1. हिन्दी समाचार
  2. उत्तर प्रदेश
  3. श्रमिकों को नहीं करनी पड़ेगी अपने बच्चों के लिए ​उच्च शिक्षा की चिंता, डॉक्टरी-इंजीनियरिंग का भी खर्च उठायेगी सरकार

श्रमिकों को नहीं करनी पड़ेगी अपने बच्चों के लिए ​उच्च शिक्षा की चिंता, डॉक्टरी-इंजीनियरिंग का भी खर्च उठायेगी सरकार

अब पैसे के अभाव में किसी श्रामिक के बच्चों की शिक्षा से दूरी नहीं बनेगी। पैसे के लिए प्रदेश के श्रामिकों को को किसी के सामने हांथ नहीं फैलाना पड़ेगा। बल्कि ऐसे परिस्थिती में सरकार स्वंय अपने श्रामिकों के साथ खड़ी नजर आयेगी।

By प्रिन्स राज 
Updated Date

लखनऊ। अब पैसे के अभाव में किसी श्रामिक के बच्चों की शिक्षा से दूरी नहीं बनेगी। पैसे के लिए प्रदेश के श्रामिकों को को किसी के सामने हांथ नहीं फैलाना पड़ेगा। बल्कि ऐसे परिस्थिती में सरकार स्वंय अपने श्रामिकों के साथ खड़ी नजर आयेगी। बता दें कि सिर्फ समान्य शिक्षा ही नहीं राजकीय कॉलेजों से इंजीनियरिंग और मेडिकल की पढ़ाई खर्च भी सरकार उठाएगी।

पढ़ें :- Yogi Sarkar 2.0 : योगी के मंत्री दिनेश खटीक के बाद अब BJP विधायक का छलका दर्द

श्रम विभाग की ओर से हाल में मुख्यमंत्री और मंत्रिपरिषद के समक्ष दिए गए प्रजेंटेशन में 100 दिन से लेकर पांच साल के बीच किए जाने वाले कार्यों का खाका पेश किया था। इसमें निर्माण क्षेत्र के पंजीकृत श्रमिकों के बच्चों को स्नातक स्तर तक की शिक्षा मुफ्त दिए जाने की बात कही गई है। इस प्रस्ताव पर छह महीने में अमल किया जाना है। ऐसा होने पर इसका लाभ करीब डेढ़ करोड़ पंजीकृत श्रमिकों के परिवारों को मिल सकेगा। भाजपा ने विधानसभा चुनाव से पूर्व जारी लोक कल्याण संकल्प पत्र में इसका वादा किया था।

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:
Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक, यूट्यूब और ट्विटर पर फॉलो करे...