1. हिन्दी समाचार
  2. जीवन मंत्रा
  3. नाभि विस्थापन के लिए योग: नाभि विस्थापन को प्राकृतिक रूप से ठीक करने के 6 आसन

नाभि विस्थापन के लिए योग: नाभि विस्थापन को प्राकृतिक रूप से ठीक करने के 6 आसन

नाभि विस्थापन के लिए योग: नाभि विस्थापन से पीड़ित लोगों को पेट में अत्यधिक दर्द का अनुभव होता है, जो दवा से ठीक नहीं होता है।

By प्रीति कुमारी 
Updated Date

योग और आयुर्वेद के अनुसार नाभि को शरीर का केंद्र माना जाता है। अगर यह विस्थापित हो जाता है तो कई स्वास्थ्य संबंधी समस्याओं को जन्म दे सकता है। नाभि के खिसकने के पीछे का कारण भारी सामान उठाना, तेज दौड़ना, अचानक झुकना, भूख न लगना आदि हो सकता है। इसलिए नाभि चक्र का संतुलन बनाए रखना जरूरी है।

पढ़ें :- Side effects of refined oil: अगर खाना पकाने में करती हैं रिफाइंड ऑयल का इस्तेमाल, तो जान ले इसके सेवन से होने वाले ये नुकसान

जो लोग नाभि विस्थापन से पीड़ित होते हैं उन्हें पेट में अत्यधिक दर्द का अनुभव होता है, जो दवा से ठीक नहीं होता है। सबसे पहले ऐसे लोगों को डॉक्टर के पास जाने और जरूरी टेस्ट कराने की सलाह दी जाती है। दूसरे, उन्हें कुछ योग आसनों को दिनचर्या में शामिल करना चाहिए जो नाभि विस्थापन को रोकेंगे। नीचे एक नज़र डालें:

1. उत्तानपादासन:

– दोनों पैरों को आपस में मिला लें और धीरे-धीरे उन्हें 30 डिग्री तक उठाने की कोशिश करें, कुछ सेकेंड के बाद सांस छोड़ें और वापस उसी स्थिति में आ जाएं। (इसे तीन बार दोहराएं।)

– इसके बाद पैरों को 60 डिग्री तक उठाएं और कुछ सेकेंड के बाद वापस पोजीशन में आ जाएं। (इसे तीन बार दोहराएं।)

पढ़ें :- Benefits of papaya leaves juice: पपीता ही नहीं इसके पत्तों में भी छिपा होता है सेहत का खजाना, डेगूं समेत तमाम बीमारियों से देता है छुटकारा

2. अर्ध हलासन

– पैरों को ऊपर की ओर उठाएं।

– आपके पैरों के पंजों को आंखों से मिलाना चाहिए। इसके बाद पैरों को कम से कम 3 से 5 बार ऊपर-नीचे करें।

पढ़ें :- Nestle Row : नेस्ले की गुणवत्ता पर सवाल एक्शन में सरकार , शिशु उत्पादों में अधिक चीनी होने की रिपोर्ट के बाद CCPA ने उठाया ये कदम

3. अर्ध पवनमुक्तासन:

अपने बाएं पैर को छाती की ओर लाएं और फिर दोनों हाथों से पकड़ लें ताकि आप अपने सिर और घुटनों को छू सकें। इस अभ्यास को दाहिने पैर से दोहराएं। (ऐसा कम से कम 3 या 5 बार करें।)

4. मरकासन

पीठ के बल लेट जाएं और घुटनों को मोड़ लें। अब दोनों पैरों को एक साथ दायीं ओर ले जाएं ताकि आप चटाई को छू सकें। इस स्थिति में सिर विपरीत दिशा में होगा।

5. सेतुबंधासन

– योगा मैट पर पीठ के बल लेट जाएं और अपने पैरों को ऊपर की ओर मोड़ लें

पढ़ें :- Benefits bathing hot water bathtub: गर्म पानी के टब में नहाने से बेहतर होती है मेंटल हेल्थ, मेमोरी बढ़ती है और डिप्रेशन होता है कम

– अब सांस भरते हुए अपने हिप्स को ऊपर की तरफ उठाने की कोशिश करें और कुछ सेकेंड तक इसी पोजीशन में रहें।

– कुछ सेकेंड के बाद सांस छोड़ते हुए अपने कूल्हों को नीचे लाएं।

– इस आसन को कम से कम 5 बार करें।

6. सुप्त व्रजासन:

– व्रजासन में बैठ जाएं।

– अपने पैरों को खोलें और अपने कूल्हों को चटाई पर टिकाएं।

पढ़ें :- Word Liver Day: खूब तला भुना, स्प्रिंग रोल, छोला भटूरा खाने में लगाएं थोड़ा लगाम

– अब धीरे-धीरे हाथों को पीछे की ओर ले जाएं और कोहनियों को जमीन पर टिका दें।

– 5-10 सेकेंड तक रुकें और धीरे-धीरे लेट जाएं।

– जितनी देर आप चाहें, इस पोजीशन में रहें।

Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक, यूट्यूब और ट्विटर पर फॉलो करे...