1. हिन्दी समाचार
  2. दुनिया
  3. Afghanistan Crisis: किस्मत ने ली करवट,जर्मनी के लिपजिग में पिज्जा डिलीवरी कर रहे अफगानिस्तान के पूर्व IT मंत्री

Afghanistan Crisis: किस्मत ने ली करवट,जर्मनी के लिपजिग में पिज्जा डिलीवरी कर रहे अफगानिस्तान के पूर्व IT मंत्री

अफगानिस्तान के पूर्व संचार मंत्री की एक ऐसी तस्वीर सामने आयी है, जिस पर यकीन करना मुश्किल है। पूर्व मंत्री सैयद अहमद शाह ने जर्मनी के लिपजिग शहर में शरण ली है, सद्दत यहां पिछले 2 महीने से पिज्जा डिलीवरी ब्वॉय का काम कर रहे है।

By अनूप कुमार 
Updated Date

Afghanistan Crisis: अफगानिस्तान में तालिबान (Taliban) के कब्जे के बाद वहां खौफ का माहौल है। फगानिस्तान ( Afghanistan) में अफरा तफरी के इस माहौल में वहां हर पल कुछ नया घटित हो रहा है। अफगानिस्तान ( Afghanistan) से देश छोड़ कर बाहर जाने के लिए काबुल हवाई अडडे (Kabul Airport) पर कई हजार की भीड़ जमा है। काबुल हवाई अडडे की हालत चिंताजनक बनी हुई है। अफगानिस्तान में तालिबान के खौफ का आलम ये है कि जान बचाने के लिए लोग अपने बच्चों को अमेरिकी सेना के के पास छोड़ रहे है।आम लोगों के साथ सत्ता के शिखर पर बैठे लोग भी देश छोड़कर भाग रहे हैं। अफगानिस्तान के पूर्व संचार मंत्री की एक ऐसी तस्वीर सामने आयी है, जिस पर यकीन करना मुश्किल है। पूर्व मंत्री सैयद अहमद शाह ने जर्मनी के लिपजिग शहर में शरण ली है, सद्दत यहां पिछले 2 महीने से पिज्जा डिलीवरी ब्वॉय का काम कर रहे है।

पढ़ें :- CM yogi ने यूपी में भारी बारिश को देखते हुए अगले दो दिनों तक स्कूल -कॉलेज बंद किया
Jai Ho India App Panchang

तालिबान के डर ने अफगानिस्तान के पूर्व मंत्री सैयद अहमद शाह (Former Minister Syed Ahmed Shah) को राजा से रंक बना दिया। सद्दत बेहद पढ़े लिखे भी हैं, उन्होंने ऑक्सफोर्ड यूनिवर्सिटी (Oxford University) से कम्युनिकेशन में MScs किया है। साथ ही वो इलेक्ट्रिकल इंजीनियर भी हैं। सैयद अहमद शाह ने दुनियाभर के 13 बड़े शहरों में 23 साल अलग-अलग तरह का काम किया है। लेकिन शायद देश छूटा तो किस्मत ने भी साथ छोड़ दिया। इतना पढ़ लिखकर भी वो घर-घर पिज्जा पहुंचाने के लिए मजबूर हैं।

सैयद अहमद शाह ने एक न्यूज एजेंसी से अपना हाल बयां करते हुए कहा कि शुरुआती दिनों में मुझे इस शहर में रहने के लिए कोई काम नहीं मिल रहा था, क्योंकि मुझे जर्मन भाषा नहीं आती है। पिज्जा डिलीवरी का काम फिलहाल मै सिर्फ जर्मन भाषा सीखने के लिए कर रहा हूं। इस नौकरी के जरिए मैं शहर के अलग-अलग हिस्से में घूमकर लोगों से मिल रहा हूं, ताकि आने वाले दिनों में खुद को निखारकर दूसरी नौकरी पा सकूं।

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:
Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक, यूट्यूब और ट्विटर पर फॉलो करे...