1. हिन्दी समाचार
  2. उत्तर प्रदेश
  3. Alka Rai Jeevan Parichay: बाहुबली के गढ़ में अलका ने खिलाया कमल, दूसरी बार बनी विधायक

Alka Rai Jeevan Parichay: बाहुबली के गढ़ में अलका ने खिलाया कमल, दूसरी बार बनी विधायक

Alka Rai Jeevan Parichay: पूर्वांचल की कुछ विधानसभा सीटें अक्सर सुर्खियों में रहती है। इन सीटों पर बाहुबली मुख्तार बंधुओं का खास असर माना जाता है। इन्हीं में से एक सीट है गाजीपुर की मोहम्मदाबाद विधानसभा (Mohammadabad Assembly), जो अक्सर सुर्खियों में रहती है। इस सीट से मौजूदा समय भाजपा (BJP) की विधायक अलका राय हैं, जो 2017 के चुनाव में मुख्तार के भाई शिबगतुल्लाह अंसारी को एक लाख से अधिक मतों के अंतर से हराकर विधानसभा पहुंची थीं।

By शिव मौर्या 
Updated Date

Alka Rai Jeevan Parichay: पूर्वांचल की कुछ विधानसभा सीटें अक्सर सुर्खियों में रहती है। इन सीटों पर बाहुबली मुख्तार बंधुओं का खास असर माना जाता है। इन्हीं में से एक सीट है गाजीपुर की मोहम्मदाबाद विधानसभा (Mohammadabad Assembly), जो अक्सर सुर्खियों में रहती है। इस सीट से मौजूदा समय भाजपा (BJP) की विधायक अलका राय हैं, जो 2017 के चुनाव में मुख्तार के भाई शिबगतुल्लाह अंसारी को एक लाख से अधिक मतों के अंतर से हराकर विधानसभा पहुंची थीं। बता दें कि, अलका राय पूर्व विधायक स्व. कृष्णानंद राय की पत्नी हैं। जिनकी बेहरमी से हत्या कर दी गयी थी। इस हत्याकांड की साजिश रचने का आरोप मुख्तार पर लगा था।

पढ़ें :- Rama Shankar Singh Patel jeevan parichay : रमाशंकर दिग्गज कांग्रेसी को हराकर बने विधायक, योगी ने दिया मंत्री पद

जीवन शैली…
अलका राय जिला गाजीपुर के मोहम्मदाबाद विधानसभा सीट से विधायक हैं। भाजपा के टिकट पर इन्होंने 2017 में चुनाव जीता था। इनका जन्म बलिया में 08 सितम्बर, 1962 को हुआ था। इण्टरमीडिएट तक पढ़ाई करने के बाद इनका विवाह कृष्णानन्द राय के साथ मई 1978 हुआ था। इनके दो पुत्र हैं।

राजनीतिक इतिहास…
गाजीपुर के मोहम्मदाबाद विधानसभा सीट से अलका राय दूसरी बार 2017 में बीजेपी की टिकट पर चुनाव जीतकर विधानसभा पहुंची। इन्होंने मुख्तार के भाई शिबगतुल्लाह अंसारी को चुनाव में पटखानी दी थी। इससे पहले वो 2006 में हुए उपचुनाव में पहली बार बीजेपी के टिकट पर चुनाव लड़ी। इस चुनाव में अल्का ने सपा के गामा राम को 33,744 वोटों से हराकर जीत हासिल की थी। हालांकि, 2007 के विधानसभा चुनाव में इन्हें हार का सामना करना पड़ा था। इसके बाद उन्होंने चुनाव नहीं लड़ने का फैसला लिया था। हालांकि, 2017 में ​बीजेपी ने उन्हें फिर से टिकट दिया और वो जीतकर विधानसभा पहुंचे।

ये है पूरा सफरनामा…
नाम — अलका राय
पिता — बागेश्वर राय
जन्मतिथि — 08 सितम्बर, 1962
पति — स्व0 कृष्णानन्द राय
बच्चे — दो पुत्र
शिक्षा — इण्टरमीडिएट
विशेष अभिरूचि — सामाजिक सेवा
विदेश यात्रा — अमेरिका
अन्‍य जानकारी — राज्य सरकार से 10000 रु0 पेन्शन मिलती है

राजनीतिक योगदान
2006-2007 — पन्द्रहवीं विधान सभा (उपचुनाव) की सदस्या प्रथम बार निर्वाचित
मार्च, 2017 — सत्रहवीं विधान सभा की सदस्या दूसरी बार निर्वाचित

पढ़ें :- Ratnakar Mishra jeevan parichay : मां विंध्यवासिनी मंदिर के पुरोहित रत्नाकर मिश्रा बने विधायक, 20 साल बाद खिलाया कमल

पति कृष्णानंद राय की 2005 में हुई थी हत्या
गाजीपुर जिले की मोहम्मदाबाद सीट पर अलका राय के पति कृष्णानंद राय ने 2022 में भाजपा के टिकट से विधायक बने थे। कृ​ष्णानंद राय के विधायक बनने के बाद उनकी अदावत मुख्तार बंधुओं से हो गयी। 2005 में कृष्णानंद राय की हत्या कर दी गयी थी। इस हत्याकांड के बाद पूरे प्रदेश की राजनीति में हड़कंप मच गया था। हत्या का आरोप मुन्ना बजरंगी पर लगा था। साथ ही इस हत्याकांड की साजिश का आरोप मुख्तार अंसारी पर लगा था। इस मामले ने खूब राजनीतिक तूल पकड़ी थी।

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:
Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक, यूट्यूब और ट्विटर पर फॉलो करे...