1. हिन्दी समाचार
  2. एस्ट्रोलोजी
  3. Dhanteras 2021 : आज जरूर करें ये आरती, मां लक्ष्मी की बरसेगा कृपा होंगे मालामाल

Dhanteras 2021 : आज जरूर करें ये आरती, मां लक्ष्मी की बरसेगा कृपा होंगे मालामाल

Dhanteras 2021 : धनतेरस (Dhanteras)  के पावन पर्व से दिवाली के महापर्व की शुरुआत हो जाती है। धार्मिक कथाओं के अनुसार इसी दिन समुद्र मंथन के दौरान भगवान धन्वंतरि (Lord Dhanvantari)  अमृत कलश (Amrit Kalash) लेकर प्रकट हुए थे। इस दिन विधि- विधान से भगवान गणेश, माता लक्ष्मी, भगवान धन्वंतरि और कुबेर जी की पूजा- अर्चना की जाती है। भगवान को प्रसन्न करने के लिए आरती जरूर करें। आगे पढ़ें भगवान गणेश(Lord Ganesha), माता लक्ष्मी(Mata Lakshmi), भगवान धन्वंतरि (Lord Dhanvantari) और कुबेर जी (Kuber ji)  की आरती-

By संतोष सिंह 
Updated Date

Dhanteras 2021 : धनतेरस (Dhanteras)  के पावन पर्व से दिवाली के महापर्व की शुरुआत हो जाती है। धार्मिक कथाओं के अनुसार इसी दिन समुद्र मंथन के दौरान भगवान धन्वंतरि (Lord Dhanvantari)  अमृत कलश (Amrit Kalash) लेकर प्रकट हुए थे। इस दिन विधि- विधान से भगवान गणेश, माता लक्ष्मी, भगवान धन्वंतरि और कुबेर जी की पूजा- अर्चना की जाती है। भगवान को प्रसन्न करने के लिए आरती जरूर करें। आगे पढ़ें भगवान गणेश(Lord Ganesha), माता लक्ष्मी(Mata Lakshmi), भगवान धन्वंतरि (Lord Dhanvantari) और कुबेर जी (Kuber ji)  की आरती-

पढ़ें :- Dhanteras Katha : आज के दिन जरूर सुनें मां लक्ष्मी की ये कथा, 13 गुना बढ़ेगा धन

 

भगवान गणेश की आरती

जय गणेश, जय गणेश, जय गणेश देवा।
माता जाकी पार्वती, पिता महादेवा।।

एकदंत, दयावन्त, चार भुजाधारी,
माथे सिन्दूर सोहे, मूस की सवारी।
पान चढ़े, फूल चढ़े और चढ़े मेवा,
लड्डुअन का भोग लगे, सन्त करें सेवा।। ..
जय गणेश, जय गणेश, जय गणेश, देवा।
माता जाकी पार्वती, पिता महादेवा।।

पढ़ें :- जाने आखिर क्यों दीवाली से पहले धनतेरस की पूजा की जाती है

अंधन को आंख देत, कोढ़िन को काया,
बांझन को पुत्र देत, निर्धन को माया।
‘सूर’ श्याम शरण आए, सफल कीजे सेवा।।
जय गणेश जय गणेश जय गणेश देवा ..
माता जाकी पार्वती, पिता महादेवा।

दीनन की लाज रखो, शंभु सुतकारी।
कामना को पूर्ण करो जय बलिहारी।

माता लक्ष्मी की आरती

ॐ जय लक्ष्मी माता, मैया जय लक्ष्मी माता

तुमको निशदिन सेवत, मैया जी को निशदिन * सेवत हरि विष्णु विधाता

पढ़ें :- Dhanteras 2022 : धनतेरस के दिन भगवान धन्वंतरि की विशेष पूजा होती है, तिथि और मुहूर्त के बारे में जानें

ॐ जय लक्ष्मी माता-2

उमा, रमा, ब्रह्माणी, तुम ही जग-माता

सूर्य-चन्द्रमा ध्यावत, नारद ऋषि गाता

ॐ जय लक्ष्मी माता-2

दुर्गा रूप निरंजनी, सुख सम्पत्ति दाता

जो कोई तुमको ध्यावत, ऋद्धि-सिद्धि धन पाता

पढ़ें :- देश के इस रहस्यमयी मंदिर में जाते ही भक्त हो जाते हैं मालामाल! प्रसाद में मिलते हैं गहने

