1. हिन्दी समाचार
  2. दुनिया
  3. वर्ल्ड हैपिनेस रिपोर्ट-2021 : फिनलैंड लगातार चौथी बार बना सबसे खुशहाल देश, इस नंबर पर है भारत

वर्ल्ड हैपिनेस रिपोर्ट-2021 : फिनलैंड लगातार चौथी बार बना सबसे खुशहाल देश, इस नंबर पर है भारत

संयुक्त राष्ट्र की वर्ल्ड हैप्पीनेस रिपोर्ट में फिनलैंड लगातार चौथी बार दुनिया का सबसे खुशहाल देश बना है। इस रिपोर्ट में भारत और पाकिस्तान का भी नाम है लेकिन सबसे पीछे। रिपोर्ट के मुताबिक, भारत 149 देशों में 139 वें नंबर पर है तो पाकिस्तान 105 वें पायदान है। वहीं बांग्लादेश 101वें नंबर पर है।

By शिव मौर्या 
Updated Date

World Happiness Report 2021 Finland Is The Happiest Country For The Fourth Consecutive Time India Is At This Number

नई दिल्ली। संयुक्त राष्ट्र की वर्ल्ड हैप्पीनेस रिपोर्ट में फिनलैंड लगातार चौथी बार दुनिया का सबसे खुशहाल देश बना है। इस रिपोर्ट में भारत और पाकिस्तान का भी नाम है लेकिन सबसे पीछे। रिपोर्ट के मुताबिक, भारत 149 देशों में 139 वें नंबर पर है तो पाकिस्तान 105 वें पायदान है। वहीं बांग्लादेश 101वें नंबर पर है।

पढ़ें :- कोरोना वायरस: संक्रमण की रफ्तार हो रही कम, मौत के आंकड़ों ने बढ़ाई चिंता

वर्ल्ड हैप्पीनेस रिपोर्ट में डेनमार्क दूसरे नंबर पर है। इसके बाद स्विजरलैंड और आइसलैंड की बारी है। नीदरलैंड्स को पांचवा स्थान मिला है। टॉप 10 देशों में न्यूजीलैंड एकमात्र गैर-यूरोपीय देश है जिसे इस रिपोर्ट में जगह मिली है। इसके अलावा ब्रिटेन 13वें पायदान से गिरकर 17वें नंबर पर पहुंच गया है।

वर्ल्ड हैप्पीनेस रिपोर्ट में भारत 139 वें नंबर पर है। पिछले साल भारत को 156 देशों की लिस्ट में 144 वां स्थान मिला। रिपोर्ट के मुताबिक बुरुंडी, यमन, तंजानिया, हैती, मालवी, लेसोथो, बोत्सवाना, रवांडा, जिम् बॉम्बे और अफगानिस्तान भारत से कम खुशहाल देश हैं। इसी तरह पड़ोसी देश चीन पिछले साल इस सूची में 94वें स्थान पर था, जो अब 19वें स्थान पर आ गया है। नेपाल 87वें, बांग्लादेश 101, पाकिस्तान 105, म्यांमार 126 और श्रीलंका 129वें स्थान पर है।

वर्ल्ड हैप्पीनेस रिपोर्ट के लिए गैलप डेटा का इस्तेमाल किया गया। गैलप ने 149 देशों में लोगों से अपनी हैप्पीनेस को रेट करने को कहा था। इसके अलावा इस डेटा में जीडीपी, सोशल सपोर्ट, आजादी और भ्रष्टाचार का स्तर भी देखा गया और फिर हर देश को हैप्पीनेस स्कोर दिया गया। ये स्कोर पिछले तीन सालों का औसत है। सर्वे में शामिल एक तिहाई से अधिक देशों में कोरोना महामारी की वजह से नकारात्मक भावनाएं बढ़ी हैं।

संयुक्त राष्ट्र प्रायोजित शुक्रवार को जारी एक सालाना रिपोर्ट में फिनलैंड को यह खिताब दिया गया है। इसमें 149 देशों को शामिल किया गया था और लोगों से देश की जीडीपी, सामाजिक सुरक्षा, व्यक्तिगत आजादी और भ्रष्टाचार के स्तर जैसे मानकों पर सवाल पूछकर हैप्पीनेस स्कोर तैयार किया जाता है।

पढ़ें :- Petrol Diesel Price: पेट्रोल-डीजल के दाम फिर बढ़े, जानिए आपके शहर में क्या है दाम?

 

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:
Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक, यूट्यूब और ट्विटर पर फॉलो करे...
X