HBE Ads
  1. हिन्दी समाचार
  2. क्षेत्रीय
  3. Bharat Jodo Nyay Yatra: जब साईकिल पर सवार होकर कोयला बेचने निकल पड़े कांग्रेस नेता ‘राहुल गांधी’, शेयर की तस्वीरें

Bharat Jodo Nyay Yatra: जब साईकिल पर सवार होकर कोयला बेचने निकल पड़े कांग्रेस नेता ‘राहुल गांधी’, शेयर की तस्वीरें

कांग्रेस नेता राहुल गांधी (Rahul Gandhi)  आज सोमवार को एकदम अलग अंदाज में नजर आएं। जब राहुल गांधी (Rahul Gandhi) साईकिल पर कोयला लादकर झारखंड की सड़कों पर निकल पड़े।

By प्रिन्सी साहू 
Updated Date

Rahul Gandhi’ set out to sell coal riding a bicycle: कांग्रेस नेता राहुल गांधी (Rahul Gandhi)  आज सोमवार को एकदम अलग अंदाज में नजर आएं। जब राहुल गांधी (Rahul Gandhi) साईकिल पर कोयला लादकर झारखंड की सड़कों पर निकल पड़े। सोशल मीडिया में राहुल गांधी की ये तस्वीरें खूब वायरल हो रही हैं। सोशल मीडिया के प्लेटफार्म एक्स पर कांग्रेस ने इन तस्वीरों को शेयर किया है।

पढ़ें :- राहुल गांधी ने वायनाड की जनता को लिखा भावुक पत्र, बोले-'आप मेरा घर-मेरा परिवार...'

इन तस्वीरों के साथ कांग्रेस ने अपनी पोस्ट में लिखा है कि-

झारखंड में एक युवा श्रमिक साइकिल पर करीब 200 किलो कोयला लेकर बेचने जा रहा था।

इस युवा ने बताया कि रोज तकरीबन 30-40 किलोमीटर चलना होता है। मेहनत के हिसाब से इस काम में आमदनी बेहद कम है।

भारत निर्माण में लगे इन श्रमिकों को उनकी मेहनत के बराबर मेहनताना मिले, उन्हें न्याय मिले… यही यात्रा का लक्ष्य है।

पढ़ें :- भाजपा राज में शिक्षा व्यवस्था माफियाओं-भ्रष्टाचारियों के हवाले, युवा सारी ऊर्जा गवां रहे हैं भ्रष्टाचार से लड़ने में : प्रियंका गांधी

यात्रा – जनता की समस्याओं को समझने की, सुनने की, उन्हें न्याय दिलाने की। 

आपको बता दें कि झारखंड में कांग्रेस की भारत जोड़ो न्याय यात्रा (Bharat Jodo Nyay Yatra) का आज चौथा दिन है। कांग्रेस नेता राहुल गांधी (Rahul Gandhi) ने सोमवार को अपने यात्रा की शुरुआत रामगढ़ के महात्मा गांधी चौक से की। राहुल गांधी ने इस दौरान साइकिल पर कोयला ले जा रहे युवाओं से मुलाकात की। इतना ही नहीं इस दौरान राहुल गांधी (Rahul Gandhi)  ने कोयले से लदी साईकिल भी चलाई।

वहीं इन तस्वीरों को खुद कांग्रेस नेता राहुल गांधी ने भी शेयर किया है। इन तस्वीरों को शेयर करते हुए राहुल गांधी (Rahul Gandhi) ने अपनी पोस्ट में लिखा है कि-

साइकिल पर 200-200 किलो कोयला लेकर रोज़ 30-40 किलोमीटर चलने वाले इन युवाओं की आय नाम मात्र है। बिना इनके साथ चले, इनके भार को महसूस किए, इनकी समस्याओं को नहीं समझा जा सकता। इन युवा श्रमिकों की जीवनगाड़ी धीमी पड़ी, तो भारत निर्माण का पहिया भी थम जाएगा।

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:
Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक, यूट्यूब और ट्विटर पर फॉलो करे...