1. हिन्दी समाचार
  2. उत्तर प्रदेश
  3. बीजेपी के सह संगठन महामंत्री भवानी सिंह का हैदराबाद PGI में कोरोना से निधन, जेपी नड्डा ने जताया शोक

बीजेपी के सह संगठन महामंत्री भवानी सिंह का हैदराबाद PGI में कोरोना से निधन, जेपी नड्डा ने जताया शोक

यूपी में कोरोना महामारी का कहर बढ़ता ही जा रहा है। इस महामारी से तमाम वीआईपी भी खुद को नहीं बचा पा रहे हैं। एक हफ्ते में तीन विधायकों की मौत के बाद बुधवार को भाजपा के प्रदेश सह संगठन महामंत्री भवानी सिंह का कोरोना से निधन हो गया है। भवानी सिंह की हालत बिगड़ने के बाद लखनऊ पीजीआई से एयर एम्बुलेंस से सोमवार को हैदराबाद भेजा गया था।

By संतोष सिंह 
Updated Date

नई दिल्ली। यूपी में कोरोना महामारी का कहर बढ़ता ही जा रहा है। इस महामारी से तमाम वीआईपी भी खुद को नहीं बचा पा रहे हैं। एक हफ्ते में तीन विधायकों की मौत के बाद बुधवार को भाजपा के प्रदेश सह संगठन महामंत्री भवानी सिंह का कोरोना से निधन हो गया है। भवानी सिंह की हालत बिगड़ने के बाद लखनऊ पीजीआई से एयर एम्बुलेंस से सोमवार को हैदराबाद भेजा गया था।

पढ़ें :- पूर्व केंद्रीय मंत्री व बीजेपी सांसद मेनका गांधी कोरोना पॉजिटिव, घर में क्वारंटीन

भवानी सिंह के निधन पर भाजपा अध्यक्ष जेपी नड्डा ने शोक जताते हुए कहा कि भारतीय जनता पार्टी, उत्तर प्रदेश के सह-संगठन महामंत्री भवानी सिंह के निधन का समाचार अत्यंत दुःखद है। उनका जाना संगठन के लिए अपूरणीय क्षति है। ईश्वर पुण्यात्मा को अपने श्रीचरणों में स्थान दें। ॐ शांति !

पढ़ें :- बॉलीवुड अभिनेत्री कंगना रनौत कोरोना संक्रमित, कहा-आइए इस कोविड-19 को खत्म करें

काशी व गोरक्ष प्रांत के संगठन मंत्री भवानी सिंह पिछले दिनों कोरोना से संक्रमित हो गए थे। आनन फानन उन्हें लखनऊ पीजीआई में भर्ती कराया गया। चेस्ट में संक्रमण की शिकायत बढ़ने के बाद उनकी हालत बिगड़ गई थी। इसके बाद सीएम योगी के निर्देश पर सोमवार की सुबह हैदराबाद ले जाया गया है। वहां भी उनकी हालत गंभीर बनी हुई थी। बुधवार की सुबह उन्होंने अंतिम सांस ली।

पिछले महीने एक ही हफ्ते में तीन विधायकों रमेश चंद्र दिवाकर, सुरेश श्रीवास्तव और केसर सिंह की कोरोना से मौत हो चुकी है। अब तक पांच विधायकों की कोरोना से जान जा चुकी है। कोरोना की पहली लहर में पिछले साल दो मंत्री चेतन चौहान व वरुण रानी भी दिवंगत हो गए थे।

यूपी की 17वीं विधानसभा में अब तक एक दर्जन विधायकों की मृत्यु हो चुकी है। इनमें कम से कम 5 विधायक तो कोरोना के ही शिकार हो गए। कोविड संक्रमण के चलते ही पिछले साल व इस साल विधानमंडल सत्र भी सोशल डिस्टेंसिंग व कोविड प्रोटोकाल के तहत संक्षिप्त समय के लिए ही आहुत किए गए थे।

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:
Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक, यूट्यूब और ट्विटर पर फॉलो करे...