1. हिन्दी समाचार
  2. उत्तर प्रदेश
  3. गोरखपुर एम्स व बीआरडी मेडिकल कॉलेज का निरीक्षण कर मुख्य सचिव ने अधिकारियों को दिए ये निर्देश

गोरखपुर एम्स व बीआरडी मेडिकल कॉलेज का निरीक्षण कर मुख्य सचिव ने अधिकारियों को दिए ये निर्देश

यूपी के मुख्य सचिव दुर्गा शंकर मिश्रा ने अपर मुख्य सचिव स्वास्थ्य, अपर मुख्य सचिव वन व अनीता देसाई प्रोफेसर एवं हेड न्यूरोवायरोलाजी निमहंस बैग्लौर के साथ एम्स, 100 बेड वार्ड, आईएमआरसी व 500 बेडेड वार्ड बीआरडी मेडिकल कालेज का निरीक्षण किया। वहां पर स्वास्थ्य सुविधाओं के बारे में जानकारी ली।

By संतोष सिंह 
Updated Date

गोरखपुर । यूपी के मुख्य सचिव दुर्गा शंकर मिश्रा ने अपर मुख्य सचिव स्वास्थ्य, अपर मुख्य सचिव वन व अनीता देसाई प्रोफेसर एवं हेड न्यूरोवायरोलाजी निमहंस बैग्लौर के साथ एम्स, 100 बेड वार्ड, आईएमआरसी व 500 बेडेड वार्ड बीआरडी मेडिकल कालेज का निरीक्षण किया। वहां पर स्वास्थ्य सुविधाओं के बारे में जानकारी ली।

पढ़ें :- इलाज के अभाव में जेई व एईएस से किसी भी बच्चे की जान नहीं जानी चाहिए : मुख्य सचिव

मुख्य सचिव ने सर्व प्रथम एम्स का निरीक्षण किया एम्स की निदेशक के द्वारा मुख्य सचिव को एम्स के द्वारा स्वास्थ्य के क्षेत्र में किये जा रहे कार्यो के बारे में बिस्तार पूर्वक जानकारी देते हुए बताया गया कि एम्स में 15 प्रकार की समान ओपीडी है अभी तक 8 लाख 56 हजार 820 मरीज का ईलाज किया जा चुका है साथ ही 300 बेड का आईपीडी संचालित है एवं 450 बेड का वार्ड शीघ्र ही संचालित हो जायेगा। इसके साथ ही एम्स में इलाज  के लिए आनलाइन पंजीकरण (Online Registration) की सुविधा उपलब्ध है इसमें मरीज आनलाइन पंजीकरण (Online Registration) कराकर अपना इलाज करा सकते है। इसके अलावा एम्स लगातार स्वास्थ्य के क्षेत्र में जागरूकता के लिए भी कार्य कर रहा है।

इसके उपरान्त मुख्य सचिव ने बीआरडी मेडिकल कालेज (BRD Medical College) एवं आईएमआरसी (IMRC)  का निरीक्षण कर वहा के कार्यो को देखा। निरीक्षण के उपरान्त बीआरडी मेडिकल कालेज में प्रधानाचार्य बीआरडी मेडिकल कालेज (BRD Medical College)  के द्वारा जेई/एईएस के रोक थाम के लिए किये गये कार्यो के बारे में बिस्तार पूर्वक जानकारी देते हुए बताया गया कि बीआरडी मेडिकल कालेज (BRD Medical College)  में लगातार सुविधाओं बढ़ोतरी की जा रही है और जेई/एईएस को जड़ से समाप्त करने के लिए कार्य किया जा रहा है।

मुख्य सचिव ने निर्देश दिया कि जेई/एईएस को जड़ से समाप्त करने के लिए आईएमआरसी (IMRC) के साथ मिलकर कार्य करते हुए कार्य करें और एम्स के द्वारा आम लोगो को जागरूक करने के हेतु क्या करे क्या न करे इसके बारे में भी प्रचार प्रसार किया जाये। बैठक में मण्डलायुक्त रवि कुमार एनजी, जिलाधिकारी विजय किरन आनन्द सहित वरिष्ठ अधिकारीगण उपस्थित रहे।

 

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:
Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक, यूट्यूब और ट्विटर पर फॉलो करे...