1. हिन्दी समाचार
  2. उत्तर प्रदेश
  3. मानसिक बीमारी से प्रदेश वासियों को निजात दिलाने के लिए योगी सरकार करने जा रही है विशेष प्लानिंग

मानसिक बीमारी से प्रदेश वासियों को निजात दिलाने के लिए योगी सरकार करने जा रही है विशेष प्लानिंग

'जान है तो जहान है' नाम के कार्यक्रम के तहत उत्तर प्रदेश की योगी सरकार मानसिक रोगियों को इस रोग से निजात दिलाने के लिए एक विशेक्ष कार्यक्रम चलाने जा रही है। विभिन्न कारणों से अवसादग्रस्त होकर अपनी जीवन लीला समाप्त करने की कोशिश करने वालों को इस अभियान के जरिए जिंदगी का महत्व समझाया जाएगा।

By प्रिन्स राज 
Updated Date

लखनऊ। ‘जान है तो जहान है’ नाम के कार्यक्रम के तहत उत्तर प्रदेश की योगी सरकार मानसिक रोगियों को इस रोग से निजात दिलाने के लिए एक विशेक्ष कार्यक्रम चलाने जा रही है। विभिन्न कारणों से अवसादग्रस्त होकर अपनी जीवन लीला समाप्त करने की कोशिश करने वालों को इस अभियान के जरिए जिंदगी का महत्व समझाया जाएगा। ऐसे लोगों को चिन्हित करने, उनकी काउंसलिंग, हेल्पलाइन के जरिए उन्हें मदद देने सहित तमाम काम किए जाएंगे। सिर्फ पुलिस रिकॉर्ड में दर्ज आंकड़ों पर नजर डालें तो बीते पांच सालों में देश में आत्महत्या करने की प्रवृत्ति बढ़ी है। वर्ष 2019 में 139123 के मुकाबले 2020 में 153052 लोगों ने आत्महत्या की। केंद्र सरकार मानसिक स्वास्थ्य और आत्महत्या के बढ़ते आंकड़ों को लेकर चिंतित है।

पढ़ें :- श्रमिकों को नहीं करनी पड़ेगी अपने बच्चों के लिए ​उच्च शिक्षा की चिंता, डॉक्टरी-इंजीनियरिंग का भी खर्च उठायेगी सरकार

समाज की मदद से समिति करेगी रोकथाम के प्रयास
यह समिति समाज के विभिन्न वर्गों के प्रमुखजनों को इस अभियान के साथ जोड़ेगी। लोगों और खासकर युवा वर्ग के बीच बढ़ती आत्महत्या की मानसिकता को हेल्पलाइन के जरिए रोकने के साथ ही उन्हें जीने के लिए प्रेरित किया जाएगा। शहरी और ग्रामीण इलाकों में विभिन्न वर्गों के लोगों द्वारा मानसिक रोगों की पहचान और उसके निदान के लिए वालंटियर्स को प्रशिक्षित किया जाएगा।

यूपी में सिर्फ तीन फीसदी मामले
आत्महत्या के मामले में यूपी के आंकड़े अन्य राज्यों की तुलना में काफी अच्छे हैं। यहां आत्महत्या करने वालों की संख्या बहुत कम है। वर्ष 2020 के एनसीआरबी के आंकड़ों को आधार मानें तो सबसे बड़ा प्रदेश होने के बावजूद देश में होने वाली कुल आत्महत्याओं में से यूपी में ऐसे मामले सिर्फ 3.1 फीसदी हैं। जबकि कुल आत्महत्याओं में महाराष्ट्र की हिस्सेदारी 13 फीसदी, तमिलनाडु की 11 फीसदी, मध्य प्रदेश की 9.5 फीसदी, पश्चिम बंगाल में 8.6 फीसदी, कर्नाटक में 08 फीसदी, केरल में 5.6 फीसदी और तेलंगाना व गुजरात में 5.3 फीसदी है।

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:
Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक, यूट्यूब और ट्विटर पर फॉलो करे...