 करोड़ लोगों ने या तो कोरोना वायरस से या स्वास्थ्य प्रणालियों पर पड़े इसके प्रभाव के कारण जान गंवाई है।

By शिव मौर्या 
Updated Date

नई दिल्ली। कोरोना संक्रमण के दौरान दुनिया में हुई मौतों का विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) ने एक अनुमानित डाटा शेयर किया है। इसमें पिछले दो वर्षों के दौरान 1.5 करोड़ लोगों ने या तो कोरोना वायरस से या स्वास्थ्य प्रणालियों पर पड़े इसके प्रभाव के कारण जान गंवाई है।

पढ़ें :- Delhi News: दिल्ली में फिर डराने लगा कोरोना, 24 घंटे में मिले 1375 नए मरीज

डब्ल्यूएचओ का ये अनुमानित आंकड़ा विभिन्न देशों के द्वारा मुहैया कराए गए आधिकारिक आंकड़ों से कहीं ज्यादा है। डब्ल्यूएचओ की रिपोर्ट की माने तो इनमें से ज्यादातर मौतें दक्षिण पूर्व एशिया, यूरोप और अमेरिका में हुईं हैं। वहीं भारत में ये आंकड़ा 47 लाख है। ये संख्या आधिकारिक आंकड़ों से करीब 10 गुना ज़्यादा है।

हालांकि, भारत सरकार ने डब्लूएचओ के इस आंकलन के तरीके पर सवाल उठाए हैं। सरकार ने कहा है कि इस आंकलन की प्रक्रिया पर भारत ने भी आपत्ति जताई थी। इसके बावजूद मृत्यु दर का अनुमान जारी किया गया है। डब्ल्यूएचओ का कहना है कि कोरोना महामारी की वजह से दुनियाभर में डेढ़ करोड़ से ज्यादा लोगों की मौत हो गई और भारत का आंकड़ा पूरी दुनिया की मौतों का एक तिहाई है।

डब्लूएचओ का कहना है कि दुनियाभर में होने वाली मौतों की सही गिनती नहीं की गई है। भारत में जो गिनती की गई है उससे लगभग 10 गुना ज्यादा लोगों की मौत हुई है।

पढ़ें :- यूपी की राजधानी लखनऊ में बढ़ा कोरोना का कहर, 52 मरीज पॉजिटिव मिले
इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:
Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक, यूट्यूब और ट्विटर पर फॉलो करे...