1. हिन्दी समाचार
  2. उत्तर प्रदेश
  3. दिल्ली से अयोध्या के बीच ‘Bullet Train’ भरी रफ्तार , तो सिर्फ दो घंटे में तय होगी दूरी

दिल्ली से अयोध्या के बीच ‘Bullet Train’ भरी रफ्तार , तो सिर्फ दो घंटे में तय होगी दूरी

केंद्र की मोदी सरकार प्रमुख श्रीराम की नगरी अयोध्या (Ayodhya) को देश के बुलेट ट्रेन (Bullet Train) के नक्शे पर लाने की योजना तैयारी की है। यानी दिल्ली से अयोध्या तक बुलेट ट्रेन (Bullet Train)  चलेगी। अयोध्या को अंतर्राष्ट्रीय पर्यटन (International Tourism) के नक्शे पर और प्रमुखता से लाने के लिए मोदी सरकार (Modi Government) ने यह योजना बनाई है।

By संतोष सिंह 
Updated Date

नई दिल्ली। केंद्र की मोदी सरकार प्रमुख श्रीराम की नगरी अयोध्या (Ayodhya) को देश के बुलेट ट्रेन (Bullet Train) के नक्शे पर लाने की योजना तैयारी की है। यानी दिल्ली से अयोध्या तक बुलेट ट्रेन (Bullet Train)  चलेगी। अयोध्या को अंतर्राष्ट्रीय पर्यटन (International Tourism) के नक्शे पर और प्रमुखता से लाने के लिए मोदी सरकार (Modi Government) ने यह योजना बनाई है।

पढ़ें :- डबल इंजन की सरकार ने  विकास के डबल डोज से प्रदेश को बदला : Dinesh Sharma

बता दें कि अयोध्या में प्रस्तावित मर्यादा पुरुषोत्तम राम अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डे (Maryada Purushottam Ram International Airport) की परियोजना लाने के बाद अब बुलेट ट्रेन भी अयोध्या तक जाएगी। राष्ट्रीय हाई स्पीड रेल कॉरपोरेशन लिमिटेड (National High Speed Rail Corporation Limited) के सूत्रों ने बताया कि दिल्ली से अयोध्या (Ayodhya) तक की 670 किलोमीटर की दूरी 2 घंटे में सिमट जाएगी।

कॉरपोरेशन के उच्च पदस्थ सूत्रों के मुताबिक शुक्रवार को आला अधिकारियों ने अयोध्या का दौरा किया। इसके अलावा वहां बुलेट ट्रेन के स्टेशन, यार्ड, आवासीय सुविधाएं सहित रेल लाइन अलाइनमेंट और अन्य बाकी तमाम सुविधाओं का जायजा भी लिया है। सूत्रों के मुताबिक योजना यह बनाई जा रही है कि अयोध्या में बुलेट ट्रेन का स्टेशन 75 एकड़ में प्रस्तावित इंटरनेशनल एयरपोर्ट (International Airport) के पास होगा। ये लखनऊ गोरखपुर बाईपास (Lucknow Gorakhpur Bypass) से भी काफी नजदीक होगा।

कॉरपोरेशन ने एयरपोर्ट अथॉरिटी ऑफ इंडिया (Airport Authority of India) से इस परियोजना के लिए नो ऑब्जेक्शन सर्टिफिकेट (No Objection Certificate) के लिए भी अर्जी लगाई है। जैसे ही अनापत्ति प्रमाण पत्र मिलेगा, परियोजना का काम आगे बढ़ जाएगा। कॉरपोरेशन के सूत्रों के मुताबिक परियोजना की विस्तृत रिपोर्ट तो बाद में बनेगी, लेकिन यह तय है इस बुलेट ट्रेन परियोजना के लिए दिल्ली-वाराणसी बुलेट ट्रेन से अलग ट्रैक होगा।

दिल्ली-वाराणसी के बीच 941 किलोमीटर का ट्रैक आगरा, लखनऊ, प्रयागराज होते हुए वाराणसी तक जाएगा। लेकिन लखनऊ से अयोध्या का चक्कर लगाने वाला एक अलग ट्रैक होगा जो 130 किलोमीटर का होगा। सभी अत्याधुनिक सुविधाओं से युक्त रहने वाली इस परियोजना का आंकलन शुरू हो गया है। अंदाजा लगाया जा रहा है कि इस परियोजना पर 200 लाख करोड़ रुपए की लागत आएगी।

पढ़ें :- 7th pay commission : मोदी सरकार ने केंद्रीय कर्मचारियों को दिया दिवाली का बड़ा तोहफा, बढ़े DA पर लगी मुहर

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:
Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक, यूट्यूब और ट्विटर पर फॉलो करे...