ॐ जय लक्ष्मी माता-2

तुम पाताल-निवासिनि, तुम ही शुभदाता

कर्म-प्रभाव-प्रकाशिनी, भवनिधि की त्राता

ॐ जय लक्ष्मी माता-2

जिस घर में तुम रहतीं, सब सद्गुण आता

सब सम्भव हो जाता, मन नहीं घबराता

ॐ जय लक्ष्मी माता-2

पढ़ें :- Dhanteras 2021: धनतेरस के दिन करें ये अचूक उपाय, मिलेगी आर्थिक संकटों से मुक्ति

तुम बिन यज्ञ न होते, वस्त्र न कोई पाता

खान-पान का वैभव, सब तुमसे आता

ॐ जय लक्ष्मी माता-2

शुभ-गुण मन्दिर सुन्दर, क्षीरोदधि-जाता

रत्न चतुर्दश तुम बिन, कोई नहीं पाता

ॐ जय लक्ष्मी माता-2

महालक्ष्मीजी की आरती, जो कोई नर गाता

उर आनन्द समाता, पाप उतर जाता

ॐ जय लक्ष्मी माता-2

ॐ जय लक्ष्मी माता, मैया जय लक्ष्मी माता

तुमको निशदिन सेवत,

मैया जी को निशदिन सेवत हरि विष्णु विधाता

ॐ जय लक्ष्मी माता।

भगवान धन्वंतरि की आरती

जय धन्वंतरि देवा, जय धन्वंतरि जी देवा।

जरा-रोग से पीड़ित, जन-जन सुख देवा।।जय धन्वं.।।

तुम समुद्र से निकले, अमृत कलश लिए।

देवासुर के संकट आकर दूर किए।।जय धन्वं.।।

आयुर्वेद बनाया, जग में फैलाया।

सदा स्वस्थ रहने का, साधन बतलाया।।जय धन्वं.।।

भुजा चार अति सुंदर, शंख सुधा धारी।

आयुर्वेद वनस्पति से शोभा भारी।।जय धन्वं.।।

तुम को जो नित ध्यावे, रोग नहीं आवे।

असाध्य रोग भी उसका, निश्चय मिट जावे।।जय धन्वं.।।

हाथ जोड़कर प्रभुजी, दास खड़ा तेरा।

वैद्य-समाज तुम्हारे चरणों का घेरा।।जय धन्वं.।।

धन्वंतरिजी की आरती जो कोई नर गावे।

रोग-शोक न आए, सुख-समृद्धि पावे।।जय धन्वं.।।

कुबेर जी की आरती

ऊँ जै यक्ष कुबेर हरे,
स्वामी जै यक्ष जै यक्ष कुबेर हरे ।
शरण पड़े भगतों के,
भण्डार कुबेर भरे ।
॥ ऊँ जै यक्ष कुबेर हरे…॥

शिव भक्तों में भक्त कुबेर बड़े,
स्वामी भक्त कुबेर बड़े ।
दैत्य दानव मानव से,
कई-कई युद्ध लड़े ॥
॥ ऊँ जै यक्ष कुबेर हरे…॥

स्वर्ण सिंहासन बैठे,
सिर पर छत्र फिरे,
स्वामी सिर पर छत्र फिरे ।
योगिनी मंगल गावैं,
सब जय जय कार करैं ॥
॥ ऊँ जै यक्ष कुबेर हरे…॥

गदा त्रिशूल हाथ में,
शस्त्र बहुत धरे,
स्वामी शस्त्र बहुत धरे ।
दुख भय संकट मोचन,
धनुष टंकार करें ॥
॥ ऊँ जै यक्ष कुबेर हरे…॥

भांति भांति के व्यंजन बहुत बने,
स्वामी व्यंजन बहुत बने ।
मोहन भोग लगावैं,
साथ में उड़द चने ॥
॥ ऊँ जै यक्ष कुबेर हरे…॥

बल बुद्धि विद्या दाता,
हम तेरी शरण पड़े,
स्वामी हम तेरी शरण पड़े ।
अपने भक्त जनों के,
सारे काम संवारे ॥
॥ ऊँ जै यक्ष कुबेर हरे…॥

मुकुट मणी की शोभा,
मोतियन हार गले,
स्वामी मोतियन हार गले ।
अगर कपूर की बाती,
घी की जोत जले ॥
॥ ऊँ जै यक्ष कुबेर हरे…॥

यक्ष कुबेर जी की आरती,
जो कोई नर गावे,
स्वामी जो कोई नर गावे ।
कहत प्रेमपाल स्वामी,
मनवांछित फल पावे ॥
॥ इति श्री कुबेर आरती ॥

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:
Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक, यूट्यूब और ट्विटर पर फॉलो करे...